Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

भारत : दूसरा सर्वाधिक कच्चा इस्पात उत्पादक देश

  • वर्तमान परिप्रेक्ष्य
  •   हाल ही में वर्ल्ड स्टील एसोसिएशन (World Steel Association: WSA) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, वैश्विक स्तर पर कच्चे स्टील (Crude Steel) के उत्पादन में भारत, जापान को पीछे छोड़ते हुए दूसरे स्थान पर पहुंच गया है। चीन शीर्ष उत्पादक देश बना हुआ है, जबकि जापान का तीसरा स्थान है।
  • पृष्ठभूमि
  •  अर्थव्यवस्था का वैश्विक समेकन (Global Consolidation), साथ ही मूल अवसंरचना, रियल एस्टेट और ऑटो-मोबाइल जैसे क्षेत्रों की बढ़ती मांग, जो देश के अंदर और बाहर दोनों स्थानों पर है, ने भारतीय इस्पात को सबसे तेजी से आगे बढ़ने वाला उद्योग बना दिया है। जहां वर्ष 2006 में भारत वैश्विक स्तर पर कच्चे स्टील के उत्पादन में पांचवें स्थान पर था, वहीं 25 जनवरी, 2019 को ‘वर्ल्ड स्टील एसोसिएशन’ (WSA) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, यह वैश्विक स्तर पर दूसरे स्थान पर पहुंच गया है।
  • शीर्ष उत्पादक देश
  • WSA द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, वैश्विक स्तर पर कच्चे इस्पात का उत्पादन वर्ष 2018 में 1808.6 मिलियन टन रहा, जो वर्ष 2017 की तुलना में 4.6 प्रतिशत अधिक है।
  • वर्ष 2018 में कच्चे इस्पात के उत्पादन में चीन कुल 928.3 मिलियन टन उत्पादन के साथ शीर्ष पर है। यह विगत वर्ष की तुलना में 6.6 प्रतिशत अधिक है। वर्ष 2017 में चीन द्वारा कुल 870.9 मिलियन टन कच्चे इस्पात का उत्पादन किया गया था।

  • वर्ष 2018 में कच्चे इस्पात (स्टील) के उत्पादन में भारत कुल 106.5 मिलियन टन उत्पादन के साथ द्वितीय स्थान पर है।
  • उल्लेखनीय है कि वर्ष 2017 में कच्चे इस्पात (स्टील) के उत्पादन में जापान दूसरे स्थान पर था, जबकि भारत का स्थान तीसरा था।
  • भारत के मौजूदा उत्पादन में वर्ष 2017 की तुलना में 4.9 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।
  • वर्ष 2018 में कच्चे इस्पात के उत्पादन में जापान कुल 104.3 मिलियन टन उत्पादन के साथ तृतीय स्थान पर है, जो वर्ष 2017 की तुलना में 0.3 प्रतिशत की कमी दर्शाता है।
  • वर्ष 2018 में कच्चे इस्पात के उत्पादन में अमेरिका 86.7 मिलियन टन उत्पादन के साथ चौथे स्थान पर है, जबकि 72.5 मिलियन टन उत्पादन के साथ दक्षिण कोरिया पांचवें स्थान पर है।

शीर्ष 10 कच्चा इस्पात उत्पादक देश

 

(उत्पादन मि.टन में)

रैंक

देश 2018 2017

% 2018/2017

1 चीन 928.3 870.9 6.6
2 भारत 106.5 101.5 4.9
3 जापान 104.3 104.7 -0.3
4 यू.एस.ए. 86.7 81.6 6.2
5 दक्षिण कोरिया 72.5 71 2
6 रूस 71.7 71.5 0.3
7 जर्मनी 42.4 43.3 -2
8 तुर्की 37.3 37.5 -0.6
9 ब्राजील 34.7 34.4 1.1
10 ईरान 25 21.2 17.7
  • शीर्ष उत्पादक क्षेत्र
  • èवर्ष 2018 में एशिया में कच्चे इस्पात का उत्पादन 1271.1 मिलियन टन था, जो वर्ष 2017 की तुलना में 5.6 प्रतिशत अधिक है।

