Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

एशियन डेवलपमेंट आउटलुक : 2019

Asian Development Outlook: 2019
  • एशियन डेवलपमेंट आउटलुक का प्रकाशन वार्षिक रूप से एशियाई विकास बैंक द्वारा किया जाता है। इसमें एशिया के प्रमुख देशों के संदर्भ में सामाजिक विकास का परीक्षण तथा आर्थिक गतिविधियों का विश्लेषण एवं पूर्वानुमान लगाया जाता है।
  • वर्तमान संदर्भ
  • 3 अप्रैल, 2019 को एशियाई विकास बैंक द्वारा एशियन डेवलपमेंट  आउटलुक, 2019 जारी किया गया। ‘आपदा सहनशीलता को मजबूत करना’ (Strengthening Disaster Resilience) एशियन डेवलपमेंट आउटलुक, 2019 का केंद्र बिंदु था।
  • पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना और संयुक्त राज्य अमेरिका के मध्य व्यापार संघर्ष, अमेरिकी राजकोषीय नीति, ब्रेक्जिट से उत्पन्न विभिन्न अनिश्चितताओं के चलते एशिया में निवेश और विकास की चुनौती बनी रहेगी।
  • गौरतलब है कि विभिन्न चुनौतियों के बाद भी विकासशील एशिया में मजबूत वृद्धि दर्ज की गई।
  • विकासशील एशिया की वृद्धि दर का अनुमान वर्ष 2019 एवं 2020 के लिए क्रमशः 5.7 प्रतिशत और 5.6 प्रतिशत लगाया गया है, जो कि वर्ष 2017 (6.2%) और वर्ष 2018 (5.9%) की तुलना में कम है।
  • वहीं एशिया की उच्च आय वाली औद्योगिक अर्थव्यवस्थाओं की जी.डी.पी. वृद्धि दर का अनुमान वर्ष 2019 एवं 2020 में क्रमशः 6.2 प्रतिशत एवं 6.1 प्रतिशत लगाया गया है, जो वर्ष 2017 में 6.6 प्रतिशत और वर्ष 2018 में 6.4 प्रतिशत थी।
  • इस क्षेत्र के 45 अर्थव्यवस्थाओं में से मात्र 20 अर्थव्यवस्थाओं में वृद्धि का अनुमान वर्ष 2019 में लगाया गया है।
  • तेल की बढ़ती कीमतें और एशियाई मुद्राओं की कीमतों में आई गिरावट के कारण मुद्रास्फीति में पिछले वर्ष की तुलना में वृद्धि पाई गई।
  • वर्ष 2019 एवं 2020 में मुद्रास्फीति की दर 2.5 प्रतिशत पर स्थिर रहेगी।

 

एशिया के विभिन्न क्षेत्रों की तुलना

क्षेत्र

GDP वृद्धि दर % में

मुद्रास्फीति % में

वर्ष

वर्ष*

 

