Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

जल शक्ति अभियान

jal shakti abhiyaan
  • वर्तमान परिदृश्य
  • 1 जुलाई, 2019 को केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत द्वारा ‘जलशक्ति अभियान’ के शुरुआत की घोषणा की गई।
  • गौरतलब है कि यह अभियान दो चरणों में चलाया जाएगा। इसमें पहला चरण 1 जुलाई से 15 सितंबर, 2019 के मध्य, जबकि दूसरा चरण 1 अक्टूबर, 2019 से प्रारंभ होकर 30 नवंबर, 2019 तक चलेगा।
  • अभियान का उद्देश्य
  • इस अभियान का उद्देश्य जल संरक्षण और जल सुरक्षा को लेकर जन जागरूकता को बढ़ावा देने के साथ ही हर घर में नल का पानी उपलब्ध कराना है।
  • अभियान से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य
  • इस अभियान के अंतर्गत पानी की समस्या से जूझ रहे 256 जिलों के 1592 प्रखंडों को शामिल किया जाएगा।
  • इस अभियान के तहत जिला प्रशासन के अधिकारी जल शक्ति मंत्रालय द्वारा निर्धारित पांच जल संरक्षण बिंदुओं को सुनिश्चित करने का कार्य करेंगे।
  • ध्यातव्य है कि ये पांच बिंदु- वर्षा जल संचयन, जल संरक्षण, सघन वनीकरण, पारंपरिक एवं अन्य जल निकायों या टैंकों का नवीकरण और जल संभरण विकास हैं।
  • उल्लेखनीय है कि मनरेगा स्कीम, जल शक्ति अभियान की अहम साझीदार है। इस स्कीम (मनरेगा) के तहत जल शक्ति अभियान के पहले चरण में 15 हजार करोड़ रुपये लगाए जाएंगे।
  • गौरतलब है कि मनरेगा ने देश में जल संकट से जूझ रहे 1100 प्रखंडों (ब्लॉक्स) में जल संरक्षण के लिए 2 लाख परियोजनाओं (कार्यों) का विस्तृत ब्यौरा तैयार किया है।
  • अभियान के तहत जल संकट से जूझ रहे गांव ‘पानी पंचायत’ का आयोजन करेंगे, जिसमें पानी की कमी से जुड़ी समस्याएं और उनके समाधान खोजे जाएंगे।
  • इस अभियान के व्यापक प्रचार-प्रसार के लिए इसमें स्कूल एवं महाविद्यालयों के छात्रों, स्वयं सहायता समूहों, स्वेच्छाग्रहियों, पंचायतीराज संस्था के सदस्यों, युवा समूहों, रक्षा कर्मियों, पेंशन भोगियों के साथ-साथ अन्य समूहों को शामिल किया जाएगा।
  • गौरतलब है कि 30 जून, 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में जल संरक्षण को ‘स्वच्छ भारत मिशन’ की तर्ज पर एक जन आंदोलन बनाने का आह्वान किया था।
  • उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री मोदी ने हाल ही में वर्षा जल संचयन, तालाबों एवं टंकियों के रख-रखाव और पानी के संरक्षण के लिए देश के लगभग 2.3 लाख सरपंचों को पत्र लिखा था।

सं. धीरेन्द्र त्रिपाठी