सम-सामयिक घटना चक्र | Railway Solved Paper Books | SSC Constable Solved Paper Books | Civil Services Solved Paper Books
Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

एक्सीलेरेट विज्ञान योजना

Accelerate science plan
  • पृष्ठभूमि
  • देश में वैज्ञानिक शोध की गति को तेज करने और विज्ञान के क्षेत्र में कार्य करने वाले मानव संसाधन को तैयार करने के उद्देश्य से एक्सीलेरेट विज्ञान (Accelerate Vigyan) योजना की शुरुआत की गई है।
  • इस योजना को विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के सांविधिक निकाय विज्ञान और इंजीनियरिंग अनुसंधान बोर्ड (Science and Engineering Research Board : SERB) द्वारा शुरू किया गया है।
  • इस योजना पर देश के प्रमुख वैज्ञानिक संस्थानों एवं प्रयोगशालाओं द्वारा साथ मिलकर कार्य किया जाएगा।
  • यह योजना अनुसंधान की संभावनाओं‚ परामर्श‚ प्रशिक्षण और व्यावहारिक कार्य प्रशिक्षण की पहचान करने की कार्यविधि को सुदृढ़ बनाने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर कार्य करेगी।
  • उद्देश्य
  • यह विज्ञान के क्षेत्र में कॅरियर बनाने के इच्छुक छात्रों को शोध (Research) इंटर्नशिप‚ क्षमता निर्माण कार्यक्रमों और कार्यशालाओं से संबंधित एक मंच प्रदान करती है।
  • इस योजना का एक प्रमुख उद्देश्य अनुसंधान के आधार का विस्तार करना है।
  • अनुसंधान आधारित कॅरियर और ज्ञान आधारित अर्थव्यवस्था के निर्माण के लिए वैज्ञानिक अनुसंधान को प्रोत्साहित करना और वैज्ञानिक श्रमशक्ति तैयार करना है।
  • योजना के तीन व्यापक लक्ष्यों में वैज्ञानिक कार्यक्रमों का एकत्रीकरण‚ संसाधनों/सुविधाओं से दूर अनुसंधान प्रशिक्षुओं के लिए स्तरीय कार्यशालाओं की शुरुआत और अवसरों का सृजन करना है।
  • योजना से संबंधित महत्वपूर्ण बिंदु
  • इस योजना के अंतर्गत विभिन्न  विषयों पर केंद्रित उच्च स्तरीय कार्यशालाओं के आयोजन की योजना है‚ जिससे आगामी पांच वर्षों में करीब 25 हजार स्नातकोत्तर (Post graduate) एवं पीएचडी छात्रों को आगे बढ़ने का अवसर प्राप्त होगा।
  • इस योजना के माध्यम से संस्थानों में इंटर्नशिप (Internships) के केंद्रीय समन्वयन से प्रतिवर्ष अन्य 1000 प्रतिभावान स्नातकोत्तर छात्रों को इंटर्नशिप करने का अवसर प्राप्त होगा।
  • एक्सीलेरेट विज्ञान योजना को मिशन मोड के तहत कार्यान्वित किया जाएगा।
  • ध्यातव्य है कि मिशन मोड परियोजनाएं वह परियोजनाएं होती हैं‚ जिनको एक तय समय में पूरा करना होता है और प्राप्त किए गए लक्षित परिणामों के मापन के स्पष्ट मानक होते हैं।
  • इस योजना को कार्यान्वित करने में विज्ञान और इंजीनियरिंग अनुसंधान बोर्ड (SERB) की सहायता के लिए सभी वैज्ञानिक मंत्रालयों/विभागों और कुछ अन्य सदस्यों को मिलाकर एक अंतर मंत्रालयी निरीक्षण समिति (Inter-Ministerial Ourseeing Committee : IMOC) का गठन किया गया है।
  • योजना के घटक
  • एक्सीलेरेट विज्ञान योजना के दो प्रमुख घटक हैं-
  • अभ्यास (ABHYAAS)
  • यह एक्सीलेरेट विज्ञान योजना का एक प्रमुख कार्यक्रम है‚ जो स्नातकोत्तर एवं पीएचडी के छात्रों को उनके संबंधित विषयों में कौशल विकास को प्रोत्साहित करता है।
  • इस कार्यक्रम के दो घटक ‘कार्यशाला’ और ‘वृत्तिका’ हैं।
  • ‘कार्यशाला’ एक हाई-एंड वर्कशॉप के रूप में कार्य करेगी।
  • ‘वृत्तिका’ एक रिसर्च इंटर्नशिप कार्यक्रम है।
  • सम्मोहन (SAMMOHAN)
  • सम्मोहन कार्यक्रम दो उपघटकों ‘संयोजिका’ एवं ‘संगोष्ठी’ में विभाजित है।
  • ‘संयोजिका’ देश में सभी सरकारी फंडिंग एजेंसियों द्वारा समर्थित विज्ञान और प्रौद्योगिकी में क्षमता निर्माण गतिविधियों को सूचीबद्ध करने के लिए शुरू किया गया एक कार्यक्रम है।
  • ‘संगोष्ठी’ विज्ञान और इंजीनियरिंग अनुसंधान बोर्ड (SERB) द्वारा पूर्व में संचालित एक कार्यक्रम है।
  • निष्कर्ष
  • एक्सीलेरेट विज्ञान योजना देश के वैज्ञानिक समुदाय की सामाजिक जिम्मेदारी को प्रोत्साहित करने का एक प्रयास है। प्रशिक्षित मानव संसाधन तैयार करने की दिशा में यह प्रक्रिया देश में क्षमता निर्माण के संबंध में सभी हितधारकों के लिए महत्वपूर्ण हो सकती है।

सं.  विजय सिंह