Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

भारत, अमेरिकी सरकारी प्रतिभूतियों का 12वां धारक

  • वर्तमान परिप्रेक्ष्य
  • 4 मार्च, 2018 को अमेरिकी ट्रेजरी विभाग द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, वर्ष 2017 के अंत तक अमेरिका की सरकारी प्रतिभूतियों में भारत 12वां सबसे बड़ा पूंजीधारक है।
  • महत्वपूर्ण तथ्य
  • वर्ष 2017 के अंत तक चीन, अमेरिकी सरकारी प्रतिभूतियों का शीर्ष धारक देश है जिसकी परिसंपत्ति 1.18 खरब अमेरिकी डॉलर है।
  • इस सूची में 1.06 खरब अमेरिकी डॉलर परिसंपत्ति के साथ जापान दूसरे स्थान पर है।
  • अमेरिकी सरकारी प्रतिभूतियों का तीसरा धारक देश आयरलैंड है, जिसकी परिसंपत्ति 326.5 अरब अमेरिकी डॉलर है।
  • अमेरिकी सरकारी प्रतिभूतियों का चौथा धारक देश केमैन द्वीप है, जिसकी परिसंपत्ति 269.9 अरब अमेरिकी डॉलर है।
  • इस सूची में पांचवां धारक देश ब्राजील है, जिसकी परिसंपत्ति 256.8 अरब अमेरिकी डॉलर है।
  • वर्ष 2017 के अंत तक भारत, अमेरिकी सरकारी प्रतिभूतियों का 12वां सबसे बड़ा धारक है, जिसकी परिसंपत्ति 147.4 अरब अमेरिकी डॉलर है।
  • अमेरिकी ट्रेजरी विभाग द्वारा दिसंबर, 2017 के अंत तक भारत की परिसंपत्ति 147.4 अरब डॉलर बताया, जो पिछले वर्ष 2016 की तुलना में 26 अरब डॉलर की वृद्धि हुई है।
  • दिसंबर, 2016 के अंत तक भारत की परिसंपत्ति 118.2 अरब अमेरिकी डॉलर थी।
  • ब्रिक्स देशों में भारत, अमेरिकी प्रतिभूतियों का तीसरा सबसे बड़ा धारक है।
  • जबकि इस सूची में रूस 102.2 अरब अमेरिकी डॉलर परिसंपत्ति के साथ निम्न स्थान पर है।
  • ज्ञातव्य है कि जून, 2017 में अमेरिकी ट्रेजरी विभाग द्वारा जारी आंकड़ों में कुल 18.44 खरब अमेरिकी डॉलर की प्रतिभूतियां विदेशी है।
  • जिसमें कुल 7.19 खरब अमेरिकी डॉलर की परिसंपत्तियां इक्विटी में है।
  • ज्ञातव्य है कि 10.29 खरब अमेरिकी डॉलर की प्रतिभूतियां लंबी अवधि के ऋण की हैं।
  • इस सूची में 954 अरब अमेरिकी डॉलर की ऋण प्रतिभूतियां अल्पकालिक हैं।
  • प्रतिभूतियां
  • प्रतिभूतियां लिखित प्रमाण-पत्र होती हैं, जो ऋण आदि संबंधित सरकारी कागज, साख-पत्र, प्रतिभू (Surety) के द्वारा दी गई जमानत है। सरकार द्वारा जारी किया जाने वाला बॉण्ड, शेयर, ऋण-पत्र आदि प्रतिभूतियों की श्रेणी में आता है।
  • प्रतिभूतियों पर प्रतिफल के रूप में निवेशक को लाभांश मिलता है जैसे- शेयर, इसमें ब्याज नहीं दिया जाता है साधारण शब्दों में इसे मालिकाना हक कहते हैं।

लेखक-रमेश चंद्र