सामयिक विषय: रक्षा/विज्ञान संक्षिप्तिकी

सरस्वती सुपरक्लस्टर की खोज

Discovering the Saraswati Super Cluster

अधिकांश वैज्ञानिक यह मानते हैं कि प्रारंभिक ब्रह्मांड में ऊर्जा एवं पदार्थ का वितरण असमान था। घनत्व में आरंभिक भिन्नता के कारण गुरुत्वाकर्षण बलों में भिन्नता आई। इससे पदार्थ का एकत्रण हुआ, जिसने आकाशगंगाओं के विकास को आधार प्रदान किया।

‘तेजस’ से मिसाइल का सफल परीक्षण

Successful test of missile from Tejas

पृष्ठभूमि वर्तमान समय में लड़ाकू विमान प्रत्येक देश की सुरक्षा तैयारियों के के महत्वपर्ण्ूा अंग हैं। भारतीय वायु सेना को स्वदेशी युद्धक विमान से लैस करने का सपना जुलाई, 2016 में साकार हुआ, जब हल्के लड़ाकू विमान (LCA) तेजस को

राष्ट्रीय उन्नत अल्ट्रा सुपर क्रिटिकल प्रौद्योगिकी मिशन

National Advanced Ultra Supercritical Technology Mission

पृष्ठभूमि कोयला भारत में ऊर्जा का मुख्य स्रोत है। देश का 66 प्रतिशत विद्युत उत्पादन कोयले पर निर्भर है। भारत का मौजूदा कोयला भंडार 286 बिलियन टन अनुमानित है जबकि प्रमाणित कोयला भंडार 114 बिलियन टन है। 31 मई, 2017

जूनो : बृहस्पति पर तूफान की खोज

Joono storm on Jupiter

‘जूनो’ (Juno) अमेरिकी अंतरिक्ष अनुसंधान परिषद, नासा (NASA) द्वारा हमारे सौरमंडल के पांचवें ग्रह बृहस्पति (Jupiter) पर अध्ययन करने हेतु 5 अगस्त, 2011 को पृथ्वी से प्रक्षेपित किया गया। लगभग 5 वर्षों की लंबी अंतरिक्ष यात्रा के पश्चात नासा का

फ्लोटिंग डॉक ‘एफडीएन-2’ का जलावतरण

Floating dock FDN 2 launch

न्नौसेना का ‘फ्लोटिंग डॉक’ (Floating Dock) युद्धपोतों एवं पनडुब्बियों का नियमित रख-रखाव एवं मरम्मत करने वाला समुद्र में स्थित स्थान है। भारतीय नौसेना के युद्धपोतों का रख-रखाव एवं मरम्मत करने वाले अधिकांश डॉक स्थल आधारित है। यह पाया गया है

पर्यावरणीय प्रभाव सर्वेक्षण, 2017

chitale committee report 2017

यूनाइटेड किंगडम (UK) स्थित वित्तीय सेवा वेबसाइट ‘मनी सुपर मार्केट’ (Money Super Market) ने ‘पर्यावरणीय प्रभाव सर्वेक्षण, 2017’ जारी किया है। यह सर्वेक्षण जलवायु पर पड़ने वाले प्रति व्यक्ति प्रभाव पर केंद्रित है। सर्वेक्षण में 102 देशों को रैंकिंग प्रदान

दक्षिण एशिया उपग्रह का प्रक्षेपण

South Asia launch of satellite

पृष्ठभूमि 26 मई, 2014 को अपने शपथ ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दक्षिण एशियाई देशों के राष्ट्राध्यक्षों/प्रधानमंत्रियों को आमंत्रित कर इन देशों के साथ भारत के संबंधों के एक नए दृष्टिकोण का संकेत दिया था। जून, 2014 में

एचपीएमपी : एक कदम बेहतर पर्यावरण की ओर

One step towards better environment

भूमिका प्रकृति के प्रति मनुष्य का रवैया इस्तेमालवादी है। योग्यतम की उत्तरजीविता (Survival of the Fittest) के तहत मानव ने एक प्रजाति के रूप में निरंतर ही अपने जीवन संघर्ष को कम किया है। इस प्रयास में आज विभिन्न पर्यावरणीय

आईएनएस कारवाड़ एवं काकीनाड़ा सेवामुक्त

INS Karwara and Kakinada Retired

दुश्मन द्वारा समुद्र में बिछाई गई बारूदी सुरंगों का पता लगाकर उन्हें नष्ट कर बंदरगाहों को सुरक्षित रखने में ‘सुरंग-भेदी पोतों’ (Minesweeper Ships) की भूमिका अहम होती है। उल्लेखनीय है कि भारी यातायात वाले समुद्री मार्गों में विरोधी ताकतें अक्सर

