सम-सामयिक घटना चक्र | Railway Solved Paper Books | SSC Constable Solved Paper Books | Civil Services Solved Paper Books
Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

107वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस

107th Indian Science Congress
  • पृष्ठभूमि
  • देश में प्रति वर्ष ‘भारतीय विज्ञान कांग्रेस’ का आयोजन दो ब्रिटिश रसायनशास्त्रियों यथा-प्रोफेसर जे.एल. सिमोनसेन तथा प्रोफेसर पी.एस. मैकमहोन की दूरदर्शिता एवं पहल का परिणाम है। भारत में वैज्ञानिक अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिए इन्हीं दोनों वैज्ञानिकों के निर्देशन में भारत में पहली भारतीय विज्ञान कांग्रेस का आयोजन 15-17 जनवरी, 1914 के मध्य एशियाटिक सोसायटी, कलकत्ता के प्रांगण में हुआ था। इसकी प्रथम बैठक की अध्यक्षता जस्टिस सर आशुतोष मुखर्जी द्वारा की गई थी।
  • भारतीय विज्ञान कांग्रेस एसोसिएशन (ISCA)
  • ‘भारतीय विज्ञान कांग्रेस एसोसिएशन’ (Indian Science Congress Association) देश में वैज्ञानिक अनुसंधानों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से स्थापित एक प्रमुख वैज्ञानिक संगठन है।
  • इसका मुख्यालय कोलकाता में है।
  • इसके तत्वावधान में वैज्ञानिक विषय-वस्तुओं के अन्वेषण, विश्लेषण एवं पारस्परिक आदान-प्रदान के उद्देश्य से प्रति वर्ष भारतीय विज्ञान कांग्रेस का आयोजन किया जाता है।
  • पिछला सत्र (106वां)
  • 106वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस का आयोजन 3-7 जनवरी, 2019 के मध्य लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी, फगवाड़ा (पंजाब) में किया गया था।
  • 107वां सत्र
  • 107वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस का आयोजन 3-7 जनवरी, 2020 के मध्य यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चर साइंसेज (University of Agricultural Sciences), बंगलुरू (कर्नाटक) में किया गया।
  • 107वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस का केंद्रीय विषय था-‘विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी : ग्रामीण विकास’ (Science & Technology : Rural Development)।
  • 3 जनवरी, 2020 को इस पांच दिवसीय विज्ञान कांग्रेस का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया।
  • इस वर्ष भारतीय विज्ञान कांग्रेस की अध्यक्षता प्रोफेसर के.एस. रंगप्पा (K.S. Rangappa) द्वारा की गई।
  • 107वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस के समापन सत्र का संबोधन उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू द्वारा किया गया।
  • इस सम्मेलन में देश एवं विदेश के वैज्ञानिकों, शिक्षाविदों, उद्यमियों, अनुसंधान एवं विकास संस्थाओं, रक्षा तथा सरकारी कंपनियों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।
  • दो नोबेल पुरस्कार विजेता, जर्मन भौतिक विज्ञानी स्टीफन हेल और इस्राइल की वैज्ञानिक एडा ई. योनथ ने भी इस सम्मेलन में भाग लिया।
  • भारतीय विज्ञान कांग्रेस में पहली बार किसानों के नवाचार और उनकी वैज्ञानिक प्रमाणिकता के महत्व को रेखांकित करने के लिए ‘किसान विज्ञान कांग्रेस’ (Farmers Science Congress) का भी आयोजन किया गया।
  • संबद्ध कार्यक्रम
  • भारतीय विज्ञान कांग्रेस के दौरान 4-5 जनवरी, 2020 के मध्य ‘राष्ट्रीय किशोर वैज्ञानिक सम्मेलन’ (Children Science Congress) का आयोजन भारतीय विज्ञान कांग्रेस के एक भाग के रूप में किया गया।
  • उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय किशोर वैज्ञानिक सम्मेलन के आयोजन का उद्देश्य 10-17 वर्ष की आयु वर्ग के बच्चों को विज्ञान के क्षेत्र में नवाचार एवं अनुसंधान हेतु प्रोत्साहित करना है।
  • 5 जनवरी, 2020 को 9वें ‘महिला विज्ञान कांग्रेस’ (Women Science Congress) का आयोजन भारतीय विज्ञान कांग्रेस के एक भाग के रूप में किया गया।
