Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

HAL का लाइट यूटिलिटी हेलिकॉप्टर

Light utility helicopter of HAL

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 14 दिसंबर, 2018 को ‘हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड’ (HAL) के ‘लाइट यूटिलिटी हेलिकॉप्टर’ (LUH : Light Utility Helicopter) के तीसरे प्रोटोटाइप (PT3) की प्रथम उड़ान सफलतापूर्वक संपन्न हुई।
  • उल्लेखनीय है कि LUH के प्रथम प्रोटोटाइप (PT1) की प्रथम उड़ान 6 दिसंबर, 2016 को, जबकि द्वितीय प्रोटोटाइप (PT2) की प्रथम उड़ान 22 मई, 2017 को आयोजित हुई थी।
  • LUH के प्रथम एवं द्वितीय प्रोटोटाइप के उड़ान परीक्षण से प्राप्त अनुभवों के आधार पर ही तृतीय प्रोटोटाइप का निर्माण किया गया है, जो इसकी सैन्य तैनाती हेतु आवश्यक मानकों के अनुरूप है।
  • उल्लेखनीय है कि इसके पूर्व दिसंबर, 2018 में ही बंगलुरू (कर्नाटक) में लाइट यूटिलिटी हेलिकॉप्टर ने 6 किमी. की ऊंचाई तक उड़ान भर कर एक महत्वपूर्ण उपलब्धि अर्जित की थी।

LUH

  • LUH 3 टन श्रेणी का एक नई पीढ़ी का हेलिकॉप्टर है।
  • सैन्य एवं असैन्य दोनों क्षेत्रों के संचालकों (Operators) की आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु इस हेलिकॉप्टर का विकास HAL के ‘रोटरी विंग रिसर्च एंड डिजाइन  सेंटर’ (RWR & DC) ने किया है।

विशेषताएं

  • लाइट यूटिलिटी हेलिकॉप्टर एकल टर्बो शाफ्ट इंजन द्वारा चालित है।
  • यह हेलिकॉप्टर 220 किमी./घंटे की गति से उड़ान भरने में सक्षम है।
  • यह हेलिकॉप्टर अधिकतम 6.5 किमी. की ऊंचाई तक उड़ान भर सकता है।
  • इस हेलिकॉप्टर को भारतीय सशस्त्र सेनाओं द्वारा संचालित किए जाने वाले चीता एवं चेतक हेलिकॉप्टरों का स्थान लेने के लिए विकसित किया गया है।
  • इसे टोही एवं निगरानी मिशनों में तैनात किया जा सकता है, साथ ही यह एक ‘हल्के परिवहन हेलिकॉप्टर’ (Light Transport Helicopter) की भूमिका भी निभा सकता है।