Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

गोवा समुद्री संगोष्ठी, 2018

Goa Marine Seminar, 2018
  • वर्तमान परिप्रेक्ष्य
  • 16 अक्टूबर, 2018 को नेवल बॉर कॉलेज, गोवा में नौसेना ने द्वितीय संस्करण ‘गोवा समुद्री संगोष्ठी, 2018’ का आयोजन किया गया।
  • इस सम्मेलन का विषय था- ‘‘हिंद महासागर क्षेत्र में अधिक मजबूत साझेदारी बनाना’’ (“Building Stronger Maritime Partnership in Indian-Ocean Rim Association”)।
  • उद्देश्य
  • इस संगोष्ठी का उद्देश्य भारतीय उपमहाद्वीप की नौसेनाओं के मध्य समुद्री खतरों से लड़ने की क्षमता विकसित करना है। साथ ही सहकारी रणनीति पर विचार कर समुद्री एजेंसियों के मध्य एक-दूसरे के साथ मिलकर कार्य करने की क्षमता को विकसित करना है।
  • महत्वपूर्ण तथ्य
  • इसका उद्घाटन नौसेना अध्यक्ष एडमिरल सुनील लांबा ने किया।
  • इस संगोष्ठी में हिंद महासागर सीमा से लगे लगभग 16 देशों के शीर्ष नौसेना अधिकारी सम्मिलित हुए।
  • इस संगोष्ठी में दक्षिण-पूर्व एशिया के इंडोनेशिया, मलेशिया, सिंगापुर एवं थाईलैंड तथा भारत के पड़ोसी देश बांग्लादेश, म्यांमार और श्रीलंका के अतिरिक्त सेशेल्स के द्विपीय देश-मॉरीशस और मालदीव के साथ पश्चिम एशिया से ओमान तथा अफ्रीका से दक्षिण अफ्रीका, मेडागास्कर, केन्या, तंजानिया और मोजाम्बिक देश इसमें प्रतिभागी थे।
  • 21वीं सदी में हिंदमहागसार क्षेत्र में भारत का अन्य देशों के मध्य सामंजस्य
  • यह संगोष्ठी विशिष्ट शैक्षणिक संस्थान स्थापित करने और भारत के समुद्री सीमावर्ती देशों के साथ जानकारी के आदान-प्रदान हेतु संपन्न हुआ।
  • इसमें भारतीय उपमहाद्वीप के देशों के नौसेना अधिकारियों के मध्य सभी के समुद्री हितों के अधिकाधिक सामंजस्य बनाने पर बल दिया गया।
  • 21वीं सदी के रणनीतिक परिदृश्य में हिंद महासागर की बढ़ती उपयोगिता को देखते हुए यह संगोष्ठी उन सभी देशों के लिए अति महत्वपूर्ण होगा जिनका इस उपमहाद्वीप के विकास की रणनीति, उसकी नीति और उसे लागू करने तरीकों को लेकर महत्वपूर्ण योगदान है।
  • गोवा का महत्व
  • ज्ञातव्य है कि उत्तरी गोवा के बेहद खूबसूरत वातावरण आईएनएस (Institutes National de Segur : INS) मांडोवी और उससे लगे एगुआडा किला में इस संगोष्ठी के आयोजन हमारे दो शताब्दी ई.पू. के अति समृद्ध गोवा के समुद्री इतिहास, संस्कृति और परंपरा को सच्ची श्रद्धांजलि है।

 लेखक-रमेश चंद्र