Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

बिहार पूर्वावलोकन तथ्यसार-2018,(भूल सुधार)

  • बिहार पूर्वावलोकन, 2018 (तथ्यसार) में पेज संख्या 11 पर मुंडा विद्रोह 1899-1990 के स्थान पर 1899-1900 पढ़ा जाए।

  • बिहार पूर्वावलोकन, 2018 (तथ्यसार) में पेज संख्या 19 पर नीचे से (बाईं ओर) तीसरे तथ्य में ‘1 ई.’ के स्थान पर ‘1 अप्रैल, 1937’ पढ़ा जाए
  • बिहार पूर्वावलोकन, 2018 (तथ्यसार) में पेज संख्या 2 पर बिहार राज्य का कैमूर जिला झारखंड को स्पर्श नहीं करता है, पढ़ा जाए।
  • बिहार पूर्वावलोकन, 2018 (तथ्यसार) में पेज संख्या 30 पर नीचे (अंतिम) से ऊपर की ओर तीसरे पंक्ति में 22 दिसंबर, 1966 के स्थान पर 22 दिसंबर, 1666 पढ़ा जाए।
  • BPSC तथ्यसार (संस्करण-2018) में पेज संख्या 38 पर प्रश्न संख्या 67 की व्याख्या में वर्ष 1966 के स्थान पर वर्ष 1916 पढ़े।
  • BPSC तथ्यसार (संस्करण-2018) में पेज संख्या 9 पर छठवें प्वाइंट में 19 जुलाई, 1963 के स्थान पर 19 जुलाई, 176
  • BPSC पूर्वावलोकन सा. अध्ययन/तथ्य सार (संस्करण-2018) में पेज संख्या 30 पर सबसे ऊपर स्थित वाक्य में कुंडलवन के स्थान पर ‘कुण्डग्राम’ पढ़ा जाए।
    BPSC पूर्वावलोकन सा. अध्ययन/तथ्य सार (संस्करण-2018) में पेज संख्या 56 पर प्रश्न संख्या 172 की व्याख्या में 26 जुलाई, 1976 के स्थान पर 26 जुलाई, 1876 पढ़ा जाए।
  • BPSC पूर्वावलोकन सा. अध्ययन/तथ्य सार (संस्करण-2018) में पेज 68 पर प्रश्न संख्या 246 की व्याख्या में बम्बई के स्थान पर पटना पढ़ा जाए।
  • BPSC पूर्वावलोकन सा. अध्ययन/तथ्य सार (संस्करण-2018) में पेज संख्या 252 पर प्रश्न संख्या 20 में 30 नवंबर, 2018 तक की स्थिति के अनुसार, 7 मंत्री की जगह 8 मंत्री पढ़ा जाय। व्याख्या में रामकृपाल यादव तथा गिरराज सिंह को शामिल करते हुए, धर्मेंन्द्र प्रधान को निरस्त करते हुए पढ़ा जाए।
  • BPSC पूर्वावलोकन सा. अध्ययन/तथ्य सार (संस्करण-2018) में पेज संख्या 3 पर जैन संगीतियां में ई.पू. के स्थान पर ई. पढ़े।
  • BPSC पूर्वावलोकन सा. अध्ययन/तथ्य सार (संस्करण-2018) पेज संख्या 8 पर पहले कालम में शेरशाह का जन्म 1572 के स्थान पर 1472 ई. पढ़े।
  • BPSC पूर्वावलोकन सा. अध्ययन/तथ्यसार (संस्करण-2018) में पेज संख्या 61 पर प्रश्न संख्या 204 की संशोधित व्याख्या इस प्रकार है-वायकोम के मंदिर प्रवेश सत्याग्रह में गांधीजी ने प्रत्यक्ष रूप से भाग नहीं लिया था जबकि खेड़ा सत्याग्रह, राजकोट सत्याग्रह तथा असहयोग आंदोलन का नेतृत्व स्वयं गांधी ने किया था।
  • BPSC पूर्वावलोकन सा. अध्ययन/तथ्य सार (संस्करण-2018) में पेज संख्या 4 पर प्रश्न 9 और 10 एक समान हैं। अतः केवल प्रश्न 10 में परीक्षा का वर्ष लगाकर पढ़ा जाए। पेज 7 पर प्रश्न 28 की व्याख्या में ‘अतः विकल्प (a) सही उत्तर है’ को निरस्त कर पढ़ा जाए।
  • BPSC पूर्वावलोकन सामान्य अध्ययन/तथ्यसार (संस्करण-2018) में पेज संख्या 12 (तथ्यसार) पर दाएं तरफ नीचे से चौथी और पांचवीं पंक्ति में 2018 के स्थान पर 1918 होगा
  • BPSC पूर्वावलोकन सामान्य अध्ययन/तथ्यसार (संस्करण-2018) में पेज संख्या 188 पर प्रश्न संख्या 76 की संशोधित व्याख्या इस प्रकार है- जीवन चक्र की दृष्टि से पौधे का सबसे महत्वपूर्ण अंग पुष्प होता है। पुष्प में ही निषेचन की क्रिया संपन्न होती है। परिणामतः बीज का निर्माण होता है। बीज से पुनः नए पौधे का जन्म होता है। इस प्रकार पौधों का जीवन चक्र चलता-रहता है।
  • BPSC पूर्वा० में तथ्यसार में पेज संख्या 35 पर, बिहार के प्रमुख साहित्यकार में ‘नैष्कर्म सिद्धि’ के स्थान पर ‘ब्रह्म सिद्धि’ पढ़ा जाए।
  • BPSC बिहार तथ्यसार (संस्करण-2018) में पेज संख्या 2 के नोट्स में – (1) ‘सर्वाधिक महिला साक्षरता वाला जिला- औरंगाबाद के स्थान पर ‘रोहतास’ पढ़ा जाए। (2) ग्रामीण साक्षरता दर-पुरुष (44.3%) के स्थान पर महिला (44.3%) तथा शहरी साक्षरता दर- पुरुष (61.95%) के स्थान पर महिला (61.95%) पढ़ा जाए।
  • BPSC बिहार तथ्यसार (संस्करण-2018) में पेज संख्या 4 के नोट्स में – ‘महात्मा बुद्ध की मृत्यु (486 ई.पू)’ के स्थान पर ‘महात्मा बुद्ध की मृत्यु (483 ई.पू.)’ पढ़ा जाए।