Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

यूएई : गोल्डन कार्ड पीआर योजना

download - 2019-06-29T144909.320
  • पृष्ठभूमि
  • किसी भी राष्ट्र द्वारा आर्थिक लाभ प्राप्त करने तथा वैश्विक संसाधनों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए नए-नए प्रयोग किए जाते हैं। इसी क्रम में संयुक्त अरब अमीरात (United Arab Emirates – UAE) ने भी स्थायी निवास (Parmanent Residence) प्रणाली के लिए गोल्डन कार्ड (Golden Card) योजना प्रारंभ की है। जिसका ध्येय राष्ट्र को मजबूत, सशक्त तथा गतिशील बनाना है।
  • वर्तमान परिप्रेक्ष्य
  • 21 मई, 2019 को संयुक्त अरब अमीरात (UAE) के प्रधानमंत्री शेख मोहम्मद बिन राशिद अल-मकतूम द्वारा निवेशकों, असाधारण प्रतिभाओं, उद्यमियों तथा अनुसंधानकर्ताओं के लिए एक स्थायी निवास योजना का शुभारंभ किया गया।
  • इस महत्वपूर्ण योजना का नाम ‘गोल्डन कार्ड’ (Golden Card) योजना है, जिसका मुख्य उद्देश्य खाड़ी देशों में अधिकाधिक भारतीय पेशेवरों और व्यापारियों को आकर्षित करना है
  • गोल्डन कार्ड योजना
  • इस योजना के क्रियान्वयन हेतु प्रथम चरण में 70 से अधिक देशों के 6800 निवेशकों को शामिल किया गया है, जिन्हें स्थायी निवास प्रदान किया जाएगा। इस गोल्डन कार्ड वीजा की पांच श्रेणियां निर्धारित की गई हैं-
  • सामान्य निवेशकों को 10 वर्ष का स्थायी निवास वीजा प्रदान किया जाएगा।
  • रियल एस्टेट (Real Estate) निवेशकों को 5 वर्ष का वीजा प्रदान किया जाएगा।
  • गोल्डन कार्ड योजना में शामिल डॉक्टर, अनुसंधानकर्ताओं तथा नवप्रवर्तक (Inoveters) को 10 वर्ष का वीजा प्रदान किया जाएगा।  
  • इस योजना में उद्यमियों को भी 10 वर्ष का वीजा प्रदान किया जाएगा।
  • इसके साथ ही प्रतिभाशाली छात्रों को भी 5 वर्ष का स्थायी निवास वीजा प्रदान किया जाएगा।
  • योजना से यूएई को लाभ
  • गोल्डन कार्ड योजना द्वारा संयुक्त अरब अमीरात अधिक भारतीय प्रोफेशनल्स तथा उद्यमियों को आकर्षित कर चतुर्मुखी विकास की अवधारणा में सहयोग प्राप्त करेगा।
  • गौरतलब है कि प्रवासी भारतीय समुदाय यूएई में एक बड़ा जातीय समुदाय है, जो देश की लगभग 9 मिलियन जनसंख्या का 30 प्रतिशत (लगभग) है।
  • इन भारतीयों को गोल्डन कार्ड योजना से स्थायी वीजा प्रदान किया जाएगा जिससे वह अपनी क्षमता का स्थायी उपयोग यूएई के हित में आसानी से कर सकते हैं।
  • इस योजना से अधिक विदेशी निवेश आकर्षित होगा और स्थानीय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा।
  • योजना से भारत को लाभ
  • इस योजना से प्रवासी भारतीयों को अधिक क्षेत्रों में कार्य करने का अवसर प्राप्त होगा, जिससे प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से भारत को आर्थिक लाभ प्राप्त होगा।
  • गोल्डन कार्ड योजना द्वारा सामाजिक संबंधों को सुनिश्चित करने के लिए पति-पत्नी के साथ कार्डधारक के बच्चों को भी सम्मिलित किया गया है।
  • भारत तेल का आयात करता है तथा यूएई विश्व के प्रमुख तेल उत्पादक देशों में एक है ऐसे में गोल्डन कार्ड योजना से तेल व्यापार में सहजता होगी।
  • मध्य-पूर्व एशिया में स्थित होने तथा सौहार्द्रपूर्ण संबंध बनाए रखने से भारत का विदेशी व्यापार संतुलन सदैव सकारात्मक दिशा की ओर गतिशील होने की संभावना है।
  • निष्कर्ष
  • संयुक्त अरब अमीरात द्वारा प्रारंभ की गई गोल्डन कार्ड योजना से विविध सेवाओं, तकनीकी दक्षता, चिकित्सा, शिक्षा इत्यादि संसाधन को सरलता से आकर्षित कर सकेगा। जिसका प्रत्यक्ष लाभ यूएई को तथा अप्रत्यक्ष लाभ भारत को प्राप्त होना सुनिश्चित है।

संसुनीत कुमार द्विवेदी