Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

हथियारों से लैस LCH का परीक्षण

Light Combat Helicopter

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • जनवरी, 2019 में भारत के ‘हल्के लड़ाकू हेलिकॉप्टर’ (LCH : Light Combat Helicopter) ने हवा-से-हवा में मार करने वाली मिसाइलों से एक गतिमान हवाई लक्ष्य को ध्वस्त कर एक महत्वपूर्ण सफलता अर्जित की है।
  • यह परीक्षण ओडिशा के चांदीपुर स्थित एकीकृत परीक्षण रेंज से संचालित किया गया।

मिशन की खास बातें

  • देश में यह पहला अवसर था, जब किसी हेलिकॉप्टर से हवा-से-हवा में मार करने वाली मिसाइलों को सफलतापूर्वक दागा गया।
  • उल्लेखनीय है कि देश की सशस्त्र सेनाओं में तैनात किसी भी हेलिकॉप्टर ने अभी तक इस प्रकार की क्षमता का प्रदर्शन नहीं किया था।
  • इस प्रकार अब LCH के सभी हथियार एकीकरण परीक्षण सफलतापूर्वक संपन्न हो गए हैं और यह हेलिकॉप्टर परिचालनगत तैनाती के लिए तैयार है।

LCH

  • LCH 5.8 टन श्रेणी का भारत का बहुउद्देशीय लड़ाकू हेलिकॉप्टर है।
  • देश की सशस्त्र सेनाओं की परिचालनगत आवश्यकताओं हेतु हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) के ‘रोटरी विंग रिसर्च एंड डिजाइन सेंटर’ (RWR&DC) ने इस हेलिकॉप्टर को डिजाइन एवं विकसित किया है।

विशेषताएं

  • हवा-से-हवा में मार करने वाली मिसाइलों के अतिरिक्त यह हेलिकॉप्टर 20 mm टर्रेट गन (घूम कर वार करने में सक्षम तोपें) तथा 70 mm रॉकेट्स से लैस है।
  • साथ ही यह हेलिकॉप्टर ‘निशाना साधने वाली एक अवरक्त प्रणाली’ (Infrared Sighting System) से भी युक्त है, जिससे पायलटों को जमीन या हवा में स्थित किसी लक्ष्य का पता लगाकर उसे नष्ट करने में मदद मिलती है।
  • LCH विश्व में एकमात्र ऐसा हेलिकॉप्टर है, जिसे सियाचिन ग्लेशियर जैसे अत्यधिक ऊंचे स्थलों से भी परिचालित किया जा सकता है।

अन्य महत्वपूर्ण तथ्य

  • LCH भारतीय वायु सेना के साथ-साथ भारतीय थल सेना की आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु भी विकसित किया गया है।
  • उल्लेखनीय है कि यह हेलिकॉप्टर चीता एवं चेतक जैसे काफी पुराने हेलिकॉप्टरों के स्थानापन्न के रूप में विकसित नहीं किया गया है।
  • जहां LCH  5.8 टन श्रेणी का द्वि-इंजन चालित सशस्त्र हेलिकॉप्टर है, वहीं चीता एवं चेतक 3-टन से कम श्रेणी के एकल इंजन चालित निशस्त्र हेलिकॉप्टर हैं।