सम-सामयिक घटना चक्र | Railway Solved Paper Books | SSC Constable Solved Paper Books | Civil Services Solved Paper Books
Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

नैनो विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन

International Conference On Nano Science and Nano Technology : ICONSAT)
  • 5-7 मार्च‚ 2020 के मध्य कोलकाता (पश्चिम बंगाल) में नैनो विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन (International Conference On Nano Science and Nano Technology : ICONSAT) का आयोजन किया गया।
  • इसका आयोजन कोलकाता के एस.एन. बोस नेशनल सेंटर फॉर बेसिक साइंसेज (S.N. Bose National Centre for Basic Sciences) द्वारा बिस्वा बांग्ला कन्वेंशन सेंटर (Biswa Bangla Convention Centre) में किया गया।
  • ICONSAT, नैनो मिशन के अंतर्गत विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (DST) द्वारा भारत में द्विवार्षिक आधार पर आयोजित अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन की एक शृंखला है।
  • उद्देश्य
  • नैनो विज्ञान में विशेषज्ञों का एक नेटवर्क बनाकर ऊर्जा‚ कृषि‚ परिवहन‚ स्वास्थ्य आदि क्षेत्रों में ज्ञान को एकीकृत करना।
  • नैनो विज्ञान और प्रौद्योगिकी का सतत विकास और नई तकनीक (मशीन शिक्षण‚ कृत्रिम बुद्धि) आदि क्षेत्रों में उत्पन्न चुनौतियों के समाधान में सहयोग करना।
  • महत्वपूर्ण तथ्य
  • तीन दिवसीय सम्मेलन में भौतिक‚ रासायनिक सामग्री के साथ-साथ जैविक विज्ञान के क्षेत्र में अत्याधुनिक विकास के कई विषयगत विषयों पर विचार-विमर्श किया गया।
  • सम्मेलन में पांच एम (5M) अर्थात यांत्रिक (Mechanical)‚ सामग्री (Material), मशीनें (Machines)‚ विनिर्माण (Manufacturing) और जनशक्ति (Manpower) पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता पर प्रकाश डाला गया।
  • नैनो विज्ञान का नैनो चिकित्सा‚ कृषि‚ पर्यावरण और ऊर्जा जैसे क्षेत्रों में इसके अनुप्रयोग पर भी प्रकाश डाला गया।
  • सम्मेलन में नैनो विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में देश एवं विदेश के छात्रों और युवा शोधकर्ताओं को एक मंच प्रदान करने पर भी चर्चा की गई।
  • समारोह में महात्मा गांधी विश्वविद्यालय‚ कोट्टायम के कुलपति प्रो. साबू थॉमस को नैनो विज्ञान और प्रौद्योगिकी में राष्ट्रीय अनुसंधान पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
  • नैनो विज्ञान और प्रौद्योगिकी क्या है?
  • नैनो का अर्थ है ऐसे पदार्थ‚ जो अति सूक्ष्म आकार वाले तत्वों (मीटर के अरबवें हिस्से : 10–9) से बने होते हैं।
  • नैनो विज्ञान द्वारा पदार्थ के आणविक एवं परमाण्विक स्तर पर व्याप्त गुणधर्मों को समझा जाता है‚ जो बड़े स्तर अर्थात हमारे महसूस करने योग्य स्तर से सवर्था भिन्न होते हैं।
  • नैनो विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर मिशन
  • भारत सरकार द्वारा नैनो विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अनुसंधान को बढ़ावा देने के उद्देश्य से वर्ष 2001 में राष्ट्रीय नैनो विज्ञान और नैनो प्रौद्योगिकी संस्थान (NSTI : Nano Science and Technology Institute)  पहल की शुरुआत की गई थी।
  • 11वीं पंचवर्षीय योजना के दौरान वर्ष 2007 में नैनो मिशन को प्रोत्साहित करने के लिए 1000 करोड़ रुपये बजट का आवंटन किया गया था।
  • नैनो मिशन की सफलता को ध्यान में रखते हुए 12वीं पंचवर्षीय योजना के दौरान वर्ष 2012 में नैनो मिशन के लिए 650 करोड़ रुपये की धनराशि का आवंटन किया गया था।
  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग नैनो मिशन को लागू करने के लिए नोडल एजेंसी है।

संविजय सिंह