Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

15वां प्रवासी भारतीय दिवस, 2019

15th Pravasi Bharatiya Divas, 2019
  • पृष्ठभूमि
  • न्यायविद् डॉ. लक्ष्मीमल सिंघवी की अध्यक्षता में सितंबर, 2000 में गठित समिति के सुझाव पर 9 जनवरी को प्रवासी भारतीय दिवस के रूप में मनाए जाने का निर्णय लिया गया। उल्लेखनीय है कि 9 जनवरी, 1915 को महात्मा गांधी के दक्षिण अफ्रीका प्रवास से भारत आगमन के उपलक्ष्य में 9 जनवरी को प्रवासी भारतीय दिवस समागम के आयोजन हेतु चुना गया। वर्ष 2003 में प्रथम प्रवासी भारतीय दिवस का आयोजन किया गया।
  • उद्देश्य
  • भारतीय मूल के लोगों एवं भारत के लोगों के मध्य पारस्परिक संपर्क, विचार-विनिमय को बढ़ावा देना तथा प्रवासी भारतीय समुदाय को भारत के सामाजिक-आर्थिक विकास एवं नए भारत के निर्माण से संबद्ध करना।
  • वर्तमान संदर्भ
  • 15वें प्रवासी भारतीय दिवस, 2019 का आयोजन 21-23 जनवरी, 2019 के मध्य वाराणसी (उत्तर प्रदेश) में किया गया।
  • इस कार्यक्रम का आयोजन विदेश मंत्रालय द्वारा उत्तर प्रदेश राज्य के सहयोग से किया गया।
  • सम्मेलन से संबद्ध महत्वपूर्ण तथ्य
  • 22 जनवरी, 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा ‘प्रवासी भारतीय दिवस’ का उद्घाटन किया गया।
  • मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद कुमार जगन्नाथ ने प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में प्रतिभाग किया।
  • प्रवासी भारतीय दिवस, 2019 का विषय (Theme) – ‘नए भारत के निर्माण में प्रवासी भारतीयों की भूमिका’ (Role of Indian Diaspora in Building a New India) है।
  • युवा प्रवासी भारतीय दिवस
  • प्रवासी भारतीय दिवस, 2019 के पहले दिन (21 जनवरी) विदेश मंत्री सुषमा स्वराज द्वारा ‘युवा प्रवासी भारतीय दिवस’ का उद्घाटन किया गया।
  • नॉर्वे के सांसद हिमांशु गुलाटी विशेष अतिथि (Special Guest) तथा न्यूजीलैंड के सांसद कंवलजीत सिंह बख्शी ‘युवा प्रवासी भारतीय दिवस’ पर विशिष्ट अतिथि (Guest of Honor) थे।
  • ‘युवा प्रवासी भारतीय दिवस’ का आयोजन ‘युवा मामले और खेल मंत्रालय’ के सहयोग से किया गया।
  • प्रवासी भारतीय सम्मान
  • 23 जनवरी, 2019 को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा समापन दिवस के अवसर पर 23 देशों के 30 अनिवासी भारतीयों (भारतीय मूल के व्यक्तियों तथा संगठनों) को ‘प्रवासी भारतीय सम्मान, 2019’ प्रदान किया गया।
  • अन्य महत्वपूर्ण तथ्य
  • प्रवासी भारतीयों की कुंभ मेले (24 जनवरी) और गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) समारोह में भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए 15वें प्रवासी भारतीय समागम का आयोजन 9 जनवरी के स्थान पर 21-23 जनवरी, 2019 के मध्य किया गया।
  • वर्ष 2003 से 2015 तक ‘प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन’ का आयोजन वार्षिक रूप से किया गया, परंतु अब इसका आयोजन द्विवार्षिक रूप से किया जाता है।
  • भारत सरकार के विदेश मंत्रालय द्वारा विदेशों में रह रहे भारतीय युवाओं के लिए ‘भारत को जानो कार्यक्रम’ (Know India Programme) चलाया जा रहा है, जिसका उद्देश्य प्रतिभागियों के मध्य भारतीय जीवन के विविध आयामों पर जागरुकता का सृजन करना और उन्हें देश द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में हासिल की गई प्रगति के बारे में जानकारी प्रदान करना है।

निष्कर्ष

प्रवासी भारतीय दिवस के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रवासी भारतीय समुदाय द्वारा ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ की परंपरा बनाए रखने के लिए उनकी सराहना की। उन्होंने कहा कि प्रवासी भारतीय न केवल भारत के ब्राण्ड एम्बेसेडर हैं, बल्कि वैश्विक समुदाय के मध्य भारत की शक्ति, क्षमताओं और विशेषताओं के प्रतिनिधि भी हैं। आज एक तरफ भारत वैश्विक आर्थिक शक्ति बनने के मार्ग पर अग्रसर है, वहीं दूसरी तरफ अनुसंधान और नवाचार के क्षेत्र में नए भारत के निर्माण में प्रवासी भारतीय समुदाय की भागीदारी महत्वपूर्ण हो जाती है। प्रधानमंत्री ने नए भारत के निर्माण में प्रवासी भारतीयों की भागीदारी का आह्वान किया।