Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

एनडीआरएफ की 4 अतिरिक्त बटालियन के गठन को मंजूरी

Approval of the formation of 4 additional battalions of NDRF
  • वर्तमान परिदृश्य
  • 8 अगस्त, 2018 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल समिति ने ‘राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया बल’ (एनडीआरएफ) की चार अतिरिक्त बटालियन बनाने की मंजूरी प्रदान कर दी है।
  • वर्तमान में राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया बल (एनडीआरएफ) की 12 बटालियन देश के अलग-अलग हिस्सों में नियुक्त हैं।
  • संरचना
  • राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया बल एक विशेषज्ञ दल है, जिसका गठन वर्ष 2006 में आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के अंतर्गत किया गया था।




  • भारत में आपदा प्रबंधन की शीर्ष संस्था एनडीएमए अर्थात राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण है, जिसका प्रमुख प्रधानमंत्री होता है।
  • भारत के संघीय ढांचे में आपदा प्रबंधन का दायित्व राज्य सरकार का होता है। केंद्र राज्यों को आवश्यक संशोधन उपलब्ध कराता है।
  • राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया बल एनडीएमए के अंतर्गत कार्य करती है। एनडीआरएफ के शीर्ष अधिकारी को डायरेक्टर जनरल कहा जाता है।
  • विभिन्न राज्यों ने राज्य आपदा अनुक्रिया बल का गठन किया है, जो राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अंतर्गत कार्य करते हैं।
  • गठन का उद्देश्य
  • आपदा के दौरान शीघ्र कार्यवाही शुरू करना तथा भारत में आपदा अनुक्रिया को मजबूती प्रदान करना।
  • विशाल भौगोलिक क्षेत्र को ध्यान में रखते हुए जम्मू एवं कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड तथा दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में तैनात किया जाएगा।
  • भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) में दो बटालियन तथा सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) और असम राइफल्स (एआर) में एक-एक बटालियन तैयार किया जाएगा।




  • अन्य महत्वपूर्ण तथ्य
  • प्राकृतिक और मानवकृत आपदा या खतरे की स्थिति का सामना करने में सक्षम इस बल का आदर्श वाक्य है ‘‘आपदा सेवा सदैव’’।
  • एनडीआरएफ ने देश और विदेश में आई विभिन्न आपदाओं में 5,52108 से अधिक लोगों के जीवन को बचाया है।
  • अब तक विभिन्न समुदाय क्षमता निर्माण के तहत 53 लाख से ज्यादा लोगों को एनडीआरएफ प्रशिक्षित कर चुका है।

लेखक-धीरेन्द्र बहादुर सिंह