Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

वैश्विक आर्थिक संभावनाएं रिपोर्ट, 2019

Global Economic Prospects Report, 2019
  • वर्तमान परिप्रेक्ष्य
  • 8 जनवरी, 2019 को ‘डार्कनिंग स्काइज’ (Darkening Skies) शीर्षक से प्रकाशित विश्व बैंक समूह की अर्द्धवार्षिक रिपोर्ट ‘वैश्विक आर्थिक संभावनाएं,  2019’  (Global Economic Prospects, 2019) के अनुसार, वित्तीय वर्ष 2018 में भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर 7.3 प्रतिशत अनुमानित है, जबकि अगले दो वर्षों (2019 एवं 2020) में इसके बढ़कर 7.5 प्रतिशत हो जाने का पूर्वानुमान है।
  • रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2018 में सर्वाधिक तेज आर्थिक वृद्धि के मामले में बांग्लादेश सबसे आगे है जहां आर्थिक वृद्धि 7.9 प्रतिशत अनुमानित है, उसके बाद क्रमशः भारत (7.3%) तथा चीन (6.5%) का स्थान है।
  • रिपोर्ट से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य
  • नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2018 में वैश्विक विकास दर 3 प्रतिशत अनुमानित है, जबकि वर्ष 2017 में यह 3.1 प्रतिशत रही।
  • इस रिपोर्ट के अनुसार, वैश्विक विकास दर वर्ष 2019, 2020 तथा 2021 में क्रमशः 2.9 प्रतिशत, 2.8 प्रतिशत तथा 2.8 प्रतिशत रहने का पूर्वानुमान है।
  • उच्च आय वाले देशों में आर्थिक विकास दर वर्ष 2018 में 2.2 प्रतिशत अनुमानित है, जबकि वर्ष 2017 में यहां आर्थिक वृद्धि दर 2.3 प्रतिशत रही।
  • उच्च आय वाले देशों में आर्थिक वृद्धि दर वित्तीय वर्ष 2019, 2020 तथा 2021 में क्रमशः 2 प्रतिशत, 1.7 प्रतिशत तथा 1.6 प्रतिशत रहने का पूर्वानुमान है।
  • विकासशील देशों में आर्थिक संवृद्धि दर वर्ष 2018 में 4.4 प्रतिशत अनुमानित है, जबकि वर्ष 2017 में यह 4.6 प्रतिशत थी।
  • वर्ष 2019, 2020 तथा 2021 में विकासशील देशों की आर्थिक वृद्धि दर क्रमशः 4.4 प्रतिशत, 4.7 प्रतिशत तथा 4.7 प्रतिशत रहने का पूर्वानुमान है।
  • संयुक्त राज्य अमेरिका (USA) की विकास दर वर्ष 2017 में 2.2 प्रतिशत रही, जबकि वर्ष 2018 में इसके 2.9 प्रतिशत रहने का अनुमान है।
  • वर्ष 2019, 2020 तथा 2021 में संयुक्त राज्य अमेरिका की आर्थिक वृद्धि दर क्रमशः 2.5 प्रतिशत, 1.7 प्रतिशत तथा 1.6 प्रतिशत रहने का पूर्वानुमान है।
  • पूर्वी एशिया और प्रशांत क्षेत्र की वृद्धि दर वर्ष 2018 में 6.3 प्रतिशत अनुमानित है, जबकि वर्ष 2017 में इस क्षेत्र की वृद्धि दर 6.6 प्रतिशत थी।
GEP के अनुसार जीडीपी वृद्धि दर (प्रतिशत में)
