Contact Us: 0532-2465524, 25, M.-9335140296    
E-mail : [email protected]

सीपीसीबी नदी प्रदूषण रिपोर्ट पृष्ठभूमि

October 29th, 2018
CPCB river pollution report
  • पृष्ठभूमि
  • केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) द्वारा जारी एक रिपोर्ट के अनुसार, देश की नदियों में प्रदूषित नदी खंडों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार, देश में प्रदूषित नदी खंडों की संख्या, जहां 2 वर्ष पूर्व 302 थी वर्तमान में 351 हो गई है।
  • उन प्रदूषित खंडों की संख्या जिनके पानी की गुणवत्ता सर्वाधिक खराब है, जहां 2 वर्ष पूर्व यह संख्या 34 थी वर्तमान में 45 हो गई है।
  • राज्यवार नदी प्रदूषण
  • केवल तीन राज्यों महाराष्ट्र, असम तथा गुजरात में 351 प्रदूषित नदी खंडों में से 117 खंड स्थित हैं।
  • CPCB के अनुसार, महाराष्ट्र, असम तथा गुजरात की नदियों की तुलना में बिहार और उत्तर प्रदेश के कई नदी खंड कम प्रदूषित हैं।




  • CPCB ने वर्ष 2015 की रिपोर्ट में 25 राज्यों और 6 केंद्रशासित प्रदेशों में विस्तारित 275 नदियों के 302 प्रदूषित खंडों की पहचान की थी।
  • मापन का आधार
  • CPCB नदियों की गुणवत्ता निगरानी कार्यक्रम का संचालन, BOD (Bio-Chemical Oxygen Demand) मापन के आधार पर 1990 के दशक से ही कर रहा है।
  • BOD का स्तर जितना अधिक होता है, नदी उतनी ही अधिक प्रदूषित मानी जाती है।
  • BOD स्तर के आधार पर विभाजन इस प्रकार किया गया है- 30mg/l से अधिक BOD (प्राथमिकता-I), 20 mg/l से 30 mg/l BOD स्तर (प्राथमिकता-II), 10 mg/l से 20 mg/l BOD स्तर (प्राथमिकता-III), 6 mg/l से 10 mg/l BOD स्तर (प्राथमिकता-IV) और 3 mg/l से 6 mg/l BOD स्तर (प्राथमिकता-V)।
  • 3 mg/l से नीचे के BOD स्तर वाली नदियों को CPCB स्वस्थ नदी मानती है।
  • प्रदूषित नदी खंड
  • मीथि नदी का पोवई से धरावी खंड, सर्वाधिक प्रदूषित नदी खंड है। यहां BOD, 250 mg/l है।
  • गोदावरी नदी का, सोमेश्वर से शहेद खंड, – यहां BOD 5.0 mg/l से 80 mg/l है।




  • साबरमती नदी का खेरोज से वाउथा खंड – यहां BOD 4.0 mg/l से 147 mg/l है।
  • हिंडन नदी का सहारनपुर से गाजियाबाद खंड – यहां BOD 48 mg/l से 120 mg/l है।
  • उत्तर प्रदेश में गंगा नदी का प्रदूषण खंड – यहां BOD 3.5 mg/l से 8.8 mg/l है। यहां गंगा को प्राथमिकता-IV नदी के रूप में इंगित किया गया है।
  • केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB)
  • CPCB का गठन एक सांविधिक संगठन के रूप में जल (प्रदूषण निवारण एवं नियंत्रण) अधिनियम, 1974 के अंतर्गत सितंबर, 1974 में किया गया था।
  • CPCB को वायु (प्रदूषण निवारण एवं नियंत्रण) अधिनियम, 1981 के अंतर्गत शक्तियां एवं कार्य सौंपे गए।
  • यह पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के एक फील्ड संघटन का काम करता है तथा मंत्रालय को पर्यावरण (संरक्षण) अधिनियम, 1986 के उपबंधों के बारे में तकनीकी सेवाएं भी प्रदान करता है।

लेखक-अमर सिंह

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •