सम-सामयिक घटना चक्र | Railway Solved Paper Books | SSC Constable Solved Paper Books | Civil Services Solved Paper Books
Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

बागवानी फसलें : प्रथम अग्रिम अनुमान, 2019-20

Horticultural Crops: First Advance Estimates, 2019-20
  • वर्तमान परिप्रेक्ष्य
  • देश में विभिन्न राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों से प्राप्त सूचनाओं के आधार पर कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग द्वारा 27 जनवरी, 2020 को बागवानी फसलों के उत्पादन एवं क्षेत्रफल के संदर्भ में वर्ष 2019-20 के लिए प्रथम अग्रिम अनुमान तथा वर्ष 2018-19 के लिए अंतिम अनुमान जारी किए गए।
  • प्रथम अग्रिम अनुमानों के अनुसार, जहां कुल बागवानी तथा सब्जियों  के उत्पादन में मामूली वृद्धि देखी गई है, वहीं फलों तथा सुगंधित और ओषधीय फसलों के उत्पादन में कमी दर्ज की गई है।
  • बागान एवं बागवानी फसलें (Plantation and Horticulture Crops)
  • कृषि मंत्रालय के अनुसार, ‘बागान फसलों’ (Plantation crops) के अंतर्गत नारियल, सुपारी, ताड़, कोकोआ एवं काजू को रखा जाता है, जबकि वाणिज्य मंत्रालय के अनुसार, ‘बागान फसलों’ के तहत चाय, कॉफी एवं रबर को रखा जाता है। अतः नारियल, ताड़, सुपारी, कोकोआ, काजू, चाय, कॉफी एवं रबर ‘बागान फसलें’ हैं।
  • जबकि ‘बागवानी’ (Horticulture) के तहत ‘फलों की कृषि’ (Pomology), ‘फूलों की कृषि’ (Floriculture) तथा ‘सब्जियों की कृषि’ (Olericulture) की जाती है।
  • वर्तमान में ओषधीय एवं सजावटी पौधे, मशरूम, बांस, मसाला, बागान फसलों आदि को भी बागवानी कृषि के अंतर्गत स्थान प्राप्त है। अतः इस आधार पर यह कहा जा सकता है कि कोई भी बागान फसल बागवानी फसलें जरूर होंगी, लेकिन यह आवश्यक नहीं है कि सभी बागवानी फसलें भी बागान फसल होंगी।
  • बागवानी फसलों का अर्थव्यवस्था में योगदान
  • भारत जैसे जलवायविक विविधता वाले देश में बागवानी कृषि का अत्यधिक महत्व है। राष्ट्रीय आय में महत्वपूर्ण योगदान देने के साथ-साथ यह पोषण, रोजगार, गरीबी निवारण, औद्योगिक विकास, क्षेत्रीय असंतुलन में कमी तथा पर्यावरणीय संतुलन आदि की दृष्टि से भी महत्वपूर्ण है।
  • मुख्य विशेषताएं
  • प्रथम अग्रिम अनुमान, 2019-20
  • वर्ष 2019-20 के प्रथम अग्रिम अनुमानों के अनुसार, देश में बागवानी फसलों का कुल अनुमानित उत्पादन 313.35 मिलियन टन है, जो वर्ष 2018-19 के उत्पादन (310.74 मिलियन टन) की तुलना में 0.84 प्रतिशत अधिक है।
