Contact Us: 0532-2465524, 25, M.-9335140296    
E-mail : [email protected]

जीरो बजट प्राकृतिक कृषि

June 30th, 2018
Zero budget natural farming
  • क्या है?
  • जीरो बजट प्राकृतिक कृषि, प्राकृतिक संसाधनों की सहायता से की जाने वाली कृषि पद्धति है।
  • इस प्रकार की कृषि व्यवस्था में हाईब्रिड बीज, कीटनाशक व रासायनिक खाद का इस्तेमाल नहीं होता है।
  • चर्चा में क्यों?
  • आंध्र प्रदेश, हिमाचल प्रदेश सहित देश के अन्य हिस्सों में किसानों द्वारा अपनाए जाने के कारण।
  • उद्देश्य
  • कम लागत में उच्च पैदावार, जलवायु परिवर्तन से सुरक्षा तथा बेहतर स्वास्थ्य की प्राप्ति, जीरो बजट प्राकृतिक कृषि का मूल उद्देश्य है।
  • संबंधित तथ्य
  • जीरो बजट खेती के जनक महाराष्ट्र के सुभाष पालेकर हैं। देश के विभिन्न हिस्सों में किसानों को इस कृषि पद्धति में प्रशिक्षित करने का कार्य कर रहे हैं।
  • आंध्र प्रदेश जीरो बजट प्राकृतिक खेती को अपनाने वाला पहला राज्य है, जबकि हिमाचल प्रदेश दूसरा राज्य है।
  • रासायनिक उर्वरक के स्थान पर किसान स्वयं की तैयार की हुई खाद का इस्तेमाल खेती में करते हैं। इस खाद को ‘घन जीवा अमृत’ कहा जाता है।
  • घन जीवा अमृत में गाय के गोबर, गौमूत्र, चने के बेसन, मिट्टी, गुड़ व पानी का प्रयोग होता है।
  • रासायनिक कीटनाशकों के स्थान पर नीम, गोबर व गौमूत्र का बना हुआ ‘नीमास्त’ का प्रयोग किया जाता है।
  • बाजार के हाईब्रिड बीजों के स्थान पर देशी बीजों का प्रयोग फसल उत्पादन के लिए होता है।
  • खेतों की सिंचाई, गुड़ाई व जुताई का कार्य घरेलू पशुओं द्वारा किया जाता है।
  • जीरो बजट प्राकृतिक कृषि को प्रारंभ में सितंबर, 2015 में केंद्र सरकार की राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के अंतर्गत शुरू किया गया था।
  • जीरो बजट कृषि पद्धति रासायनिक कीटनाशकों के प्रयोग को हतोत्साहित कर बेहतर कृषि पद्धति को संचालित करती है।
  • इस कृषि पद्धति में किसान की लागत अत्यंत कम होती है, क्योंकि जैविक उर्वरक के रूप में प्रयोग होने वाली वस्तुएं जैसे- गाय का गोबर, पेड़-पौधे व वनस्पतियां, मल-मूत्र, केंचुआ निःशुल्क व बड़ी मात्रा में गांवों में उपलब्ध होते हैं।

लेखक-धीरेन्द्र त्रिपाठी

  • 6
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    6
    Shares
  •  
    6
    Shares
  • 6
  •  
  •  
  •  
  •  
  •