Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

मेघालय : नीली क्रांति का शुभारंभ

Meghalaya: Launch of Blue Revolution
  • वर्तमान परिदृश्य
  • 26 अक्टूबर, 2018 को मेघालय सरकार ने एक नई योजना ‘ब्लू रिवोल्यूशन (नीली क्रांति) : मत्स्यपालन का एकीकृत विकास एवं प्रबंधन’ लांच की।
  • यह योजना राज्य की मत्स्य आवश्यकताओं को पूरा करेगा।
  • योजना आवंटन
  • केंद्र सरकार ने योजना के तहत 51 करोड़ रुपये की मंजूरी दी है और राज्य सरकार को इस मद हेतु 25 करोड़ रुपये की पहली किस्त मिल चुकी है।
  • लक्ष्य
  • योजना के तहत केंद्र सरकार ने राज्य में मत्स्योत्पादन को वर्ष 2015-16 के 107.95 लाख टन से बढ़ाकर वर्ष 2019-20 में 150 लाख टन तक पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित किया है।
  • यह नीली क्रांति निर्यात आय में वृद्धि के साथ-साथ राज्य में मछुआरों और मछली किसानों (Fish Farmers) की आय में वृद्धि का भी सोपान करवाएगा।
  • कार्यान्वयन
  • नीली क्रांति के तहत सरकार 1000 हेक्टेयर भूमि में नए तालाबों को विकसित करेगी।
  • साथ ही फीड मिलों (Feed mills) और स्थानीय मछलियों के लिए नए खुदरा आउटलेट्स भी विकसित किए जाएंगे।
  • पृष्ठभूमि
  • ध्यातव्य है कि मेघालय वर्ष 2012 तक 4000 मीट्रिक टन मछली का उत्पादन कर रहा था और ‘मेघालय राज्य एक्वाकल्चर मिशन’ के कार्यान्वयन के बाद भी मत्स्योत्पादन में कोई उल्लेखनीय सुधार नहीं हुआ।
  • बल्कि उत्पादन में 15000 मीट्रिक टन की गिरावट दर्ज की गई।
  • जिसने एक नई ‘ब्लू रिवोल्यूशन’ का मार्ग प्रशस्त किया।
  • भारत में नीली क्रांति
  • नीली क्रांति : मात्स्यिकी का एकीकृत विकास और प्रबंधन संबंधित केंद्रीय प्रायोजित योजना का गठन 5 वर्षों हेतु कुल 3000 करोड़ रुपये के केंद्रीय परिव्यय से गठित किया गया है, जिसके निम्नलिखित घटक हैं-

(i)  राष्ट्रीय मात्स्यिकी विकास बोर्ड (NFDB) और इसके कार्य-कलाप

(ii)  अंतर्देशीय मात्स्यिकी और जलकृषि 1

(iii) समुद्री मात्स्यिकी अवसंरचना और पोस्ट हार्वेस्ट परिचालनों का विकास।

(iv) मात्स्यिकी सेक्टर का डाटाबेस और भौगोलिक सूचना प्रणाली का सुदृढ़ीकरण

(v)  मात्स्यिकी सेक्टर हेतु संस्थागत व्यवस्था 1

(vi) मॉनीटरिंग नियंत्रण और निगरानी और अन्य आवश्यकता आधारित हस्तक्षेप।

(vii) राष्ट्रीय मछुआरा कल्याण योजना।    

  • नीली क्रांति के तहत मात्स्यिकी क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए 1,84,695.13 लाख रुपये की केंद्रीय सहायता (31 अगस्त, 2018 तक) जारी की गई है।
  • भारत के शीर्ष 5 मत्स्योत्पादक राज्य (2015-16)
राज्य मछली उत्पादन (ह. टन में)
आंध्र प्रदेश 2352.26
पश्चिम बंगाल 1671.42
गुजरात 809.56
केरल 727.51
तमिलनाडु 709.16
अखिल भारत 10761.76

मैरीन कैप्चर प्रोडक्शन : 5 शीर्ष उत्पादक देश (2016)

देश उत्पादन (टन में)
चीन 15246234
इंडोनेशिया 6109783
यू.एस.ए. 4897322
रूस 4466503
पेरू 3774887
स्रोत : FAO