Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

अरुणाचल प्रदेश : नवीन कछुआ प्रजाति की खोज

Arunachal Pradesh: Discovering the New Turtle Species
  • वर्तमान परिप्रेक्ष्य
  • 24 जून, 2019 को पूर्वोत्तर राज्य अरुणाचल प्रदेश में कछुए की एक दुर्लभ प्रजाति ‘इम्प्रेस्ड कछुआ’ (Impressed Tortoise) की खोज की गई।
  • इसके साथ ही सुबनसिरी जिले के याजली वन क्षेत्र में खोज के पश्चात भारत में पाए जाने वाले गैर-समुद्री कछुओं की कुल 29 प्रजातियां हो गई हैं।
  • प्रमुख तथ्य
  • इस उपलब्धि को प्राप्त करने में गुवाहाटी की हेल्प अर्थ संस्था, बंगलुरू स्थित वाइल्ड लाइफ कंजर्वेशन सोसाइटी तथा अरुणाचल प्रदेश के वन विभाग के शोधकर्ताओं का संयुक्त प्रयास था।
  • इस दुर्लभ प्रजाति के कछुए का वैज्ञानिक नाम मनौरिया इम्प्रेस्सा (Manoria Impressa) है,़ जो दक्षिण-पूर्व एशिया में पाई जाने वाली चार प्रजातियों में से एक है।
  • कछुए की यह प्रजाति मुख्यतः म्यांमार, थाईलैंड, लाओस, वियतनाम, चीन और प्रायद्वीपीय मलेशिया जैसे क्षेत्रों में पाई जाती है, परंतु भारत में यह पहली बार पाई गई है।
  • नर इम्प्रेस्सा कछुआ मादा की तुलना में छोटा होता है तथा इसकी लंबाई 30 सेमी. होती है।
  • गौरतलब है कि मनौरिया वंश (Genus) के कछुओं की केवल दो प्रजातियां हैं, जिसमें भारत में केवल एक एशियाई वन कछुआ मनौरिया ईमेस (Manouria Emys) ही पाया जाता है।
  • इन कछुओं की पहचान इनके शरीर पर पाए जाने वाले विशिष्ट प्रकार के नारंगी और भूरे रंग के आकर्षक धब्बों से होती है, जो अन्य कछुओं से इन्हें अलग करता है।
  • इस कछुए का प्रयोग पारंपरिक चिकित्सा एवं व्यापार के लिए अवैध रूप से किया जाता है, इसलिए यह प्रजाति संकट में है।
  • इसलिए इसे अंतरराष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ (International Union of Conservation of Nature : IUCN) की रेड लिस्ट (Red List) के गंभीर लुप्तप्राय श्रेणी (Critically Endangered Category) में शामिल किया गया है।
  • आईयूसीएन द्वारा प्रकाशित रेड लिस्ट में विश्व के सबसे अधिक संकटग्रस्त प्रजातियों को सम्मिलित किया जाता है, जिससे इसे बचाने का विविध प्रयास किया जा सके।
  • ज्ञातव्य है कि आईयूसीएन की रेड लिस्ट में इसके पूर्व खरगोश (Hare), जलकाग (Cormorant), भारतीय मेंढक (Indian Toad), बंगाल लोमड़ी (Bengal Fox), कोयल (Cuckoo) तथा ग्रेट इंडियन बस्टर्ड जैसे अनेक संकटग्रस्त प्रजातियों को शामिल किया गया है।

संसुनीत कुमार द्विवेदी