सम-सामयिक घटना चक्र | Railway Solved Paper Books | SSC Constable Solved Paper Books | Civil Services Solved Paper Books
Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

कार्बन डिस्क्लोजर प्रोजेक्ट रिपोर्ट, 2019

Carbon Disclosure Project Report, 2019
  • कार्बन डिस्क्लोजर प्रोजेक्ट
  • कार्बन डिस्क्लोजर प्रोजेक्ट (Carbon Disclosure Project) एक गैर-लाभकारी संगठन है, जो विश्व के अग्रणी कंपनियों के कार्बन उत्सर्जन को कम करने एवं जलवायु संबंधी गतिविधियों का अध्ययन करता है।
  • यह अध्ययन विज्ञान आधारित लक्ष्यों (Science Based Targets) के आधार पर किए जाते हैं।
  • कार्बन डिस्क्लोजर प्रोजेक्ट विश्व की 6000 से अधिक कंपनियों के साथ-साथ 550 से अधिक शहरों एवं 100 से अधिक देशों में कार्यरत है।
  • इसका मुख्यालय यूनाइटेड किंगडम में स्थित है।
  • विज्ञान आधारित लक्ष्य
  • विज्ञान आधारित लक्ष्य (Science Based Target) के अंतर्गत पेरिस समझौते के अनुसार, ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन को कम करने के लिए कंपनियों द्वारा अपनाई गई विधियों पर विचार किया जाता है।
  • इसके अनुसार सदी के वैश्विक तापमान वृद्धि को पूर्व-औद्योगिक स्तर (Pre-Industrial Level) से 2 डिग्री सेल्सियस से कम रखना है।
  • इसके साथ ही आगे चलकर तापमान वृद्धि को 1.5 डिग्री सेल्सियस रखने का लक्ष्य निर्धारित है।
  • वर्तमान परिप्रेक्ष्य
  • 20 जनवरी, 2020 को कार्बन डिस्क्लोजर प्रोजेक्ट द्वारा ‘कार्बन डिस्क्लोजर प्रोजेक्ट, इंडिया वार्षिक रिपोर्ट, 2019’ (Carbon Disclosure Project, India  Annual Report, 2019) जारी की गई।
  • इस रिपोर्ट के अंतर्गत विज्ञान आधारित लक्ष्यों के लिए कार्यरत कंपनियों के प्रतिबद्धताओं का सर्वेक्षण एवं जलवायु परिवर्तन के जोखिम का मूल्यांकन किया जाता है।
  • इस रिपोर्ट में कंपनियों की कार्बन कटौती गतिविधियों की भी जांच की जाती है।
  • इस रिपोर्ट का मुख्य विषय (थीम) था ‘भविष्य की जलवायु एवं व्यावसायिक साझेदारी’ (Climate and Business Partnership of the Future)।
  • वैश्विक परिदृश्य
  • कार्बन डिस्क्लोजर प्रोजेक्ट के वार्षिक रिपोर्ट, 2019 में 135 कंपनियों के साथ अमेरिका शीर्ष पर रहा, जिन्होंने जलवायु संबंधित अपनी गतिविधियों का विवरण साझा किया।
  • जापान इस रिपोर्ट में दूसरे नंबर पर है, जिसकी 83 कंपनियों ने अपने जलवायु संबंधी गतिविधियों के विवरण साझा किए, वहीं इस रिपोर्ट में 78 कंपनियों के साथ ब्रिटेन तीसरे नंबर पर रहा।
  • ध्यातव्य है कि फ्रांस की कुल 51 कंपनियों ने जलवायु संबंधी गतिविधियों का विवरण साझा किया, अतः इस रिपोर्ट में फ्रांस चौथे नंबर पर है।
  • भारत के बाद क्रमशः 30 और 27 कंपनियों के साथ जर्मनी एवं स्वीडन 6वें व 7वें स्थान पर हैं, जबकि क्रमशः 23 व 22 कंपनियों के साथ स्विट्जरलैंड एवं स्पेन 8वें व 9वें नंबर पर हैं।
  • विज्ञान आधारित लक्ष्यों के अनुसार जलवायु संबंधी गतिविधियों का विवरण साझा करने के लिए 18 कंपनियों के साथ नीदरलैंड्स को रिपोर्ट में 10वां स्थान प्राप्त हुआ।
  • भारत के संदर्भ में
  • कार्बन डिस्क्लोजर प्रोजेक्ट रिपोर्ट, 2019 में भारत को पांचवां स्थान प्राप्त हुआ है।
  • इस रिपोर्ट के  मुताबिक वर्ष 2019 में भारत की कुल 58 कंपनियों ने पर्यावरण संबंधी गतिविधियों एवं कार्बन उत्सर्जन को कम करने के बारे में रणनीति के विवरण को साझा किया।
  • इस रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया है कि लगभग 98 प्रतिशत से अधिक भारत की अग्रणी कंपनियों ने जलवायु से संबद्ध मुद्दों को पहचानने और समाधान करने हेतु संगठन के अंदर समिति या समूह का गठन किया है।
  • गौरतलब है कि वर्ष 2018 में भारत में विज्ञान आधारित लक्ष्यों (Seience Based Targets) के मानदंडों के अनुसार कुल 25 कंपनियां ही थीं।
  • महत्व
  • इस रिपोर्ट में भारत, जर्मनी एवं स्वीडन से आगे 5वें स्थान पर रहा।
  • भारत विश्व की पहली विकासशील अर्थव्यवस्था है, जिसमें विज्ञान आधारित लक्ष्यों के मानदंडों के अनुसार जलवायु संबंधी गतिविधियों का विवरण साझा करने हेतु अधिकतम संख्या में कंपनियों ने भाग लिया।

सं. अभय पांडेय