Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

एशिया की सबसे बड़ी ड्रिप सिंचाई परियोजना

  • वर्तमान परिदृश्य
  • 28 जनवरी, 2018 को कर्नाटक राज्य के जल संसाधन मंत्री एम.बी. पाटिल ने एशिया की सबसे बड़ी ड्रिप सिंचाई परियोजना ‘रामथल मरोला परियोजना’ (Ramthal Marola Project) का उद्घाटन किया।
  • विशेषताएं
  • रामथल मरोला परियोजना कर्नाटक राज्य के भागलकोट (Bhagalkot) जिले में स्थित है।
  • परियोजना का कार्यान्वयन ‘मेघा इंजीनियरिंग एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर्स लिमिटेड’ (MEIL) द्वारा किया गया।
  • इस्राइल की कंपनी ‘नेटाफिम’ (Netafim) ने परियोजना के लिए तकनीकी सहायता प्रदान की।
  • यह इस्राइली ड्रिप सिंचाई प्रौद्योगिकी वाली भारत में पहली परियोजना है।
  • परियोजना की परिकल्पना ‘कृष्णा भाग्या जल निगम’ (Krishna Bhagya Jala Nigam) द्वारा की गई थी।
  • परियोजना के तहत लगभग 2150 किमी. पाइपलाइन बिछाई गई है।
  • अन्य महत्वपूर्ण तथ्य
  • मेघा इंजीनियरिंग एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर्स लिमिटेड (MEIL) द्वारा पांच वर्षों तक परियोजना की देख-रेख की जाएगी।
  • पांच वर्ष के पश्चात यह परियोजना किसानों को हस्तांतरित कर दी जाएगी।
  • योजना के तहत किसानों के खेत में स्थापित एक सिलिंडर (Cylinder) के माध्यम से उन्हें जल प्राप्त होगा।
  • इस प्रणाली के तहत सिलिंडर में उर्वरकों एवं कीटनाशकों को मिश्रित किया जा सकता है।
  • परियोजना के माध्यम से पानी एवं उर्वरकों की बचत होगी।
  • उल्लेखनीय है कि एमईआईएल (MEIL) द्वारा आंध्र प्रदेश में ‘पट्टीसम परियोजना’ (Pattisam Project) का सफलतापूर्वक क्रियान्वयन किया गया है।

लेखक-नीरज ओझा