Contact Us: 0532-2465524, 25, M.-9335140296    
E-mail : ssgcpl@gmail.com

जॉर्डन के शाह की भारत यात्रा

April 6th, 2018
  • पृष्ठभूमि
  • भारत एवं जॉर्डन के मध्य वर्ष 1947 में सहयोग और मित्रवत संबंधों के लिए द्विपक्षीय समझौते पर हस्ताक्षर किए गए, जिसे वर्ष 1950 में औपचारिक रूप प्रदान किया गया। वर्ष 1950 में ही दोनों देशों के मध्य पूर्ण रूप से राजनयिक संबंध स्थापित हुए। वर्ष 2015 में भारत-जॉर्डन कूटनीतिक संबंधों की 65वीं वर्षगांठ मनाई गई थी। अक्टूबर, 2015 में तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने जॉर्डन की यात्रा की थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फरवरी, 2018 में फिलिस्तीन, संयुक्त अरब अमीरात एवं ओमान की यात्रा पर जाने के क्रम में जॉर्डन की संक्षिप्त यात्रा की थी। हाल ही में जॉर्डन के शाह (King) ने भारत की यात्रा संपन्न की।
  • यात्रा विवरण
  • 27 Òरवरी-1 मार्च, 2018 के मध्य जॉर्डन के हश्मत साम्राज्य के शाह अब्दुल्ला द्वितीय बिन अल-हुसैन (Hashemita Kingdom) ने भारत की राजकीय यात्रा की।
  • भारत की इस यात्रा में उनके साथ एक व्यापारिक प्रतिनिधिमंडल भी आया।
  • यह जॉर्डन के शाह की दूसरी भारत यात्रा थी।
  • गौरतलब है कि इसके पूर्व वर्ष 2006 में जॉर्डन के शाह अब्दुल्ला द्वितीय बिन अल-हुसैन ने भारत की यात्रा की थी।
  • 27 Òरवरी, 2018 को नई दिल्ली एयरपोर्ट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जॉर्डन के शाह का स्वागत किया।
  • राष्ट्रपति भवन में जॉर्डन के शाह का औपचारिक स्वागत किया गया और वह महात्मा गांधी की समाधि राजघाट भी गए।
  • जॉर्डन के तकनीकी संस्थानों से सहयोग के अवसर तलाशने के लिए वे आईआईटी, दिल्ली भी गए।
  • जॉर्डन के शाह फिक्की (FICCI), सीआईआई (CII) एवं एसोचैम (Assocham) द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित ‘भारत-जॉर्डन व्यापारिक मंच’ में शामिल हुए।
  • उन्होंने विज्ञान भवन, नई दिल्ली में भारत इस्लामिक केंद्र द्वारा आयोजित विशेष समारोह में ‘समझदारी और सुधार को बढ़ावा देना’ विषय पर लोगों को संबोधित किया।
  • द्विपक्षीय समझौते
  • जॉर्डन के शाह की भारत की यात्रा के दौरान 1 मार्च, 2018 को भारत एवं जॉर्डन के मध्य द्विपक्षीय सहयोग के 12 समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए।
  • दोनों देशों के मध्य रक्षा क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर समझौता किया गया जिसके तहत प्रशिक्षण, रक्षा उद्योग, आतंकवादरोधी, सैन्य अध्ययन, साइबर सुरक्षा, सैन्य चिकित्सा सेवाएं, शांति अभियान आदि क्षेत्र शामिल हैं।
  • भारत और जॉर्डन के राजनयिक एवं सरकारी पासपोर्ट धारकों को वीजा छूट प्रदान करने के लिए समझौता किया गया।
  • सांस्कृतिक आदान-प्रदान कार्यक्रम (2018-2022) के लिए समझौता हस्ताक्षरित किया गया।
  • इसके अतिरिक्त दोनों देशों के मध्य श्रमशक्ति सहयोग, स्वास्थ्य एवं चिकित्सा, जॉर्डन में नई पीढ़ी के उत्कृष्टता केंद्र की स्थापना, रॉक फॉस्फेट एवं उर्वरक/एनपीके की दीर्घावधिक आपूर्ति आदि क्षेत्रों में समझौते पर हस्ताक्षर किए गए।
  • भारत के ‘इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मॉस कम्युनिकेशन’ (IIMC) और ‘जॉर्डन मीडिया इंस्टीट्यूट’ (JMI) के मध्य समझौता किया गया।
  • जॉर्डन विश्वविद्यालय में हिंदी भाषा के लिए ‘भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद’ (ICCR) पीठ की स्थापना के लिए समझौता किया गया।
  • भारत की आगरा और जॉर्डन की पेट्रा (Petra) महानगरपालिकाओं के मध्य पर्यटन, संस्कृति, खेलकूद आदि में सहयोग के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किए गए।
  • निष्कर्ष
  • जॉर्डन के शाह की इस भारत यात्रा से दोनो देशों के मध्य विविध क्षेत्रों में सहयोग को बढ़ावा मिलेगा। जॉर्डन में 10 हजार से अधिक भारतीय निवास करते हैं। भारत ने नवंबर, 2014 में जॉर्डन के नागरिकों को ई–टूरिस्ट वीजा की सुविधा प्रदान की थी।

लेखक -नीरज ओझा

  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1
    Share