Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

विश्व प्रसन्नता रिपोर्ट, 2019

World Happiness Report
  • जुलाई, 2011 में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने एक ऐतिहासिक प्रस्ताव पारित किया, जिसमें सदस्य देशों को अपने नागरिकों की प्रसन्नता के स्तर को मापने तथा इसके परिणामों का उपयोग लोक नीतियों के निर्माण हेतु निर्देशित किया गया था। इस प्रस्ताव के अनुपालन में अप्रैल, 2012 में भूटान के तत्कालीन प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में ‘प्रसन्नता एवं अच्छे रहन-सहन’ (Happiness and Well-being) विषय पर संयुक्त राष्ट्र उच्चस्तरीय सम्मेलन आहुत किया गया था। इस सम्मेलन से प्राप्त निष्कर्षों के आधार पर संयुक्त राष्ट्र संघ (UNO) द्वारा वर्ष 2012 में पहली बार ‘विश्व प्रसन्नता रिपोर्ट’ (World Happiness Report) जारी की गई।
  • संयुक्त राष्ट्र महासभा के नेतृत्व में ‘संयुक्त राष्ट्र निर्वहनीय विकास समाधान नेटवर्क’ (UN Sustainable Development Solution Network-SDSN) द्वारा 20 मार्च, 2019 को सातवीं विश्व प्रसन्नता रिपोर्ट, 2019’ (7th World Happiness Report, 2019) जारी की गई।
  • इस रिपोर्ट में 156 देशों को उनकी प्रसन्नता के स्तर के अनुसार तथा 117 देशों को उनके अप्रवासियों की प्रसन्नता के स्तर के अनुसार रैंकिंग प्रदान की गई है। इस वर्ष की रिपोर्ट का मुख्य फोकस ‘Happiness and Community : How happiness has been changing over the past down years and how information, technology, governance and Social norms influence community’.
  • वर्ष 2012 से प्रत्येक वर्ष जारी की जाने वाली इस रिपोर्ट का मुख्य उद्देश्य सदस्य देशों को अपने नागरिकों की संतुष्टि एवं प्रसन्नता के स्तर को ध्यान में रखते हुए लोक नीतियों के निर्माण हेतु प्रेरित करना।
  • इस रिपोर्ट के सर्वेक्षण कार्य के अंतर्गत उक्त देशों में लोगों की खुशियों के स्तर को मापने हेतु वर्ष 2016-2018 के मध्य 6 महत्वपूर्ण निर्धारक कारकों (Key Factors) का प्रयोग किया गया है, जो निम्न हैं-

      1  =    जीडीपी प्रतिव्यक्ति आय (GDP Per Capita Income)

      2  =    सामाजिक अवलंबन (Social Support)

      3  =    स्वस्थ जीवन प्रत्याशा (Healthy Life Expectancy)

      4  =    सामाजिक स्वतंत्रता (Social Freedom)

      5  =    उदारता (Generosity)

      6  =    भ्रष्टाचार का अभाव (Absence of Corruption)

  • वर्ष 2019 की रिपोर्ट के अनुसार, विगत वर्ष की भांति भी फिनलैंड सर्वाधिक प्रसन्न देशों की सूची में 7.769 अंक के साथ शीर्ष पर रहा।

विश्व प्रसन्नता रिपोर्ट, 2019 की रैंकिंग में शीर्ष 5 देश

देश

स्कोर

2019 रैंक

2018 रैंक

फिनलैंड

7.769

1

1

डेनमार्क

7.6

2

3

नॉर्वे

7.554

3

2

आइसलैंड

7.494

4

4

नीदरलैंड्स

7.488

5

6

  • इस रिपोर्ट में दक्षिणी सुडान विश्व का सबसे दुःखी देश घोषित किया गया है। वह रैंकिंग में अंतिम (156वें) स्थान पर है।

विश्व प्रसन्नता रिपोर्ट, 2019 की रैंकिंग में अंतिम 5 देश

देश

   स्कोर         

रैंक 2019

दक्षिणी सुडान

2.853

156

मध्य अफ्रीकी गणराज्य

3.083

155

अफगानिस्तान

3.203

154

तंजानिया

3.231

153

रवांडा

3.334

152

  • उल्लेखनीय है कि शीर्ष 10 देशों में कोई भी एशियाई देश शामिल नहीं है।
  • गत वर्ष की तुलना में संयुक्त राज्य अमेरिका की रैंकिंग में 1 स्थान की गिरावट दर्ज की गई है और यह 19वें स्थान पर है।
  • भारत की दृष्टि से यह रिपोर्ट संतोषजनक नहीं कही जा सकती, क्योंकि रैंकिंग में भारत विगत वर्ष (133वें स्थान) की तुलना में 7 स्थानों की गिरावट के साथ 140वें स्थान (4.015 अंक) पर आ गया है। इस प्रकार वह लगातार विगत वर्षों से इस रैंकिंग में नीचे की तरफ ही जा रहा है।

विश्व प्रसन्नता रिपोर्ट, 2019 में सार्क (SAARC) देशों की स्थिति

देश

रैंक

पाकिस्तान

67

भूटान

95

नेपाल

101

बांग्लादेश

125

श्रीलंका

130

भारत

140

अफगानिस्तान

154

  •    मालदीव को इस वर्ष के रिपोर्ट में भी स्थान नहीं दिया गया है।

विश्व प्रसन्नता रिपोर्ट, 2019 में भारत सहित ब्रिक्स (BRICS) देशों की स्थिति

देश

रैंक 2019

रैंक 2018

ब्राजील

32

28

रूस

68

45

चीन

93

86

दक्षिण अफ्रीका

106

105

भारत

140

133

    null
  • उपरोक्त सारणी से स्पष्ट है कि ब्रिक्स में शामिल सभी देशों की रैंकिंग में गिरावट दर्ज की गई है। लेकिन सर्वाधिक रैंकिंग की गिरावट रूस (23 स्थानों की) में तथा सबसे कम दक्षिण अफ्रीका (1 स्थान की) में देखी गई है।

सं. शिव शंकर कुमार तिवारी