सम-सामयिक घटना चक्र | Railway Solved Paper Books | SSC Constable Solved Paper Books | Civil Services Solved Paper Books
Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

वैश्विक लोकतंत्र सूचकांक‚ 2019

The Economist Intelligent Unit
  • वर्तमान परिदृश्य
  • 21 जनवरी‚ 2020 को ब्रिटेन की संस्था ‘द इकोनॉमिस्ट इंटेलीजेंस यूनिट’ (The Economist Intelligent Unit) द्वारा ‘वैश्विक लोकतंत्र सूचकांक (Democracy Index), 2020’ जारी किया गया।
  • इस सूचकांक में विश्वभर के 165 स्वतंत्र देशों एवं 2 क्षेत्रों में लोकतंत्र की स्थिति का विश्लेषण प्रस्तुत किया गया है।
  • उल्लेखनीय है कि इस सूचकांक में शामिल 167 देशों/क्षेत्रों की सूची में भारत 6.90 के स्कोर के साथ 51वें स्थान पर है।
  • भारत को इस सूचकांक की चार श्रेणियों में से ‘त्रुटिपूर्ण लोकतंत्र’ (Flawed Democracy) के अंतर्गत रखा गया है।
  • देशों का वर्गीकरण एवं रैंकिंग प्रक्रिया
  • इस सूचकांक में शामिल देशों को चार श्रेणियों यथा-पूर्ण लोकतंत्र (Full Democracies), त्रुटिपूर्ण लोकतंत्र (Flawed Democracies), छद्‌म शासन-पद्धति (Hybrid Regimes) एवं सत्तावादी शासन प्रणाली (Authoritarian Regime) में बांटा गया है।
  • ध्यातव्य है कि यह सूचकांक पांच अलग-अलग श्रेणियों में वर्गीकृत 60 संकेतकों (Indicators) पर आधारित है।
  • ये पांच श्रेणियां – चुनावी प्रक्रिया एवं बहुलवाद (Electoral Process and Pluralism), सरकार की कार्य पद्धति (Functioning of Government), राजनीतिक भागीदारी (Political Participation), राजनीतिक संस्कृति (Political Culture) और नागरिक स्वतंत्रता (Civil liberties) हैं।
  • इस सूचकांक में शामिल देशों/क्षेत्रों को संकेतकों के आधार पर किए गए प्रदर्शन के अनुसार‚ 0 से 10 के बीच स्कोर प्रदान किए गए।
  • सूचकांक में 8 से 10 के बीच स्कोर करने वाले देशों को पूर्ण लोकतंत्र‚ 6 से 8 के बीच स्कोर करने वाले देशों को त्रुटिपूर्ण लोकतंत्र‚ 4 से 6 के बीच स्कोर करने वाले देशों को छद्‌म शासन-पद्धति और 0 से 4 के बीच स्कोर करने वाले देशों को सत्तावादी शासन प्रणाली की श्रेणी में रखा गया है।
  • रैंकिंग
  • इस सूचकांक में प्रथम पांच स्थानों पर स्थित देश क्रमश:- नॉर्वे (9.87 अंक)‚ आइसलैंड (9.58 अंक)‚ स्वीडन (9.39 अंक)‚ न्यूजीलैंड (9.26 अंक) एवं फिनलैंड (9.25 अंक) हैं।
  • संयुक्त राज्य अमेरिका (25वीं रैंक) को 7.96 स्कोर के साथ त्रुटिपूर्ण लोकतंत्र की श्रेणी में रखा गया है।
  • भारत के पड़ोसी देशों में पाकिस्तान 108वें‚ अफगानिस्तान 141वें‚ नेपाल 92वें‚ भूटान 91वें‚ बांग्लादेश 80वें और श्रीलंका 69वें स्थान पर है।
  • इस सूचकांक में भारत के अतिरिक्त अन्य ब्रिक्स देशों में चीन 153वें‚ दक्षिण अफ्रीका 40वें‚ रूस 134वें और ब्राजील 52वें स्थान पर है।
  • सूचकांक के अंतिम पांच पायदानों पर स्थित देश- उत्तर कोरिया (167वें)‚ कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य (166वें)‚ मध्य अफ्रीकी गणराज्य (165वें)‚ सीरिया (164वें) और चाड (163वें) हैं।
  • भारत : रैंक में गिरावट के कारण
  • वर्ष 2019 के सूचकांक में भारत की तुलना अगर पिछले वर्षों से की जाए‚ तो वर्ष 2006 में रैंकिंग शुरू होने के बाद यह सबसे कम स्कोर है।
  • गत वर्ष के सूचकांक से तुलना करें‚ तो भारत की रैंकिंग में 10 पायदान की गिरावट हुई है।
  • भारत को वर्ष 2019 के सूचकांक में 51वें स्थान पर रखा गया है‚ इससे पहले वर्ष 2018 के सूचकांक में भारत 41वें स्थान पर था।
  • भारत का स्कोर वर्ष 2018 के 7.23 से गिरकर वर्ष 2019 में 6.90 हो गया और इसकी प्राथमिक वजह देश में नागरिक स्वतंत्रता में कटौती करना रहा।
  • रिपोर्ट के अनुसार‚ ‘भारत प्रशासित कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35A हटाए जाने‚ कश्मीर में इंटरनेट सुविधा पर रोक लगाने‚ साथ ही बहुतायत संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती की वजह से नागरिक स्वतंत्रता बाध्य हुई।’
  • साथ ही रिपोर्ट के अनुसार‚ असम में एनआरसी पर काम शुरू होने और फिर नागरिकता कानून (CAA) की वजह से नागरिकों में बढ़े असंतोष के कारण भारत के स्कोर में गिरावट दर्ज की गई।
  • रिपोर्ट के अनुसार‚ भारत को एक ओर जहां राजनीतिक भागीदारी में अच्छे अंक प्राप्त हुए हैं‚ वहीं देश के मौजूदा राजनीतिक संस्कृति की वजह से कई अंकों का ह्रास भी हुआ है।
  • अन्य महत्वपूर्ण तथ्य
  • इस सूचकांक में शामिल देशों में से 22 देश पूर्ण लोकतंत्र‚ 54 देश त्रुटिपूर्ण लोकतंत्र‚ 37 देश छद्‌म शासन-पद्धति और 54 देश सत्तावादी शासन की श्रेणी में वर्गीकृत हुए हैं।
  • सूचकांक के अनुसार‚ विश्व की कुल आबादी का 5.7 प्रतिशत पूर्ण लोकतंत्र‚ 42.7 प्रतिशत त्रुटिपूर्ण लोकतंत्र‚ 16.0 प्रतिशत छद्‌म शासन-पद्धति और 35.6 प्रतिशत हिस्सा सत्तावादी शासन के अंतर्गत जीवन यापन कर रहा है।
  • गौरतलब है कि लोकतंत्र सूचकांक पहली बार वर्ष 2006 में जारी किया गया था।
  • सद्य: यह संस्करण इस सूचकांक का 11वां संस्करण है।

सं.  अर्पित मिश्रा

Post a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.