Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

परम शिवाय सुपरकंप्यूटर

param shivay supercomputer
  • वर्तमान परिप्रेक्ष्य
  • 19 फरवरी, 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘परम शिवाय’ (Param Shivay) नामक सुपरकंप्यूटर का लोकार्पण किया।
  • यह ‘राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन’ (NSM) के अंतर्गत सी-डैक (C-DAC) द्वारा डिजाइन एवं निर्मित पहला सुपरकंप्यूटर है।
  • यह सुपरकंप्यूटर ‘भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान’ (IIT-BHU), वाराणसी में स्थापित है।
  • विशेषताएं
  • परम शिवाय सुपरकंप्यूटर की अधिकतम संगणन क्षमता (Computing Power) 833 टेराफ्लॉप्स है।
  • यह सुपरकंप्यूटर 32.5 करोड़ रु. की लागत से निर्मित किया गया है।
  • इस सुपरकंप्यूटर का लाभ आईआईटी-बीएचयू के संकाय सदस्यों, वैज्ञानिकों और शोध छात्रों को प्राप्त होगा।
  • इसके अतिरिक्त पूर्वी उत्तर प्रदेश के आस-पास के क्षेत्रों के इंजीनियरिंग कॉलेजों के शोध छात्रों के साथ-साथ सरकारी शोध प्रयोगशालाओं में संचालित राष्ट्रीय महत्व की परियोजनाएं भी इस सुपरकंप्यूटर से लाभान्वित होंगी।
  • इसके अलावा इस सुपरकंप्यूटर के माध्यम से नवोदय विद्यालयों के छात्र आधारभूत सुपरकंप्यूटिंग से परिचित हो सकेंगे।
  • प्रासंगिक सामाजिक मुद्दों जैसे सिंचाई योजनाएं, यातायात प्रबंधन, स्वास्थ्य आदि से संबंधित आम आदमी की समस्याओं का समाधान भी इस सुपरकंप्यूटर के माध्यम से संभव हो सकेगा।
  • राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन
  • वर्ष 2015 में केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा ‘राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन’ (NSM : National Supercomputing Mission) को स्वीकृति प्रदान की गई थी।
  • इस मिशन का उद्देश्य देशभर में स्थित राष्ट्रीय अकादमिक और अनुसंधान एवं शोध संस्थानों में उच्च निष्पादन क्षमता के 70 से अधिक सुपरकंप्यूटरों की स्थापना के माध्यम से उनका सशक्तीकरण करना है।
  • इस मिशन का संचालन संयुक्त रूप से इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा किया जा रहा है।
  • यह मिशन देश के दो शीर्ष संगठनों यथा ‘प्रगत संगणन विकास केंद्र’ (C-DAC) तथा भारतीय विज्ञान संस्थान, बंगलुरू द्वारा कार्यान्वित किया जा रहा है।
  • इस मिशन को कार्यान्वित करने में विभिन्न संगठनों जैसे नीति आयोग, IIT, जेएनयू, DRDO तथा बार्क (BARC) के विशेषज्ञों ने महत्वपूर्ण योगदान दिया है।
  • राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन भारत सरकार की ‘डिजिटल इंडिया’ तथा ‘मेक इन इंडिया’ जैसी पहलों का समर्थन करता है तथा इसका लक्ष्य वैश्विक सुपरकंप्यूटिंग मानचित्र पर भारत को शीर्ष पर स्थापित करना है।

संसौरभ मेहरोत्रा