Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

वैश्विक गतिशीलता सम्मेलन, 2018

Global Mobility Conference, 2018
  • वर्तमान परिदृश्य
  • 7-8 सितंबर, 2018 के मध्य नई दिल्ली में नीति आयोग द्वारा ‘मूव : वैश्विक गतिशीलता सम्मेलन’ आयोजित किया गया।
  • विभिन्न मंत्रालयों एवं उद्योग जगत के सहयोग से विज्ञान भवन, नई दिल्ली में सम्मेलन का आयोजन किया गया, जिसमें विश्व भर के राजनेता, उद्योगपति, शोध संस्थान, शिक्षा जगत एवं नागरिक समाज के प्रतिनिधि सम्मिलित हुए।
  • वैश्विक गतिशीलता सम्मेलन के माध्यम से वाहन विद्युतीकरण, अक्षय ऊर्जा एकीकरण, रोजगार सृजन और भारत में स्वच्छ ऊर्जा-आधारित अर्थव्यवस्था के विकास में मदद मिलने की संभावना है।




  • उद्देश्य
  • इस सम्मेलन का उद्देश्य सुरक्षित, स्वच्छ, साझा एवं जुड़ी हुई, किफायती, सर्वसुलभ एवं समावेशी परिवहन प्रणाली के आधार का निर्माण करना है।
  • समारोह के प्रतिभागी
  • शिखर सम्मेलन में विश्व भर से 30 मुख्य कार्यकारी अधिकारियों (सीईओ), 100 राज्य अधिकारियों एवं विदेशी प्रतिनिधियों, 200 भारतीय कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों सहित लगभग 2200 प्रतिनिधियों ने प्रतिभाग किया।
  • अमेरिका, जापान, जर्मनी, द. अफ्रीका, न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर, द. कोरिया, यूनाइटेड किंगडम, चीन और नीदरलैंड्स जैसे बड़े देशों  ने अपने दूतावासों अथवा निजी क्षेत्र की कंपनियों के माध्यम से शिखर सम्मेलन में भाग लिया।
  • वैश्विक गतिशीलता सम्मेलन के विषय




  • वैश्विक गतिशीलता सम्मेलन को छः मुख्य विषयों यथा- परिसंपत्तियों एवं सेवाओं का अधिकतम उपयोग, व्यापक विद्युतीकरण एवं  वैकल्पिक ईंधन, माल परिवहन एवं लॉजिस्टिक्स, बदलते सार्वजनिक परिवहन, डेटा विश्लेषण एवं मोबिलिटी और प्रैक्टिसनर्स के परिप्रेक्ष्य से शहरों में गतिशीलता में बांटा गया था।
  • प्रमुख गतिविधियां
  • वैश्विक गतिशीलता सम्मेलन की प्रमुख गतिविधियों को मुख्यतः तीन घटकों यथा – सम्मेलन, प्रदर्शनी एवं विशेष कार्यक्रम में बांटा गया था।
  • सम्मेलन के दौरान आंतरिक गुप्त बैठकें, डिजिटल प्रदर्शनी, कई तरह की स्पर्धाएं, विभिन्न हितधारकों के मध्य परामर्श और मोबिलिटी सप्ताह जैसी गतिविधियों का आयोजन हुआ।
  • इस दौरान ऑटो कंपनियों ने ऑटो एक्सपो का आयोजन किया, जिसके माध्यम से भविष्य की इलेक्ट्रिक कारों, प्रौद्योगिकियों और अन्य नवाचारों को प्रदर्शित किया गया।




  • 7 सितंबर, 2018 को वैश्विक गतिशीलता सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत में गतिशीलता के भविष्य को 7C(सी) यथा- कॉमन, कनेक्टेड, कन्वेनिएंट, कन्जेशन-फ्री, क्लीन, चार्जड और कटिंग-एज पर आधारित बताया।
  • सम्मेलन के अवसर पर प्रधानमंत्री ने टोयोटा, एबीबी लिमिटेड, शंघाई, बॉस, एसएआईसी मोटर कॉर्पोरेशन, हुंडई मोटर कंपनी फोर्ड स्मार्ट मोबिलिटी एलएलसी, सुजुकी मोटर कॉर्पोरेशन और उबर एविएशन जैसी बड़ी कंपनियों के उच्चस्तरीय प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की।
  • गौरतलब है, कि वैश्विक गतिशीलता सम्मेलन जैसी पहलों के माध्यम से भारत सरकार इलेक्ट्रिक वाहनों के विनिर्माण में निवेश आकर्षित करने के साथ ही लोगों को सार्वजनिक परिवहन प्रणाली के प्रति उत्साहित करना चाहती है।

लेखक-धीरेन्द्र त्रिपाठी