Contact Us: 0532-2465524, 25, M.-9335140296    
E-mail : [email protected]

निर्वाचित महिला प्रतिनिधियों के प्रशिक्षण हेतु कार्यक्रम

January 10th, 2018
Program for training of election women representatives

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने 17 अप्रैल, 2017 को पंचायती राज मंत्रालय के सहयोग से पंचायतों की महिला निर्वाचित प्रतिनिधियों की क्षमता सृजन हेतु व्यापक मॉड्यूल और पूरे देश में महिला पंचायत नेताओं के प्रशिक्षकों हेतु प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ किया था। कार्यक्रम का उद्देश्य पंचायतों की निर्वाचित महिला की शासन तथा प्रशासन में योग्यता, क्षमता एवं कौशल बढ़ाकर उनका सशक्तीकरण करना है। हाल ही में निर्वाचित महिला प्रतिनिधियों और प्रधान प्रशिक्षकों के लिए एक गहन प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरुआत की गई।

  • 27 नवंबर, 2017 को नई दिल्ली में महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका संजय गांधी ने पंचायती राज संस्थानों की निर्वाचित महिला प्रतिनिधियों (EWRs) और प्रधान प्रशिक्षकों (Master Trainers) के लिए एक गहन प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ किया।
  • क्षमता निर्माण का यह कार्यक्रम महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के ‘राष्ट्रीय जन सहयोग एवं बाल विकास संस्थान’ (NIPCCD : National Institute of Public Co-operation and Child Development) द्वारा आयोजित किया जा रहा है।
  • कार्यक्रम के तहत प्रत्येक जिले से लगभग 50 निर्वाचित महिला प्रतिनिधियों को प्रशिक्षित किया जाएगा।
  • मार्च, 2018 तक कार्यक्रम के तहत लगभग 20,000 निर्वाचित महिला प्रतिनिधियों को प्रशिक्षित किया जाएगा।
  • प्रशिक्षण कार्यक्रम में सरल इंजीनियरिंग कौशल को शामिल किया जाएगा जिससे निर्वाचित महिला प्रतिनिधियों को महिलाओं से संबंधित मुद्दों के साथ ही शिक्षा एवं वित्तीय मामलों की परख (Insight) प्राप्त होगी।
  • कार्यक्रम के तहत अपने क्षेत्रों की निर्वाचित महिला प्रतिनिधियों के सशक्तीकरण में सफल प्रधान प्रशिक्षकों को पुरस्कृत किया जाएगा।
  • प्रशासन प्रक्रियाओं में महिलाओं के प्रभावी तरीके से भाग लेने के लिए निर्वाचित महिला प्रतिनिधियों की क्षमता निर्माण अति महत्वपूर्ण है।
  • निर्वाचित महिला प्रतिनिधियों के प्रशिक्षण से आदर्श गांव बनाने और महिलाओं को भविष्य का राजनीतिक नेताओं के रूप में तैयार करने में मदद मिलेगी।
  • 27 नवंबर, 2017 को आयोजित कार्यक्रम में 150 प्रधान प्रशिक्षक और 450 निर्वाचित महिला प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

लेखक-नीरज ओझा

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •