Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

बृहस्पति की कक्षा में नए चंद्रमा की खोज

The discovery of new moon in the orbit of Jupiter
  • पृष्ठभूमि
  • बृहस्पति सौरमंडल का सबसे बड़ा व भारी ग्रह है। सूर्य से इसकी औसत दूरी 77, 82, 98, 400 किमी. व व्यास 1,42,800 किमी. है। इसका द्रव्यमान 1.8 × 1027 किग्रा. व औसत घनत्व 1.33 ग्राम/घन सेमी. है।
  • वर्तमान परिप्रेक्ष्य
  • 17 जुलाई, 2018 को अमेरिका के कार्नेज विज्ञान संस्थान की ओर जारी समाचार विज्ञप्ति के अनुसार, 12 नए चंद्रमा बृहस्पति ग्रह की कक्षा की परिक्रमा कर रहे हैं, जिससे बृहस्पति ग्रह के उपग्रहों की संख्या बढ़कर 79 हो गई।
  • अमेरिका के कार्नेज विज्ञान संस्थान के शोधकर्ताओं ने प्लूटो से दूर किसी ग्रह की खोज के दौरान पिछले वर्ष मार्च, 2017 में ही इन 12 चंद्रमाओं का पता लगा लिया था। लगभग एक वर्ष तक चले शोध के बाद इनकी पुष्टि हुई।
  • इनमें 12 चंद्रमा में से 9 चंद्रमा बृहस्पति से दूर स्थित कक्षा में ग्रह के घूर्णन के विपरीत दिशा में चक्कर लगा रहें हैं, दो वर्ष में इनकी परिक्रमा पूरी होती है।
  • दो अन्य चंद्रमा ग्रह के नजदीक स्थित कक्षा में मौजूद हैं और उसके घूर्णन की दिशा में ही परिक्रमा कर रहे हैं। इन दोनों के झुकाव का कोण समान है और एक वर्ष में इनकी परिक्रमा पूरी होती है।
  • 1 किमी. व्यास वाला छोटा चंद्रमा भी शामिल है, जिसे वैज्ञानिकों ने ‘ऑडबॉल’ नाम दिया है। यह अन्य चंद्रमाओं से दूर है, यह डेढ़ वर्ष में बृहस्पति ग्रह की परिक्रमा करता है।
  • वैज्ञानिकों ने ऑडबॉल का नाम रोमन देवता ज्यूपिटर की परपोती ‘वालेटुडो’ के नाम पर रखा है, जो स्वास्थ्य और स्वच्छता की देवी मानी जाती है।
  • बृहस्पति ग्रह के 12 नए चंद्रमाओं की खोज का नेतृत्व कार्नेज विज्ञान संस्थान के एकॉट एस. शेपर्ड ने किया।
  • ध्यातव्य है कि 1610 ई. में वैज्ञानिक गैलीलियो गैलिली ने बृहस्पति ग्रह के पहले चार चंद्रमा की खोज की थी।
  • नासा साइंस सोलर सिस्टम एक्सप्लोरेशन के संयुक्त वैज्ञानिकों का विचार है कि बृहस्पति ग्रह के पास 79 चंद्रमा हैं।
  • बृहस्पति ग्रह के 79 चंद्रमाओं में से 53 चंद्रमाओं के नाम रखे जा चुके हैं तथा शेष 26 चंद्रमाओं के नाम रखे जाने बाकी हैं।

लेखक-सुधांशु पांडेय