2017

2018

2019*

2020*

2017

2018

2019*

2020*

मध्य एशिया

4.2

4.4

4.2

4.2

9

7.9

7.8

7.2

पूर्व एशिया

6.2

6

5.7

5.5

1.6

2

1.8

1.8

दक्षिण एशिया

6.9

6.7

6.8

6.9

3.9

3.7

4.7

4.9

दक्षिण-पूर्व एशिया

5.3

5.1

4.9

5

2.8

2.7

2.6

2.7

पैसिफिक क्षेत्र

2.4

0.9

3.5

3.2

4.2

4.2

3.7

4

* – अनुमानित वर्षv

  • कमजोर कृषि उत्पादन और उपभोग वृद्धि, बढ़ती तेल की कीमतें तथा सरकारी खर्च में कमी के कारण भारत की विकास दर वर्ष 2017 के मुकाबले 7.2 प्रतिशत से कम होकर वर्ष 2018 में 7.0 प्रतिशत हो गया।
  • वहीं वर्ष 2019 एवं 2020 के लिए भारत की जीडीपी वृद्धि का अनुमान क्रमशः 7.2 प्रतिशत एवं 7.3 प्रतिशत लगाया गया है।
  • सरकार द्वारा नीतिगत दरों में कटौती करके, किसानों की आय बढ़ाकर तथा घरेलू मांग में वृद्धि लाकर एवं निर्यात को बढ़ाकर चुनौतियों से निपटा जा सकता है।
  • भारत में मुद्रास्फीति की दर का अनुमान वर्ष 2019 एवं 2020 के लिए क्रमशः 4.3 प्रतिशत तथा 4.6 प्रतिशत लगाया गया है।
  • नेपाल वर्ष 2017 में सर्वाधिक विकास दर वाला देश रहा, जिसने 7.9 प्रतिशत की दर से विकास किया।
  • वर्ष 2018 में सर्वाधिक विकास दर बांग्लादेश (7.9 %) का रहा, जो एशिया में सबसे अधिक वृद्धि वाला देश रहा।

देश

जीडीपी विकास दर %

मुद्रास्फीति दर % में

 

वर्ष

वर्ष

 

2017

2018

2019*

2020*

2017

2018

2019*

2020*

अफगानिस्तान

2.7

2.2

2.5

3

5

0.6

3

4.5

बांग्लादेश

7.3

7.9

8

8

5.4

5.8

5.5

5.8

भूटान

6.3

5.5

5.7

6

4.3

3.6

3.8

4

भारत

7.2

7

7.2

7.3

3.6

3.5

4.3

4.6

मालदीव

6.9

7.6

6.5

6.3

2.8

-0.1

1

1.5

नेपाल

7.9

6.3

6.2

6.3

4.5

4.2

4.4

5.1

पाकिस्तान

5.4

5.2

3.9

3.6

4.2

3.9

7.5

7

श्रीलंका

3.4

3.2

3.6

3.8

7.7

2.1

3.5

4

* – अनुमानित वर्ष

  • सार्क देशों में वर्ष 2017 एवं 2018 में सबसे कम विकास दर अफगानिस्तान का रहा।
  • इस रिपोर्ट के अनुसार, विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में एशिया की प्राकृतिक आपदाओं के प्रति सहनशीलता सबसे कम है।
  • गौरतलब है कि एशिया में पांच में से चार व्यक्ति प्राकृतिक आपदाओं से प्रभावित होते हैं।
  • वर्ष 2000 के बाद प्राकृतिक आपदाओं से एशिया को 644 बिलियन डॉलर का नुकसान हुआ है।
  • इनमें से मौसम संबंधी खतरों (Hazards) के कारण सबसे ज्यादा (507 बिलियन डॉलर) नुकसान हुआ है, जबकि भू-भौतिकीय आपदाओं से 137 बिलियन डॉलर का नुकसान हुआ है।
  • इस रिपोर्ट के अनुसार, एशिया में ‘आपदा-लचीले बुनियादी ढांचा (Disaster Resilient Infrastructure) के निर्माण के लिए वर्ष 2016 से 2030 तक 26 ट्रिलियन डॉलर या प्रति वर्ष 1.7 ट्रिलियन डॉलर निवेश की आवश्यकता है।
  • आपदा से अमीर परिवारों की तुलना में गरीब परिवार आर्थिक एवं सामाजिक रूप से अधिक प्रभावित होता है।
  • देशों की अंतर-निर्भरता, उपकरणों का प्रयोग, प्रभावी समन्वय, पारस्परिक निगरानी प्रणाली का विकास करके और आपदा को लेकर प्रारंभिक चेतावनी साथ ही सामूहिक दृष्टिकोण के साथ इसके प्रभाव को कम किया जा सकता है।
  • एशियन डेवलपमेंट बैंक की स्थापना दिसंबर, 1966 में एक क्षेत्रीय विकास बैंक के रूप में हुई। इसका मुख्यालय मनीला, फिलीपींस में है। यह बैंक एशिया में सामाजिक और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए कार्य करती है।

सं. अनुज तिवारी