भारतीय युद्धपोतों की ग्रीस, मिस्र एवं सऊदी अरब यात्रा

Greece, Egypt and Saudi Arabia travels of Indian warships

हाल के वर्षों में सोमालिया के तट पर समुद्री डकैती सहित इस क्षेत्र की अन्य प्रमुख समुद्री चुनौतियों से निपटने के लिए भारतीय नौसैनिक परिसंपत्तियों को लगातार तैनात किया जाता रहा है। इसके अतिरिक्त भारतीय नौसेना हिंद महासागर क्षेत्र में

दाबित भारी जल रिएक्टरों के निर्माण को मंजूरी

Sanctioned construction of heavy water reactors

10 रिएक्टरों का निर्माण भारत में बढ़ती विद्युत की मांग को पूरा करने और विद्युत की मांग एवं आपूर्ति के अंतराल को समाप्त करने के लिए नाभिकीय ऊर्जा एक महत्वपूर्ण साधन है। इसके लिए भारत के घरेलू नाभिकीय ऊर्जा कार्यक्रम

कलामसैट : विश्व का सबसे छोटा उपग्रह

Soli Bacillus Kalamis: newly discovered bacteria

अमेरिका की अंतरिक्ष संस्था ‘नासा’ (NASA) और ‘आई डूडल लर्निंग (I Doodle Learning) संगठन द्वारा ‘क्यूब्स इन स्पेस’ (Cubes in Space) प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। प्रतियोगिता में 57 देशों की टीमों द्वारा उपग्रहों की 86 हजार डिजाइनें प्रस्तुत की

सोलीबैकिलस कलामी : नव-अन्वेषित जीवाणु

Soli Bacillus Kalamis: newly discovered bacteria

सूक्ष्मजीव जैसे जीवाणु इत्यादि सर्वव्यापी होते हैं। यह मृदा, जल, वायु, मनुष्य एवं अन्य प्राणियों के शरीर के अंदर तथा पादपों में पाए जाते हैं। यहां तक कि अंतरिक्ष, जहां किसी भी प्रकार का जीवन संभव नहीं है, वहां भी

सीरिया युद्ध-सुरक्षित क्षेत्र समझौता

Syria War-Secure Area Agreement

3-5 मई, 2017 के मध्य कजाख्स्तान में अस्ताना वार्ता का चौथा दौर संपन्न हुआ। इस वार्ता में रूस, ईरान एवं तुर्की ने सीरिया में चार युद्ध-सुरक्षित क्षेत्रों के निर्माण के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किए। इसमें सबसे बड़ा सुरक्षित क्षेत्र

सोलीबैकिलस कलामी : नव-अन्वेषित जीवाणु

Solbeckels Kalamis newly discovered bacteria

सूक्ष्मजीव जैसे जीवाणु इत्यादि सर्वव्यापी होते हैं। यह मृदा, जल, वायु, मनुष्य एवं अन्य प्राणियों के शरीर के अंदर तथा पादपों में पाए जाते हैं। यहां तक कि अंतरिक्ष, जहां किसी भी प्रकार का जीवन संभव नहीं है, वहां भी

WHO ग्लास (GLAAS) रिपोर्ट, 2017

WHO glaas report,2017

‘स्वच्छता एवं पेयजल का वैश्विक विश्लेषण तथा आकलन’ (GLAAS) संयुक्त राष्ट्र-जल (UN-Water) की एक पहल है। इस पहल का क्रियान्वयन ‘विश्व स्वास्थ्य संगठन’ (WHO) द्वारा किया जाता है। ग्लास (GLAAS) का उद्देश्य सभी स्तरों पर नीति निर्माताओं को निवेश का

अग्नि-II मिसाइल का परीक्षण

Successful test of agni-2

अग्नि मिसाइल अग्नि भारत द्वारा विकसित मध्यम से अंतर्महाद्वीपीय रेंज की बैलिस्टिक मिसाइलों की एक शृंखला है। अग्नि शृंखला की सभी मिसाइलें सतह-से-सतह पर मार करने वाली मिसाइलें हैं। अग्नि-I, अग्नि-II, अग्नि-III और अग्नि-IV को भारतीय सशस्त्र सेनाओं में तैनात

ई-विन परियोजना

E-vin project

मई, 2017 में पांच देशों नामतः फिलीपींस, थाईलैंड, इंडोनेशिया, बांग्लादेश और नेपाल का एक अंतरराष्ट्रीय प्रतिनिधिमंडल भारत आया। प्रतिनिधिमंडल की भारत यात्रा का उद्देश्य भारत की स्वदेश में विकसित ई-विन परियोजना के संबंध में जानकारी प्राप्त करना था। यह प्रतिनिधिमंडल