उपक्षेत्र/देश वर्ष 2017 वर्ष 2018(e) वर्ष 2019(f) वर्ष 2020(f) वर्ष 2021(f)
विश्व 3.1 3.0 2.9 2.8 2.8
विकसित अर्थव्यवस्थाएं 2.3 2.2 2.2 1.6 1.5
संयुक्त राज्य अमेरिका 2.2 2.9 2.5 1.7 1.6
यूरो क्षेत्र 2.4 1.9 1.6 1.5 1.3
जापान 1.9 0.8 0.9 0.7 0.6
उदीयमान बाजार एवं विकासशील अर्थव्यवस्थाएं 4.3 4.2 4.2 4.5 4.6
पूर्वी एशिया एवं प्रशांत क्षेत्र 6.6 6.3 6.0 6.0 5.8
चीन 6.9 6.5 6.2 6.2 6.0
यूरोप एवं मध्य एशिया 4.0 3.1 2.3 2.7 2.9
रूस 1.5 1.6 1.5 1.8 1.8
लैटिन अमेरिका एवं कैरेबियन 0.8 0.6 1.7 2.4 2.5
ब्राजील 1.1 1.2 2.2 2.4 2.4
मध्य-पूर्व एवं उत्तरी अफ्रीका 1.2 1.7 1.9 2.7 2.7
दक्षिण एशिया 6.2 6.9 7.1 7.1 7.1
भारत 6.7 7.3 7.5 7.5 7.5
पाकिस्तान 5.4 5.8 3.7 4.2 4.8
बांग्लादेश 7.3 7.9 7.0 6.8 6.8
उप-सहारा अफ्रीका 2.6 2.7 3.4 3.6 3.7
दक्षिण अफ्रीका 1.3 0.9 1.3 1.7 1.8
उच्च आय वाले देश 2.3 2.2 2.0 1.7 1.6
विकासशील देश 4.6 4.4 4.4 4.7 4.7
निम्न आय वाले देश 5.5 5.6 5.9 6.2 6.3
ब्रिक्स (BRICS) 5.2 5.3 5.2 5.3 5.3
e = अनुमानित (estimated), f – पूर्वानुमान (forecast)
  •    रिपोर्ट के अनुसार, ब्रिक्स (BRICS- ब्राजील, रूस, भारत, चीन एवं दक्षिण अफ्रीका) की संवृद्धि दर वर्ष 2018 में 5.3 प्रतिशत अनुमानित है, जबकि वर्ष 2017 में यह 5.2 प्रतिशत थी।
जीईपी 2019 में ब्रिक्स देशों की स्थिति
देश वर्ष 2017 वर्ष 2018(e) वर्ष 2019(f) वर्ष 2020(f) वर्ष 2021(f)
भारत 6.7% 7.3% 7.5% 7.5% 7.5%
चीन 6.9% 6.5% 6.2% 6.2% 6.0%
रूस 1.5% 1.6% 1.5% 1.8% 1.8%
ब्राजील 1.1% 1.2% 2.2% 2.4% 2.4%
दक्षिण अफ्रीका 1.3% 0.9% 1.3% 1.7% 1.8%
e= estimated f = forecast
  • वर्ष 2019, 2020 तथा 2021 में ब्रिक्स देशों की आर्थिक वृद्धि दर क्रमशः 5.2 प्रतिशत, 5.3 प्रतिशत तथा 5.3 प्रतिशत पूर्वानुमानित है।
  • वर्ष 2018 में ब्रिक्स देशों में सर्वाधिक वृद्धि दर भारत (7.3%) की अनुमानित है।
  • उसके बाद क्रमशः चीन (6.5%), रूस (1.6%), ब्राजील (1.2%) तथा दक्षिण अफ्रीका (0.9%) का स्थान है।
  • वर्ल्ड इकोनॉमिक प्रास्पेक्ट्स रिपोर्ट
  • वाशिंगटन डी.सी. स्थित विश्व बैंक समूह द्वारा वर्ष में दो बार (अर्द्धवार्षिक) वर्ल्ड इकोनॉमिक प्रास्पेक्ट्स रिपोर्ट जारी की जाती है। इस रिपोर्ट में वैश्विक आर्थिक वृद्धि की प्रवृत्ति तथा विकासशील देशों पर पड़ने वाले इसके प्रभावों का परीक्षण किया जाता है। साथ-ही-साथ इस रिपोर्ट में आगामी तीन वर्षों हेतु वैश्विक अर्थव्यवस्था के संदर्भ में पूर्वानुमान भी प्रकाशित किए जाते हैं।