  • वर्ष 2019-20 में फलों का उत्पादन लगभग 95.74 मिलियन टन होने का अनुमान है, जो विगत वर्ष के उत्पादन (97.97 मिलियन टन) की तुलना में 2.27 मिलियन टन कम है।
  • वर्ष 2019-20 में कुल बागवानी उत्पादन (1st A.E.) वर्ष 2018-19 की तुलना में 0.84 प्रतिशत अधिक होने का अनुमान है।
  • जबकि सब्जियों, सुगंध विज्ञान और ओषधीय और वृक्षारोपण में वृद्धि की परिकल्पना की गई है लेकिन फलों, फूलों और मसालों में कमी का अनुमान है।
  • वर्ष 2018-19 की तुलना में वर्ष 2019-20 में फलों का उत्पादन 2.27 प्रतिशत कम होने का अनुमान है, जो मुख्य रूप से अंगूर, केला, आम, खट्टे फल, पपीता और अनार के उत्पादन में होने वाले नुकसान के कारण है।
  • वर्ष 2018-19 की तुलना में वर्ष 2019-20 में सब्जियों के उत्पादन में 2.64 प्रतिशत की वृद्धि होने का अनुमान है। यह वृद्धि मुख्य रूप से प्याज, आलू और टमाटर के उत्पादन में होने वाली वृद्धि के कारण है।
  • वर्ष 2018-19 में 22.82 मिलियन टन प्याज उत्पादन की तुलना में वर्ष 2019-20 में 24.45 मिलियन टन प्याज उत्पादन (7.17% की वृद्धि) होने का अनुमान है।
  • वर्ष 2018-19 में 50.19 मिलियन टन आलू उत्पादन की तुलना में वर्ष 2019-20 में आलू उत्पादन 51.94 मिलियन टन (3.49 % की वृद्धि) होने का अनुमान है।
  • वर्ष 2018-19 में 19.01 मिलियन टन टमाटर उत्पादन की तुलना में वर्ष 2018-19 में टमाटर उत्पादन 19.33 मिलियन टन (1.68% की वृद्धि) अनुमानित है।
  • 2018-19 के अंतिम अनुमान
  • देश में कुल बागवानी उत्पादन वर्ष 2018-19 में 310.74 मिलियन टन होने का अनुमान है, जो वर्ष 2017-18 के बागवानी उत्पादन की तुलना में मामूली अधिक है।
  • फलों, फूलों, मसालों और शहद के उत्पादन में वृद्धि, जबकि सब्जियों, सुगंधित और ओषधीय पौधों और वृक्षारोपण फसलों में कमी हुई।
  • 97.97 मिलियन टन के आस-पास फलों का उत्पादन होने का अनुमान है, जबकि वर्ष 2017-18 में 96.45 मिलियन टन उत्पादन हुआ था।
  • सब्जियों का उत्पादन लगभग 183.17 मिलियन टन होने का अनुमान है, जो वर्ष 2017-18 के उत्पादन से कम है।
  • प्याज का उत्पादन लगभग 22.82 मिलियन टन है, जो वर्ष 2017-18 के उत्पादन की तुलना में कम है।
  • आलू का उत्पादन लगभग 50.19 मिलियन टन होने का अनुमान है, जो वर्ष 2017-18 के उत्पादन की तुलना में कम है।
  • टमाटर का उत्पादन लगभग 19.01 मिलियन टन होने का अनुमान है, जो वर्ष 2017-18 के उत्पादन से कम है।

