Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

प्रधानमंत्री की सिंगापुर यात्रा

indian Prime Minister Singapore visit
  • वर्तमान संदर्भ
  • ‘‘मैत्री, चेहरे पर मुस्कान मात्र नहीं है, यह वह है जिसे मुस्कुराते दिल के अंदर गहराई में महसूस किया जाता है।’’ महान तमिल संत थिरुवल्लूर की ये पंक्तियां भारतीय विदेश नीति के मंतव्य को और स्पष्ट करती हैं। इसी स्नेहभाव एवं सहयोगी नजरिए से भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 14-15 नवंबर, 2018 के मध्य सिंगापुर की यात्रा संपन्न की।
  • भारत-सिंगापुर संबंध
  • भारत-सिंगापुर संबंध का इतिहास चोल वंश के काल से प्रारंभ होता है।
  • भारत-सिंगापुर के मध्य आधुनिक संबंधों की स्थापना का श्रेय सर स्टेमफोर्ड रेफल्स को जाता है, जिन्होंने 1819 में मलक्का जल डमरुमध्य पर एक व्यापारिक केंद्र स्थापित किया।
  • यह व्यापारिक केंद्र कलकत्ता प्रेसिडेंसी के अधीन था।
  • 1965 में सिंगापुर की आजादी के बाद संबंध अधिक प्रगाढ़ हुए।
  • प्रधानमंत्री ली कुआन यू ने राष्ट्र निर्माण, क्षेत्रीय सुरक्षा और अंतरराष्ट्रीय मान्यता के अपने उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए भारत से मदद की उम्मीद की।
  • 1990 के दशक में भारत के आर्थिक सुधारों तथा भारत की ‘पूरब की ओर देखो’ की नीति ने सहयोग  की एक नई इबारत लिखी।
  • महत्वपूर्ण तथ्य
  • 14-15 नवंबर, 2018 के मध्य भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सिंगापुर गणराज्य के प्रधानमंत्री ली सीन लूंग के निमंत्रण पर सिंगापुर की यात्रा संपन्न की।
  • भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यह दूसरी सिंगापुर यात्रा थी।
  • इससे पूर्व उन्होंने जून, 2018 में सिंगापुर की यात्रा की थी।
  • इस यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री मोदी आसियान-भारत नाश्ता सम्मेलन, 13वें पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन (East Asia Summit : EAS) और क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक साझेदारी (Regional Comprehensive Economic Partnership : RCEP) के शिखर सम्मेलन में सम्मिलित हुए।
  • उल्लेखनीय है कि आसियान के वर्तमान अध्यक्ष के तौर पर सिंगापुर ने उपर्युक्त तीनों शिखर सम्मेलनों की मेजबानी की।
  • इसी सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (All India Council for Technical Education : AICTE) और सिंगापुर की नान्यांक टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी (एन.टी.यू.) द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित भारत-सिंगापुर हैकथान (Hackathon) के प्रतिभागियों और विजेताओं को सम्मानित किया गया।
  • इस यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने अमेरिकी उपराष्ट्रपति माइक पेंस से भी मुलाकात की।
  • प्रधानमंत्री मोदी ने सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली के साथ द्विपक्षीय वार्ता की, साथ ही प्रधानमंत्री ली के अलावा अन्य नेताओं के साथ द्विपक्षीय वार्ता भी की।
  • फिनटेक महोत्सव में भारतीय प्रधानमंत्री
  • इस सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने सिंगापुर फिनटेक महोत्सव (Fintech Festival) को संबोधित किया। (14 नवंबर, 2018)
  • वर्ष 2018 में फिनटेक का यह तीसरा संस्करण है।
  • उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री सिंगापुर फिनटेक महोत्सव को संबोधित करने वाले किसी देश के पहले शासनाध्यक्ष हैं।
  • फिनटेक (Fintech), Òाइनेंशियल टेक्नोलॉजी (Financial Technology) का संक्षिप्त रूप है जिसका सामान्य सा अर्थ है किसी भी प्रकार के वित्तीय व्यवहार को तकनीकी की मदद से संपादित करना।
  • प्रधानमंत्री मोदी ने भारत और आसियान देशों की फिनटेक कंपनियों और वित्तीय संस्थाओं को जोड़ने हेतु पहले वैश्विक मंच ‘एपिक्स’ (आटोमेटेड पिक्सल आधारित कम्यूनिकेशन) का शुभारंभ किया।
  • भारत-आसियान : एक नजर
  • भारत-आसियान के मध्य व्यापारिक और आर्थिक संबंध काफी मजबूत रहे हैं।
  • वर्ष 2017-18 में भारत और आसियान के मध्य द्विपक्षीय व्यापार लगभग 81.33 अरब अमेरिकी डॉलर था, जो भारत के कुल व्यापार का 10.58 प्रतिशत था।
  • आसियान देशों को किया गया निर्यात भारत के कुल निर्यात का 11.28 प्रतिशत है।
  • आसियान
  • ‘आसियान’ (ASEAN – Association of South-East Asian Nations) दक्षिण एशियाई राष्ट्रों का एक क्षेत्रीय संगठन है।
  • इसकी स्थापना 8 अगस्त, 1967 को बैंकॉक घोषणा के अंतर्गत हुई थी।
  • वर्तमान में आसियान में कुल 10 सदस्य देश हैं, जिसका मुख्यालय इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में है।

लेखक-रमेश चन्द