  • महिला विज्ञान कांग्रेस के दौरान विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में महिलाओं के योगदान को प्रदर्शित किया गया।
  • 107वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस के अंग के रूप में ‘किसान विज्ञान कांग्रेस’ का आयोजन बंगलुरू के कृषि विज्ञान विश्वविद्यालय में किया गया। इसमें देश के लगभग 120 नवाचारी किसानों ने भाग लिया और अपने उत्पादों को पेश किया।
  • किसान विज्ञान कांग्रेस के दौरान किसानों की आय दोगुना करने, जलवायु परिवर्तन, जैव विविधता, किसान सशक्तीकरण, कृषि पर दबाव, ग्रामीण जैव-उद्यमिता जैसे मुद्दों पर चर्चा की गई।
  • भारतीय विज्ञान कांग्रेस के दौरान ‘प्राइड ऑफ इंडिया-साइंस एक्सपो, 2020’ (Pride of India ISC Expo, 2020) नामक एक प्रदर्शनी भी आयोजित की गई। जिसमें डीआरडीओ (DRDO) द्वारा 150 से अधिक प्रदर्शन और मॉडल तथा 31 डीआरडीओ की प्रयोगशालाओं द्वारा अत्याधुनिक स्वदेशी रक्षा प्रौद्योगिकियों का प्रदर्शन किया गया।
  • 27वींराष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस
  • 27वीं राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस (National Children’s Science Congress) का आयोजन 27-31 दिसंबर, 2019 के मध्य मर इवानिओस विद्या नगर,  नालनचिरा, तिरुवनंतपुरम (Mar Ivanios Vidya Nagar, Nalanchira, Thiruvananth-apuram) (केरल) में किया गया।
  • इस आयोजन का विषय ‘स्वच्छ, हरित और स्वस्थ राष्ट्र के लिए विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार’ (Science, Technology and Innovation for a Clean, Green and Healthy Nation) था।
  • इस कांग्रेस की अध्यक्षता डॉ. के.पी. सुधीर (Dr. K.P. Sudheer) द्वारा की गई।
  • राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस, राष्ट्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार परिषद (NCSTC), विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (DST) और भारत सरकार का संयुक्त कार्यक्रम है।
  • यह सूक्ष्म स्तर पर छोटे अनुसंधान गतिविधियों को प्रोत्साहित करने के लिए बच्चों का एक मंच है। लोगों के मध्य विज्ञान के प्रति जागरूकता विकसित करने के उद्देश्य से वर्ष 1993 में एक राष्ट्रव्यापी कार्यक्रम के रूप में इसकी शुरुआत की गई थी।
  • 10-17 वर्ष की आयु का कोई भी बच्चा इस कांग्रेस में भाग ले सकता है।
  • 108वां सत्र
  • 3-7 जनवरी, 2021 के मध्य 108वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस का आयोजन पुणे (महाराष्ट्र) में किया जाएगा।
  • 108वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस का मुख्य विषय होगा-‘महिला सशक्तीकरण के साथ सतत विकास के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी’ (Science and Technology for Sustainable Development with Women Empowerment)
  • भारतीय विज्ञान कांग्रेस के 108वें सत्र की अध्यक्षता जैव सूचना विज्ञान इन्फ्रास्ट्रक्चर सुविधा केंद्र डीबीटी भारत सरकार की को-आर्डिनेटर  (Co-ordinator : Bioinformatics Infrastructure Facility Center DBT, Govt. of India) डॉ. विजय लक्ष्मी सक्सेना द्वारा की जाएगी।
  • निष्कर्ष
  • भारतीय विज्ञान कांग्रेस के महत्व को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शब्दों में ‘‘भारत की विकास गाथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी क्षेत्र की  उपलब्धियों पर निर्भर है। भारतीय विज्ञान प्रौद्योगिकी एवं नवोन्मेष के परिदृश्य में क्रांतिकारी बदलाव की आवश्यकता है।’’ उल्लेखित किया जा सकता है। युवा वैज्ञानिकों के लिए उनका नवोन्मेष, पेटेंट, उत्पादन और समृद्धि का संदेश भी महत्वपूर्ण है। विशेषज्ञों द्वारा समीक्षा किए गए विज्ञान और इंजीनियरिंग प्रकाशन की संख्या के आधार पर भारत का विश्व में तीसरा स्थान है। इस संदर्भ में भारत 10 प्रतिशत की दर से आगे बढ़ रहा है, जबकि वैश्विक औसत केवल 4 प्रतिशत की है।

सं. विजय सिंह