बागवानी फसलों के क्षेत्रफल एवं उत्पादन

(क्षेत्रफल=हजार हेक्टेयर में, उत्पादन=हजार मि. टन में)

 

वर्ष 2018-19 अंतिम (3rd A.E.)

वर्ष 2018-19 अंतिम

वर्ष 2019-20

बागवानी फसलें

क्षेत्रफल

उत्पादन

क्षेत्रफल

उत्पादन

क्षेत्रफल

उत्पादन

सेब

314

2503

308

2316

308

2734

केला

898

31747

866

30460

875

29649

आम

2293

20798

2296

21378

2309

21285

कुल फल

6648

98579

6597

97967

6660

95743

प्याज

1263

23485

1220

22819

1293

24454

आलू

2161

53027

2173

50190

2149

51947

टमाटर

778

19397

781

19007

800

19328

कुल सब्जियां

10100

185883

10073

183170

10292

188009

कुल फूल

313

2865

303

2910

294

2873

कुल बागानी फसलें

3880

16368

3872

16350

3866

16412

इलायची

78

22

81

23

79

26

मिर्च (सूखी)

721

1690

780

1743

733

1764

धनिया

468

567

470

592

632

762

हल्दी (सूखी)

246

931

253

961

239

913

कुल मसाले

3895

9216

3957

9428

3866

9372

कुल बागवानी

25492

313851

25430

310738

25611

313351

  • हाल ही में कृषि मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा वर्ष 2018-19 के लिए जारी राज्य-वार बागवानी उत्पादन के तृतीय अग्रिम अनुमानों (3rd A.E.) के अनुसार, वर्ष 2018-19 में सब्जी उत्पादन में पश्चिम बंगाल ने उत्तर प्रदेश को पीछे छोड़ते हुए शीर्ष स्थान प्राप्त किया है।
  • हालांकि वर्ष 2018-19 में समग्र बागवानी उत्पादन (Horticulture Production) में उत्तर प्रदेश अभी भी शीर्ष स्थान पर है।
  • राज्य-वार बागवानी उत्पादन आकड़ों के अनुसार, पश्चिम बंगाल द्वारा जहां वर्ष 2017-18 में कुल 27.70 मिलियन टन सब्जी का उत्पादन किया गया था, वहीं वर्ष 2018-19 (3rd A.E.) में कुल 29.55 मिलियन टन सब्जी का उत्पादन किया गया।
  • जबकि उत्तर प्रदेश द्वारा वर्ष 2017-18 एवं वर्ष 2018-19 में क्रमशः 27.71 मिलियन टन तथा 28.32 मिलियन टन सब्जी का उत्पादन किया गया।
  • आंकड़ों के अनुसार, पश्चिम बंगाल का देश के कुल सब्जी उत्पादन में 15.9 प्रतिशत का योगदान है, उसके बाद क्रमशः उत्तर प्रदेश (14.9%) तथा मध्य प्रदेश (9.6%) का योगदान है।
  • बिहार तथा गुजरात का योगदान क्रमशः 9 प्रतिशत एवं 6.8 प्रतिशत है।
  • जारी आकड़ों के अनुसार, जहां कुल सब्जी उत्पादन का क्षेत्रफल वर्ष 2004-05 के 6.74 मिलियन हेक्टेयर से बढ़कर वर्ष 2018-19 (3rd A.E.) में 10.10 मिलियन हेक्टेयर हो गया है।
  • वहीं कुल सब्जी उत्पादन भी वर्ष 2004-05 के 101.25 मिलियन टन से बढ़कर वर्ष 2018-19 (3rd A.E.) में 185.88 मिलियन  टन तथा औसत उत्पादकता 18.4 टन प्रति हेक्टेयर हो गया है।
  • भारत में उगाई जाने वाली प्रमुख फसलों जैसे-आलू, टमाटर, प्याज, बैंगन, बंद गोभी, फूलगोभी, मटर और भिंडी आदि का योगदान वैश्विक सब्जी उत्पादन का 11.2 प्रतिशत है।
  • वर्ष 2018-19 (3rd A.E.) में कुल फल उत्पादन में आंध्र प्रदेश 17.61 मिलियन टन उत्पादन के साथ विगत वर्ष की भांति इस वर्ष भी शीर्ष पर बना हुआ है, जबकि महाराष्ट्र (10.82 मि.टन) तथा उत्तर प्रदेश (10.65 मि.टन) क्रमशः दूसरे तथा तीसरे स्थान पर हैं।
