Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

मातृ मृत्‍यु दर और गर्भपात में वृद्धि : लैंसेट रिपोर्ट

Maternal mortality and abortion on the rise: Lancet report

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 31मार्च, 2021 को ‘द लैंसेट ग्लोबल हेल्थ जर्नल’ (The Lancet Global Health Journal) में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, कोविड- 19 महामारी के कारण मातृ मृत्‍यु (Maternal deaths) दर और गर्भपात (Still births) के मामलों में वृद्धि हुई है।
  • यह रिपोर्ट 40 अध्ययनों के विश्लेषण के आधार पर प्रकाशित की गई है।
  • इस रिपोर्ट में ब्राजील, अमेरिका, मेक्‍सिको, कनाडा, डेनमार्क, नीदरलैंड्स, इटली, यू.के., भारत, नेपाल और चीन सहित 17 देशों की स्वास्थ्य स्थिति का अध्ययन शामिल है।

रिपोर्ट के मुख्य बिंदु
वैश्विक स्थिति पर कोविड-19 का प्रभाव :

  • गर्भावस्था या प्रसव के दौरान मातृ मृत्‍यु दर लगभग एक तिहाई बढ़ गई है।
  • गर्भपात के मामलों में लगभग 28 प्रतिशत की वृद्धि हुई। है।
  • मातृ अवसाद (Maternal depression) में भी वृिद्ध दर्ज की गई है।
  • र्भावस्था पर कोविड-19 का प्रभाव तुलनात्मक रूप से गरीब देशों में अधिक देखा गया है।
  • रिपोर्ट के मुताबिक नेपाल में अस्पताल में होने वाले प्रसवों की संख्या में कमी को सर्वाधिक रूप से देखा गया।
  • यू.के. में कुल गर्भवती महिलाओं की मौतों में से लगभग 88 प्रतिशत मौतें अल्‍पसंख्यक जातीय समूहों (Minority ethnic group) से संबंधित महिलाओं की हुई।
 महामारी के दौरानमहामारी के पहले
गर्भपात मातृ मृत्‍यु दर1099/ 168,295 530/ 1,237,0181325/ 198,993 698/2, 224,859

भारत के संदर्भ में रिपोर्ट :,

  • स्वास्थ प्रबंधन सूचना प्रणाली (Health Management Information System : HMIS) डेटा के विश्लेषण के अनुसार, वर्ष 2020 में अप्रैल और जून के बीच राष्ट्रीय लॉकडाउन के दौरान वर्ष 2019 की इसी अवधि की तुलना में अंतर देखा गया :

कारण :

  • स्वास्थ देखभाल प्रणाली की अक्षमता और महामारी का सामना करने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन के कारण स्वास्थ देखभाल सेवाओं तक पहुंच कम हो गई।
  • व्यापक सामाजिक परिवर्तन भी मातृ-स्वास्थ में गिरावट के कारण हैं- जैसे-घरेलू हिंसा, रोजगार की हानि आदि

भारत में मातृ और बाल स्वास्थ्य से संबंधित पहल

आगे की राह :

  • कम संसाधन वाले क्षेत्रों में मातृ और शिशु मृत्‍यु दर को कम करने के लिए निवेश में वृिद्ध की जानी चाहिए।
  • इसके साथ ही स्वास्थ सेवा नेतृत्‍वकर्ताओं द्वारा तत्‍काल वैश्विक सुरक्षा सुनिश्चित करना।
  • सुरक्षित और सम्मानजनक मातृत्‍व देखभाल के संरक्षण हेतु मज़बूत रणनीतियों का निरीक्षण किया जाना चाहिए।

सं. आदित्‍य भारद्वाज

Post a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: