Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

हवाना सिंड्रोम

Havana syndrome
  • वर्तमान परिप्रेक्ष्य
  • 6 दिसंबर‚ 2020 को नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज (एनएएस) द्वारा प्रकाशित रिपोर्ट में वर्ष 2016 के अंत में‚ हवाना में कार्यरत अमेरिकी राजनयिकों और उच्च कर्मचारियों को अजीब आवाज सुनने और अजीब शारीरिक संवेदनाओं का अनुभव करने के बाद बीमार पड़ गए थे।
  • इस रहस्यमयी न्यूरोलॉजिकल बीमारी के लगभग चार वर्ष बाद इसे ‘हवाना सिंड्रोम’ संदर्भित व निर्देशित माना और ‘माइक्रोवेव विकिरण’ को इसका प्रमुख कारण माना गया।
  • हवाना सिंड्रोम क्या है?
  • हवाना में कार्यरत अमेरिकी राजनयिक व अन्य कर्मचारी अपने होटल के कमरों में अजीब आवाज सुनने व अजीब शारीरिक उत्तेजना महसूस करने के बाद बीमार पड़ गए‚ इस रहस्यमयी न्यूरोलॉजिकल बीमारी को ‘हवाना सिंड्रोम’ नाम दिया गया।
  • हवाना सिंड्रोम के लक्षण
  • जी मिचलाना‚ गंभीर सिरदर्द‚ थकान‚ चक्कर आना‚ निद्रा की समस्या‚ श्रवण शक्ति की हानि इत्यादि।
  • हवाना सिंड्रोम के कारण
  • नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज ने अपनी रिपोर्ट में (डायरेक्टेड पल्सड आरएफ एनर्जी) निर्देशित स्पंदित आरएफ ऊर्जा या निर्देशित माइक्रोवेव विकिरण को इसका प्रमुख कारण माना।
  • महत्वपूर्ण तथ्य
  • क्यूबा और चीन में अमेरिकी राजनयिकों और उनके परिवार के सदस्यों को माइक्रोवेव हथियारों (हवाना सिंड्रोम) का प्रयोग करके निशाना बनाया गया था।
  • अमेरिकी सरकार ने सिंड्रोम से प्रभावित कर्मचारियों को दीर्घकालिक आपातकालीन सुरक्षा लाभ प्रदान करने के लिए नए रक्षा प्राधिकरण बिल में एक प्रावधान भी शामिल किया।
  • माइक्रोवेव हथियार क्या है?
  • यह एक प्रकार का प्रत्यक्ष ऊर्जा हथियार है।
  • जो लक्ष्य पर ध्वनि‚ लेजर या माइक्रोवेव के रूप में अत्यधिक ऊर्जा केंद्रित करता है।
  • उच्च तीव्रता वाले माइक्रोवेव ऊर्जा के संपर्क में आने वाले लोगों को एक अजीब ध्वनि या उत्तेजना का अनुभव होता है।
  • जिससे तीव्र व गंभीर शारीरिक क्षति हो सकती है‚ जिसका प्रभाव दीर्घकालिक हो सकता है।
  • माइक्रोवेव हथियार वाले देश
  • चीन (पॉली डब्ल्यूबी-1)
  • यूएसए (USA) (ऐक्टिव डेनियल सिस्टम)
  • निष्कर्ष
  • वस्तुत: ‘हवाना सिंड्रोम’ निर्देशित और अत्यधिक केंद्रित माइक्रोवेव ऊर्जा युक्त हमला है। हाल ही में प्रकाशित नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज की रिपोर्ट इस तरह के अज्ञात खतरों के प्रति हमें सावधान करती है और ऐसी घटनाओं से निपटने के लिए एक प्रतिक्रिया तंत्र स्थापित करने का सुझाव भी देती है।

सं. कन्हैया ‘कृष्णा’