  • हालांकि आंध्र प्रदेश ने फलोत्पादन के संदर्भ में विगत वर्ष की तुलना में मामूली वृद्धि दर्ज की है, जबकि महाराष्ट्र ने असम को पीछे छोड़ते हुए दूसरा स्थान प्राप्त किया है।
  • वर्ष 2017-18 में फलोत्पादन के संदर्भ में असम दूसरे स्थान पर था।
  • वर्ष 2018-19 (3rd A.E.) में कुल फलोत्पादन (95.58 मिलियन टन), देश के कुल बागवानी उत्पादन का 31.4 प्रतिशत है।
  • (A.E.) के अनुसार, वर्ष 2018-19 में सब्जी उत्पादन में पश्चिम बंगाल ने उत्तर प्रदेश को पीछे छोड़ते हुए शीर्ष स्थान प्राप्त किया है।
  • हालांकि वर्ष 2018-19 में समग्र बागवानी उत्पादन (Horticulture Production) में उत्तर प्रदेश अभी भी शीर्ष स्थान पर है।
  • राज्य-वार बागवानी उत्पादन आकड़ों के अनुसार, पश्चिम बंगाल द्वारा जहां वर्ष 2017-18 में कुल 27.70 मिलियन टन सब्जी का उत्पादन किया गया था, वहीं वर्ष 2018-19 (3rd A.E.) में कुल 29.55 मिलियन टन सब्जी का उत्पादन किया गया।
  • जबकि उत्तर प्रदेश द्वारा वर्ष 2017-18 एवं वर्ष 2018-19 में क्रमशः 27.71 मिलियन टन तथा 28.32 मिलियन टन सब्जी का उत्पादन किया गया।
  • आंकड़ों के अनुसार, पश्चिम बंगाल का देश के कुल सब्जी उत्पादन में 15.9 प्रतिशत का योगदान है, उसके बाद क्रमशः उत्तर प्रदेश (14.9%) तथा मध्य प्रदेश (9.6%) का योगदान है।
  • बिहार तथा गुजरात का योगदान क्रमशः 9 प्रतिशत एवं 6.8 प्रतिशत है।
  • जारी आकड़ों के अनुसार, जहां कुल सब्जी उत्पादन का क्षेत्रफल वर्ष 2004-05 के 6.74 मिलियन हेक्टेयर से बढ़कर वर्ष 2018-19 (3rd A.E.) में 10.10 मिलियन हेक्टेयर हो गया है।
  • वहीं कुल सब्जी उत्पादन भी वर्ष 2004-05 के 101.25 मिलियन टन से बढ़कर वर्ष 2018-19 (3rd A.E.) में 185.88 मिलियन  टन तथा औसत उत्पादकता 18.4 टन प्रति हेक्टेयर हो गया है।
  • भारत में उगाई जाने वाली प्रमुख फसलों जैसे-आलू, टमाटर, प्याज, बैंगन, बंद गोभी, फूलगोभी, मटर और भिंडी आदि का योगदान वैश्विक सब्जी उत्पादन का 11.2 प्रतिशत है।
  • वर्ष 2018-19 (3rd A.E.) में कुल फल उत्पादन में आंध्र प्रदेश 17.61 मिलियन टन उत्पादन के साथ विगत वर्ष की भांति इस वर्ष भी शीर्ष पर बना हुआ है, जबकि महाराष्ट्र (10.82 मि.टन) तथा उत्तर प्रदेश (10.65 मि.टन) क्रमशः दूसरे तथा तीसरे स्थान पर हैं।
  • हालांकि आंध्र प्रदेश ने फलोत्पादन के संदर्भ में विगत वर्ष की तुलना में मामूली वृद्धि दर्ज की है, जबकि महाराष्ट्र ने असम को पीछे छोड़ते हुए दूसरा स्थान प्राप्त किया है।
  • वर्ष 2017-18 में फलोत्पादन के संदर्भ में असम दूसरे स्थान पर था।
  • वर्ष 2018-19 (3rd A.E.) में कुल फलोत्पादन (95.58 मिलियन टन), देश के कुल बागवानी उत्पादन का 31.4 प्रतिशत है।
  • वर्ष 2018-19 में फलोत्पादन के अंतर्गत आने वाला क्षेत्रफल 6.65 मिलियन हेक्टेयर था, जो देश में कुल बागवानी के तहत आने वाले क्षेत्रफल का 26.1 प्रतिशत है। 
  • वर्ष 2018-19 में फलोत्पादन के अंतर्गत आने वाला क्षेत्रफल 6.65 मिलियन हेक्टेयर था, जो देश में कुल बागवानी के तहत आने वाले क्षेत्रफल का 26.1 प्रतिशत है।                                                         

