Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

नागा हिल्स बटालियन – शौर्य समझौता

Naga Hills Battalion - Shaurya Parbat
  • वर्तमान परिप्रेक्ष्य
  • 22 मई, 2019 को भारतीय तटरक्षक के महानिदेशक व असम राइफल्स के महानिदेशक के मध्य लैइतकोर (Laitkor), शिलांग में आयोजित एक समारोह में संबद्धता चार्टर (Affiliation Charter) पर हस्ताक्षर किए गए।
  • यह संबद्धता चार्टर भारतीय तटरक्षक (Indian Coast Guard : ICG) के पोत ‘शौर्य’ और असम राइफल्स की तीसरी बटालियन (नागा हिल्स) से संबंधित है।
  • 11-12 जून, 2019 के मध्य इस संबद्धता चार्टर (Affiliation Charter) से संबंधित आदान-प्रदान समारोह (Reciprocation Ceremony) का आयोजन  ‘‘शौर्य’’ पोत पर किया गया।
  • उद्देश्य
  • इस संबद्धता का उद्देश्य भारतीय तटरक्षक और असम राइफल्स के मध्य द्विपक्षीय सहयोग को बढ़ाना है, जिससे समान लक्ष्यों की प्राप्ति में एक-दूसरे को प्रेरित कर लाभ उठा सकें।
  • इसके अंतर्गत सूचना और कर्मियों के आदान-प्रदान, प्रशिक्षण, खेल, साहस (Adventure) व सतत विकास में सहयोग करना है, जिससे एक-दूसरे की कुशलता को बढ़ाया जा सके।
  • असम राइफल्स
  • यह भारत का सबसे पुराना अर्द्धसैनिक (Para Military) बल है। वर्तमान समय में असम राइफल्स की 46 बटालियन हैं, जो भारत-म्यांमार सीमा की रक्षा व पूर्वोत्तर राज्यों में उग्रवाद विरोधी कार्यवाहियों में संलग्न हैं।
  • नागा बटालियन, असम राइफल्स की तीसरी बटालियन है, जो असम में राइफल्स का सबसे पुराना सशस्त्र बल है। इसका गठन  1835 ई. में ब्रह्मपुत्र नदी से कछार की पहाड़ियों तक असम की पूर्वी सीमा की रक्षा करने हेतु किया गया था।
  • भारतीय तटरक्षक
  • भारतीय तटरक्षक, भारत के रक्षा मंत्रालय के अंतर्गत सबसे युवा सशस्त्र बल है। जिसके अंतर्गत वर्तमान समय में 42 पोत व 62 विमान कार्यरत हैं।
  • भारत की संसद द्वारा भारतीय समुद्री क्षेत्र अधिनियम, 1976 अधिनियमित किया गया था, जिसके अंतर्गत 1 फरवरी, 1978 को भारत के जलीय व अनन्य आर्थिक क्षेत्र की सुरक्षा हेतु भारतीय तटरक्षक बल का आविर्भाव हुआ।
  • पोत ‘‘शौर्य’’
  • भारतीय तटरक्षक पोत ‘‘शौर्य’’ (Shaurya) का निर्माण गोवा शिपयार्ड लिमिटेड में किया गया है। वर्तमान में यह पोत चेन्नई में अवस्थित है।
  • 150 मीटर लंबा अपतटीय निगरानी पोत (OPV – Offshore Patrol Vessel) देश की समुद्री सुरक्षा हेतु प्रतिबद्ध है।
  • यह पोत 12 अगस्त, 2017 को समुद्री सुरक्षा हेतु अधिकृत किया गया।

संसचिन कुमार वर्मा