क्षेत्रीय स्तर पर वैश्विक उत्पादन

(मिलियन टन में)

 

देश

2018 2017

% 2018/2017

यूरोप 311.8 311.7 0
यूरोपियन यूनियन 168.1 168.5 -0.3
सीआईएस देश 101.3 100.9 0.3
उत्तरी अमेरिका 120.5 115.8 4.1
यू.एस.ए. 86.7 81.6 6.2
दक्षिणी अमेरिका 44.3 43.7 1.3
अफ्रीका 16.1 15.1 7.2
मध्य-पूर्व क्षेत्र 38.5 34.5 11.7
एशिया 1271.1 1203.2 5.6
चीन 928.3 870.9 6.6
जापान 104.3 104.7 -0.3
भारत 106.5 101.5 4.9
ऑस्ट्रेलिया/न्यूजीलैंड 6.3 6 5.9
विश्व 1808.6 1729.8 4.6
  •    विश्व इस्पात संघ, एक गैर-लाभकारी संस्था है, जिसकी स्थापना 10 जुलाई, 1967 को अंतरराष्ट्रीय लौह और इस्पात संस्थान के रूप में हुई थी। वर्ष 2008 में इसका नाम बदलकर वर्ल्ड स्टील एसोसिएशन कर दिया गया। इसका मुख्यालय ब्रुसेल्स (बेल्जियम) में स्थित है। विश्व इस्पात संघ के सदस्य देश विश्व के स्टील उत्पादन के लगभग 85 प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करते हैं।

  • अन्य संबंधित तथ्य
  • इस्पात मंत्रालय, भारत सरकार के अनुसार, भारत में इस्पात की प्रति व्यक्ति खपत वर्ष 2013-14 के 59 किग्रा. से बढ़कर वर्ष 2017-18 में 69 किग्रा. हो गई है। जबकि वर्ल्ड स्टील एसोसिएशन के अनुसार, वर्ष 2017 में भारत में तैयार इस्पात (Finished Steel) की प्रति व्यक्ति खपत 66.2 किग्रा. है, जो प्रति व्यक्ति वैश्विक औसत 212.3 किग्रा. से काफी कम है।
  • भारत में इस्पात उत्पादन की क्षमता जो वर्ष 2012-13 में 97 मिलियन टन थी। वर्ष 2017-18 में बढ़कर 138 मिलियन टन हो गई।
  • 50 प्रतिशत से ज्यादा इस्पात का उत्पादन द्वितीयक क्षेत्र में है।
  • इस्पात मंत्रालय, भारत सरकार ने भारत में इस्पात की खपत को बढ़ाने के लिए My GOV मंच का उपयोग विचारों को इकट्ठा करने के लिए किया है।
  • वर्तमान समय में भारत स्पंज आयरन का विश्व में सबसे बड़ा उत्पादक देश है।
  • भारत वर्ष 2017 में विश्व में तैयार इस्पात का तीसरा सबसे बड़ा उपभोक्ता रहा है।
  • भारत विगत दो वर्षों से तैयार इस्पात का शुद्ध निर्यातक देश रहा है।
  • राष्ट्रीय इस्पात नीति, 2017 में देश की वर्तमान इस्पात उत्पादन क्षमता 138 मिलियन टन को वर्ष 2030-31 तक बढ़ाकर 300 मिलियन टन करने की परिकल्पना की गई है।

इस्पात का उपयोग करने वाले 5 प्रमुख देश

 (मिलियन टन में)

देश

2017 2018(f)

2019 (f)

चीन 736.83 781 781
अमेरिका 97.722 99.9 101.2
भारत 88.68 95.4 102.3
जापान 64.38 64.5 64.8
दक्षिण कोरिया 56.402 54.1 54.7
f = पूर्वानुमान