सब्जी उत्पादक शीर्ष 5 राज्य

[ वर्ष 2018-19 (3rd A.E.) ]

राज्य

क्षेत्रफल हजार हेक्टेयर में

उत्पादन हजार मि. टन में

उत्पादकता

 मि. टन/ हेक्टेयर में

पश्चिम बंगाल

1,490.39

29545.23

19.82

उत्तर प्रदेश

1,256.27

27703.82

22.05

मध्य प्रदेश

897.99

17773.19

19.79

बिहार

872.55

16699.84

19.14

गुजरात

626.26

12552.15

20.04

भारत

10099.82

185883.22

18.41

फल उत्पादक शीर्ष 5 राज्य

[ वर्ष 2018-19 (3rd A.E.) ]

राज्य

क्षेत्रफल हजार हेक्टेयर में

उत्पादन हजार मि. टन में

उत्पादकता

 मि. टन/ हेक्टेयर में

आंध्र प्रदेश

718.91

17614.67

24.50

महाराष्ट्र

756.97

10822.77

14.30

उत्तर प्रदेश

480.53

10651.26

22.17

गुजरात

433.79

9227.76

21.27

मध्य प्रदेश

357.01

7464.97

20.90

भारत

6647.78

98579.27

14.83

समग्र बागवानी उत्पादक शीर्ष 5 राज्य

[ वर्ष 2018-19 (3rd A.E.) ]

 

राज्य

क्षेत्रफल हजार हेक्टेयर में

उत्पादन हजार मि. टन में

उत्पादकता

(1)

उत्तर प्रदेश

2286.97

38753.71

16.95

(2)

पश्चिम बंगाल

1959.73

34323.23

17.51

(3)

मध्य प्रदेश

1964.75

28668.14

14.59

(4)

आंध्र प्रदेश

1555.18

26984.89

17.35

(5)

गुजरात

1606.16

22908.74

14.26

 

भारत

25491.77

313850.66

12.31

बागानी फसल उत्पादक शीर्ष 5 राज्य

[ वर्ष 2018-19 (3rd A.E.) ]

 

राज्य

क्षेत्रफल

 हजार हेक्टेयर में

उत्पादन

 हजार मिट्रिक टन में

(1)

केरल

965.15

5421.89

(2)

कर्नाटक

1038.31

4220.70

(3)

तमिलनाडु

620.21

3743.50

(4)

आंध्र प्रदेश

342.84

1220.81

(5)

महाराष्ट्र

236.60

363.76

 

भारत

3380.37

16367.63

मसाला उत्पादक शीर्ष 5 राज्य

[ वर्ष 2018-19 (3rd A.E.) ]

 

राज्य

क्षेत्रफल

हजार हेक्टेयर में

उत्पादन

 हजार मिट्रिक टन में

(1)

मध्य प्रदेश

640.17

2961.02

(2)

राजस्थान

928.45

942.69

(3)

गुजरात

490.73

747.15

(4)

आंध्र प्रदेश

199.05

742.61

(5)

कर्नाटक

223.74

677.87

 

भारत

3895.15

9261.37

समग्र फूल उत्पादक शीर्ष 5 राज्य

[ वर्ष 2018-19 (3rd A.E.) ]

 

राज्य

क्षेत्रफल

 हजार हेक्टेयर में

उत्पादन

 हजार मिट्रिक टन में

(1)

तमिलनाडु

39.80

538.93

(2)

मध्य प्रदेश

31.42

375.62

(3)

आंध्र प्रदेश

28.04

302.53

(4)

कर्नाटक

24.76

253.24

(5)

गुजरात

20.50

195.86

 

भारत

312.93

2865.32

सं. शिव शंकर कुमार तिवारी