सम-सामयिक घटना चक्र | Railway Solved Paper Books | SSC Constable Solved Paper Books | Civil Services Solved Paper Books
Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना-III

Pradhan Mantri Gram Sadak Yojna-III
  • वर्तमान परिपे्रक्ष्य
  • 18 दिसंबर‚ 2019 को केन्द्रीय ग्रामीण विकास कृषि और किसान कल्याण एवं पंचायती राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने नई दिल्ली में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना (PMGSY) के तीसरे चरण (Phase-III) का शुभारंभ किया। इसका उद्देश्य अस्पतालों‚ स्कूलों और कृषि बाजारों (Agricultural Markets) के साथ गांवों की संयोजकता (Connectivity) बढ़ाना है।
  • पृष्ठभूमि
  • वर्ष 2018-19 के बजट भाषण में केंद्रीय वित्त मंत्री द्वारा PMGSY-III की घोषणा की गई थी। इससे पूर्व भारत सरकार द्वारा प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना-I की शुरुआत 25 दिसंबर‚ 2000 को की गई थी। इसका उद्देश्य पात्र असंबद्ध बस्तियों तक सभी मौसम में पहुंच को उपलब्ध कराना था। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना एक केंद्र प्रायोजित योजना है। वर्ष 2013 में पीएमजीएसवाई के दूसरे चरण (Phase-II) को मंजूरी प्रदान की गई थी।
  • PMGSY-III का लक्ष्य
  • पीएमजीएसवाई के चरण-III का लक्ष्य मार्गों और प्रमुख ग्रामीण लिंक (Major Rural Links) के माध्यम से 1 लाख 25 हजार किमी. का समेकन (Consolidation) करना है।
  • इसके माध्यम से ग्रामीण कृषि बाजारों‚ उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों और अस्पतालों को बस्तियों से जोड़ा जाना है।
  • पीएमजीएसवाई-I के तहत निर्मित सड़कों को भी अनुरक्षित रखा जाएगा।
  • लागत
  • वर्ष 2019-20 से 2024-25 तक के लिए अनुमानित लागत 80,  250 करोड़ रुपये है। इसमें केंद्र का हिस्सा 53,800 करोड़ रुपये तथा राज्य का हिस्सा 26,450 करोड़ रुपये है। केंद्र और राज्य के मध्य वित्तपोषण 60 : 40 के अनुपात से होगा। पूर्वोत्तर और हिमालयी राज्यों के लिए वित्तपोषण का अनुपात 90 : 10 का होगा।
  • कार्यान्वयन
  • प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तीसरे चरण (PMGSY-III) की अवधि वर्ष 2019-20 से 2024-25 तक है।
  • जनसंख्या की सेवा‚ बाजार‚ शैक्षिक एवं चिकित्सकीय सुविधाओं आदि मानदंडों पर प्राप्त कुल अंकों के योग के आधार पर सड़कों (Candidate Roads) का चयन किया जाना है।
  • मैदानी क्षेत्रों में 150 मी. तथा हिमालयी और पूर्वोत्तर राज्यों में 200 मी. तक पुलों का निर्माण प्रस्तावित है।
  • पीएमजीएसवाई के तहत विकास कार्य
  • अप्रैल‚ 2019 तक प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना-I एवं II तथा वामपंथी अतिवाद क्षेत्र के लिए सड़क संपर्क परियोजना (RCPLWEA) के तहत कुल 5,99,090 किमी. लंबाई तक सड़कों का निर्माण किया जा चुका है।
  • RCPLWEA
  • वामपंथी अतिवाद क्षेत्र के लिए सड़क संपर्क परियोजना (RCPLWEA) को भारत सरकार द्वारा वर्ष 2016 में शुरू किया गया था।
  • 44 जिले (35 सर्वाधिक LWE प्रभावित और 9 आस-पास के जिले)‚ सुरक्षा और संचार के दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण हैं‚ में आवश्यक पुलियों और क्रॉस-ड्रेनेज संरचनाओं (Cross-Drainage Structures) के साथ सभी मौसमों में संपर्क वाली सड़कों के लिए पीएमजीएसवाई के तहत एक अलग ऊर्ध्वाधर (Vertical) रूप में इसका शुभारंभ किया गया।
  • इस योजना के तहत 5066 किमी. लंबाई की सड़क को मंजूरी प्रदान की गई है।

संकालीशंकर