Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

मर्चेंट डिजिटाइजेशन सम्मेलन, 2021

Merchant Digitization Conference, 2021
  • वर्तमान परिप्रेक्ष्य
  • 2 मार्च, 2021 को मर्चेंट डिजिटाइजेशन सम्मेलन, 2021 का आयोजन किया गया।
  • इस सम्मेलन की मेजबानी भारत सरकार (वित्त मंत्रालय), भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ (Federation of Indian Chambers of Commerce and Industry : FICCI) और संयुक्त राष्ट्र के ‘बेटर दैन कैश एलायंस’ (UN-based Better Than Cash Alliance) द्वारा की गई।
  • विषय (Theme)/फोकस क्षेत्र
  • इस सम्मेलन का मूल विषय था ‘‘मर्चेंट डिजिटाइजेशन, 2021 हिमालयी क्षेत्रों, उत्तर-पूर्व क्षेत्रों और आकांक्षी जिलों पर विशेष ध्यान देते हुए आत्‍म निर्भर भारत की ओर बढ़ना’’।
  • पृष्ठभूमि
  • भारत ने प्रतिमाह औसतन 2-3 अरब डिजिटल लेन -देन करने के बाद अब प्रतिदिन 1 बिलियन डिजिटल लेन-देन का महत्‍वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित किया है।
  • इसके तहत ग्राहक से कारोबारी (Person to Merchant : P2M) के बीच प्रतिमाह 10-12 अरब डिजिटल लेन-देन भारत की डिजिटल अर्थव्यवस्था में योगदान देगा।

संबंधित अन्य पहलें :

  • उद्देश्य
  • इस सम्मेलन से सार्वजनिक एवं नीजी क्षेत्र के अग्रणी लोगों की एक साथ आने में सहयोग मिलेगा।
  • उन महिला व्यापारियों को सशक्त बनाना, जो अपने समुदायों में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।
  • डिजिटल इंडिया मिशन को सफल बनाने में मदद करना, इनकी प्राथमिकताओं में से एक है।
  • आत्‍मनिर्भर भारत योजना के माध्यम से ‘मेक इन इंडिया’ पर अधिक ध्यान केंद्रित करते हुए जवाबदेह डिजिटलीकरण द्वारा ग्रामीण नेटवर्क में स्व-सहायता समूह (Self Help Groups: SHG) और समुदाय के स्तर पर लोगों को शामिल करना।
  • इससे लाखों व्यापारियों को औपचारिक अर्थव्यवस्था में शामिल करने हेतु स्थानीय स्तर पर डिजिटल पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण किया जा सकेगा, ताकि वे आसानी से कर्ज लेकर अपने व्यापार का विस्तार कर सकें।
  • प्रमुख बिंदु:
  • सम्मेलन से पूर्वोत्तर क्षेत्र, हिमालय क्षेत्र और आकांक्षी जिलों के कारोबारियोंे को जवाबदेह डिजिटलीकरण (Responsible Digitization) को बढ़ावा देने हेतु प्रेरणा मिलेगी।
  • यह शिखर सम्मेलन सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के बीच अनुभवों को साझा करने की श्रृंखला का हिस्सा था।
  • इसके तहत 9 दिसंबर, 2020 को अार्थिक कार्य विभाग (Department of Economic Affairs : DEA) ने ‘‘डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने में फिनटेक के मूल्‍यों को अनलॉक करना’’ नामक सेमिनार का आयोजन किया था।
  • राष्ट्रीय भाषा अनुवाद अभियान (National Language Translation Mission) के तहत इसके प्रति विश्वास बढ़ाने हेतु डिजिटल भुगतान सूचनाओं के प्रसार और निजता नियमों आदि को स्थानीय भाषाओं में उपलब्ध कराया जा सकता है।
  • अंतिम पायदान पर मौजूद कारोबारियों हेतु कनेक्‍टििवटी, स्मार्टफोन तक उनकी पहुंच और डिजिटल साक्षरता की चुनौतियों को दूर करने पर भी सम्मेलन में सहमति व्यक्त की गई।
  • FICCI (Fediration of Indian Chambers of Commerce & Industry)

स्थापना – 1927
संस्थापक – घनश्याम दास बिड़ला, पुरुषोत्तम
दास, ठाकुर दास
मुख्यालय – नई दिल्‍ली
सदस्य – 2.5 लाख से ज्यादा कंपनियां वर्तमान
सेक्रेटरी जनरल – द्वितीय चिनाय।
वर्तमान अध्यक्ष – उदय शंकर
बेटर देन कैश एलायंस (Better Than Cash Alliance : BTCA)

  • निष्कर्ष-
  • उपरोक्‍त प्रकार के सम्मेलनों से सरकार मर्चेंट डिजिटलीकरण में निष्पक्षता स्थापित करने का प्रयास कर रही है, जो कि एक सराहनीय कदम है। कोविड-19 के दौर में स्थानीय व्यापारियों द्वारा भुगतान में डिजिटलीकरण का प्रयोग करना एक सुरक्षात्‍मक सहयोग के रूप में देखा जाना चाहिए।

लेखक-आदित्‍य भारद्वाज