Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

मारितॉनिया में पहला लोकतांत्रिक सत्ता हस्तांतरण

First democratic power transfer in Maritania
  • वर्तमान परिदृश्य
  • 22 जून, 2019 को मॉरितानिया में हुए राष्ट्रपति चुनाव में मोहम्मद औलद गजाउनी ने 52 प्रतिशत मत प्राप्त कर विजय हासिल की।
  • गौरतलब है कि वर्ष 1960 में मॉरितानिया को फ्रांस से आजादी मिली थी। उसके बाद से क्रमशः वर्ष 1978, 1984, 2005 और वर्ष 2008 में सैन्य तख्तापलट के द्वारा ही सत्ता हस्तांतरण हुआ है।
  • उल्लेखनीय है कि  लगभग 15 लाख 44 हजार पंजीकृत मतदाताओं में से 62.66 प्रतिशत ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया।
  • इस चुनाव में कुल छः उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे। चुनाव परिणामों के अनुसार, मुख्य विपक्षी उम्मीदवारों बीरम औलद दाह ओउल्ड आबिद को 18.75 प्रतिशत और सिदी मोहम्मद औलद बाउबकर को 17.85 प्रतिशत मत प्राप्त हुए।
  • हालांकि बाउबकर समेत तीन अन्य उम्मीदवारों ने सत्ता पक्ष पर चुनाव में धांधली कराने के साथ ही कई अन्य अनियमितताओं का आरोप लगाकर चुनाव परिणामों को खारिज कर दिया है।
  • ध्यातव्य है कि विजयी उम्मीदवार गजाउनी, निवर्तमान राष्ट्रपति मोहम्मद औलद अब्देल अजीज के घनिष्ठ सहयोगी एवं उनकी सरकार में रक्षा मंत्री रहे हैं।
  • मॉरितानिया के संविधान के अनुसार, कोई भी व्यक्ति पांच वर्ष के केवल दो कार्यकालों के लिए राष्ट्रपति चुना जा सकता है।
  • चुनाव में प्रमुख मुद्दे
  • इस चुनाव के प्रमुख मुद्दे लोगों के जीवन स्तर में सुधार (Improve Living Standard) और दासता मुक्ति थे।
  • गौरतलब है कि मॉरितानिया वर्ष 1981 में दासता समाप्त करने वाला अंतिम देश है। हालांकि यहां दासता/गुलामी प्रथा आज भी बदस्तूर जारी है।
  • वर्ष 2007 में दासता को बढ़ावा देने वाले तत्वों के विरुद्ध आपराधिक कानून पास किया गया था, लेकिन अभी तक यह कानून पूरी तरह से और प्रभावी रूप से लागू नहीं किया गया है।
  • मॉरितानिया से संबंधित अन्य महत्वपूर्ण तथ्य
  • पश्चिम अफ्रीकी देश मॉरितानिया की आबादी लगभग 36 लाख और क्षेत्रफल लगभग 4 लाख वर्ग मील है।
  • इस देश की प्रमुख भाषाएं अरबी (आधिकारिक) एवं फ्रेंच हैं। इसके साथ ही देश की बहुसंख्यक आबादी इस्लाम धर्म को मानती है।
  • ध्यातव्य है कि मॉरितानिया अफ्रीका महाद्वीप का नया तेल उत्पादक और अन्य खनिजों में संपन्न होने के बावजूद गरीबी और भुखमरी से पीड़ित देश है।

सं.  धीरेन्द्र त्रिपाठी