Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

याओगन-33 उपग्रह

Yogan-33 Satellite
  • वर्तमान परिप्रेक्ष्य
  • 27 दिसंबर‚ 2020 को चीन ने रिमोट सेंसिंग उपग्रह याओगन-33 (Yaogan-33) को लांग मार्च-4C (Long March-4C) रॉकेट से अंतरिक्ष में सफलतापूर्वक प्रक्षेपित किया।
  • चीन द्वारा यह प्रक्षेपण उत्तर-पश्चिम चीन में स्थित जियुक्वान उपग्रह प्रक्षेपण केंद्र (Jiuquan Satellite Launch Center) से किया गया।
  • महत्वपूर्ण तथ्य
  • इस मिशन द्वारा एक सूक्ष्म और नैनो प्रौद्योगिकी प्रयोग उपग्रह (Micro and Nano Technology Experiment Satellite) को भी कक्षा में प्रक्षेपित किया गया।
  • यह लांग मार्च रॉकेट (Long March Rocket) की 357वीं उड़ान थी।
  • उद्देश्य – इन दोनों उपग्रहों का उपयोग वैज्ञानिक प्रयोग‚ भूमि संसाधन सर्वेक्षण‚ फसल उपज अनुमान लगाने और आपदा प्रबंधन में किया जाएगा।
  • पूर्व मिशन
  • 22 दिसंबर‚ 2020 को लांच मार्च ने अपनी 356वीं उड़ान भरी थी‚ जब लांग मार्च-8 (Long March-8) रॉकेट द्वारा पांच उपग्रहों को उनकी कक्षा में सफलतापूर्वक प्रक्षेपित किया गया। यह लांग मार्च-8 रॉकेट शृंखला की पहली उड़ान थी।
  • लांग मार्च-8 एक पुन: प्रयोज्य रॉकेट (Reusable Rockets) है‚ जिसके विकास का उद्देश्य प्रक्षेपण मिशन की लागत को कम करना एवं वाणिज्यिक उड़ानों की ओर अग्रसर होना है।
  • अन्य तथ्य
  • चीन की सरकारी अंतरिक्ष संस्था का नाम चीन के राष्ट्रीय अंतरिक्ष प्रशासन (China National Space Adminstration) है‚ जिसकी स्थापना वर्ष 1993 में की गई थी।
  • अंतरिक्ष क्षेत्र में विकास के लिए चाइना एकेडमी ऑफ स्पेस टेक्नोलॉजी की स्थापना वर्ष 1968 में की गई‚ इसी ने 24 अप्रैल‚ 1970 को चीन के पहले उपग्रह डॉन्ग फॉन्ग हॉन्ग-1 (Dong Fong Hong-1) को सफलतापूर्वक प्रक्षेपित किया।
  • यह प्रक्षेपण लांग मार्च-1 (Long March-1) रॉकेट से किया गया‚ जो लांग मार्च रॉकेट की भी पहली उड़ान थी।

सं. महेश चंद्र शुक्ल