सम-सामयिक घटना चक्र | Railway Solved Paper Books | SSC Constable Solved Paper Books | Civil Services Solved Paper Books
Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

कजाख्स्तान CICA का नया अध्यक्ष

Kazakhstan CICA's new president
  • समकालीन प्रसंग
  • सितंबर‚ 2020 में ताजिकिस्तान के द्वारा सीका (Conference on Interaction & Confidence Building Mesures in Asia : CICA) की अध्यक्षता कजाख्तान को सौंपी गई।
  • वर्तमान अध्यक्ष कजाख्स्तान का कार्यकाल वर्ष 2020-22 तक रहेगा‚ जबकि पूर्व अध्यक्ष ताजिकिस्तान इस पद पर वर्ष 2018-20 तक था।
  • सीका (CICA)एशिया में क्षेत्रीय शांति व विश्वास बहाली के दृष्टिकोण से सदस्य देशों के नागरिक सुरक्षा‚ पर्यावरण व आर्थिक हितों के संरक्षण के उद्देश्य के लिए समर्पित बहुराष्ट्रीय मंच है।
  • पृष्ठभूमि
  • 5 अक्टूबर‚ 1992 को संयुक्त राष्ट्र सभा के 47वें सत्र में कजाख्स्तान के प्रथम राष्ट्रपति के द्वारा सीका संगठन को मूर्त करने का विचार प्रस्तुत किया गया।
  • उक्त संगठन के प्रथम चार्टर (4 जून‚ 2002) को अल्माटी में आयोजित उसके प्रथम बैठक में अपनाया गया।
  • इस क्षेत्रीय संगठन का सचिवालय‚ प्रशासनिक विभाग कार्यालय कजाख्स्तान के नूर सुल्तान में अवस्थित है। प्रशासनिक कार्य हेतु कार्यकारी निदेशक की नियुक्ति अध्यक्ष देश द्वारा की जाती है‚ जबकि सदस्य देशों के द्वारा उपनिदेशक की नियुक्ति का प्रावधान है।
  • संगठन की प्रथम मंत्रिस्तरीय बैठक सितंबर‚ 1999 में आयोजित की गई‚ जबकि प्रथम शिखर सम्मेलन वर्ष 2002 में आयोजित हुआ।
  • इसका शिखर सम्मेलन प्रत्येक चार वर्ष में संपन्न होता है‚ जबकि समीक्षा हेतु प्रति दो वर्ष में विदेश मंत्रियों की बैठक की अनिवार्यता है।
  • 5 अक्टूबर को प्रति वर्ष सदस्य देशों द्वारा सीका दिवस मनाने का प्रावधान है।
  • उक्त संगठन के सदस्य देशों की संख्या 27 है जिसमें 8 पर्यवेक्षक देश हैं।
  • इस संगठन का भारत संस्थापक सदस्य देश है।
  भारत उसके पड़ोसी देश जो सीका के सक्रिय सदस्य हैं पर्यवेक्षक देश
1. चीन अमेरिका
2. पाकिस्तान जापान
3. बांग्लादेश बेलारूस
4. श्रीलंका इंडोनेशिया
5. अफगानिस्तान फिलीपींस
6. भारत यूक्रेन
    मलेशिया
    लाओस

संगठन का सिद्धांत
1. संगठन का प्रमुख सिद्धांत संप्रभुता एवं समानता स्थापित करना है
2. सदस्य देशों की क्षेत्रीय अखंडता बनाए रखना
3. विवादों का शांतिपूर्ण निस्तारण
4. नि:शस्त्रीकरण और हथियार नियंत्रण
5. सदस्य देशों का मानव अधिकार एवं मौलिक स्वतंत्रता को स्थापित करना।
संगठन के उद्देश्य
1. एशिया में शांति‚ स्थिरता व सुरक्षा के दृष्टिकोण के माध्यम से सहयोग को बढ़ावा देना
2. अवैध दवा उत्पादन एवं तस्करी का मुकाबला करना
3. पर्यावरण से संबंधित मुद्दों पर सहयोग स्थापित करना
4. क्षेत्रीय आर्थिक‚ सामाजिक व सांस्कृतिक सहयोग को बढ़ाना
5. मानव अधिकार व मौलिक स्वतंत्रता बनाए रखना।

सं. अंगद आर्यन

Post a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *