Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

जीएसआई : अरुणाचल प्रदेश में ग्रेफाइट भंडार

GSI: Graphite stores in Arunachal Pradesh
  • ग्रेफाइट (Graphite) कार्बन का एक बहुरूप है। इसमें एक विशेष प्रकार की चमक पाई जाती है एवं यह विद्युत एवं ताप का सुचालक होता है। काले-भूरे रंग का यह अधातु सिंहल, साइबेरिया, अमेरिका, कोरिया, न्यूजीलैंड तथा इटली जैसे देशों में पाया जाता है। भारत ग्रेफाइट का आयात करता है। भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण (Geological Survey of India-GSI) ने अपनी रिपोर्ट में यह बताया कि भारत के कुल ग्रेफाइट भंडार का लगभग 35 प्रतिशत अरुणाचल प्रदेश में पाया जाता है और यह ग्रेफाइट उत्पादन का अग्रणी राज्य बन सकता है।
  • वर्तमान परिप्रेक्ष्य
  • हाल ही में भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण ने अरुणाचल प्रदेश सरकार के साथ वार्षिक बैठक के दौरान बताया कि देश का 35 प्रतिशत ग्रेफाइट निक्षेप अरुणाचल प्रदेश में पाया जाता है।
  • वार्षिक बैठक में यह भी बताया गया कि अरुणाचल प्रदेश को देश में ग्रेफाइट के प्रमुख उत्पादक राज्य के रूप में विकसित किया जा सकता है।
  • ग्रेफाइट का प्रयोग
  • ध्यातव्य है कि ग्रेफाइट एकमात्र गैर-धातु (Non metal)) तत्व जो विद्युत का एक अच्छा चालक (Conductor) है। यह ऐसे उद्योगों में प्रयोग किया जाता है, जिन्हें बहुत अधिक गर्मी की आवश्यकता होती है।
  • ग्रेफाइट का उपयोग पेंसिल की लीड तथा घड़ियों की कमानी बनाने में तथा उच्च ताप पर चलने वाली मशीनों में इसको तेल या पानी के साथ मिलाकर स्नेहक के रूप में प्रयोग किया जाता है।
  • इसके साथ ही इसका प्रयोग न्यूक्लियर रियेक्टर में मोडेरेटर के रूप में, धातुओं को पिघलाने के लिए क्रुसिबल बनाने में तथा ग्रेफाइट के पाउडर का प्रयोग पॉलिश करने में किया जाता है।
  • जीएसआई
  • भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण, भारत सरकार के खान मंत्रालय के अधीन कार्यरत एक संगठन है, जिसकी स्थापना कोलकाता में 1851 ई. में की गई थी।
  • इसके 6 क्षेत्रीय कार्यालय-लखनऊ, जयपुर, शिलांग, नागपुर, हैदराबाद तथा कोलकाता हैं तथा इसका कार्य भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण और अध्ययन करना है।
  • गौरतलब है कि इंडियन मिनरल्स ईयर बुक, 2017 के अनुसार, भारत में ग्रेफाइट उत्पादन में प्रथम स्थान तमिलनाडु (76%) का है, तत्पश्चात ओडिशा (13%) तथा झारखंड एवं केरल (11%) का स्थान है।
  • निष्कर्ष
  • अरुणाचल प्रदेश में ग्रेफाइट भंडार होने की पुष्टि से जहां एक ओर ग्रेफाइट आयात में कमी होगी, वहीं दूसरी ओर भारत को इसमें आत्मनिर्भरता प्राप्त होने की प्रबल संभावना बन गई है।

सं. सुनीत द्विवेदी