Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

उत्कृष्ट कोच युक्त पहली यात्री रेलगाड़ी

First passenger train with excellent coach
  • वर्तमान परिदृश्य
  • 2 अक्टूबर, 2018 को भारतीय रेलवे द्वारा पहली ‘उत्कृष्ट’ कोच युक्त सवारी गाड़ी (कालका मेल) का संचालन हावड़ा स्टेशन से किया गया।
  • प्रोजेक्ट उत्कृष्ट
  • यात्री रेलगाड़ियों के कोच को आकर्षक बनाने और उन्नत सुविधाओं से युक्त करने के लिए भारतीय रेलवे ने विगत अप्रैल में ‘प्रोजेक्ट उत्कृष्ट’ की शुरुआत की थी।
  • रेल कोचों के आकर्षण वृद्धि एवं सुविधाओं के उन्नयन हेतु निम्न कार्य किए जाएंगे- एसी कोचों के लिए शौचालय सीट कवर डिस्पेंसर, यात्री कूपे में राज्यों की संस्कृति एवं विशेष स्थलों को दर्शाने वाले पोस्टर, दरवाजों पर विनाइल रैपिंग, ओडोरलेस (गंध रहित) शौचालय, एलईडी लाइटिंग्स, नाइट ग्लो स्टिकर्स, दृष्टिहीन व्यक्तियों हेतु ब्रेल संकेत तथा कोचों हेतु नवरंग संयोजन इत्यादि।
  • लक्ष्य
  • परियोजना का शुरुआती लक्ष्य 66 जोड़ी ट्रेनों के 140 कोचों का उन्नयन (मार्च, 2019 तक) था, जिसके बाद मार्च, 2020 तक 500 और कोचों का उन्नयन प्रस्तावित है। जिसकी लागत 4 अरब रुपये होगी।
  • रेलवे की अन्य महत्वपूर्ण परियोजनाएं (उत्कृष्ट के समतुल्य)
  • उदय (UDAY) – Utkrisht Double – Decker Air-conditioned Yatri एक्सप्रेस या ‘उदय एक्सप्रेस’ की घोषणा रेल बजट 2016-17 में की गई थी।
  • ट्रेन की विशेषता इसके रूट हैं, जो ऐसे निर्धारित किए गए हैं कि ट्रेन रात भर चलकर सुबह-सुबह गंतव्य को पहुंचा सके।
  • मेक इन इंडिया कार्यक्रम के तहत निर्मित ‘उदय’ एक्सप्रेस पूर्णतया डबल डेकर होने के कारण 40 प्रतिशत अधिक यात्री ले जाने में सक्षम है।
  • प्रोजेक्ट स्वर्ण (Project Swarn)
  • अप्रैल, 2018 में राजधानी और शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेनों की स्थिति को अपग्रेड (उन्नयन) करने के लिए ‘प्रोजेक्ट स्वर्ण’ को लांच किया गया था।
  • यह परियोजना भी कोचों की बेहतरी से संबंधित है।
  • प्रोजेक्ट ‘उत्कृष्ट’ और ‘स्वर्ण’ में अंतर
  • प्रोजेक्ट ‘उत्कृष्ट’ में उन्नयन योजना को पांच खंडों में विभाजित किया गया है- ऑन बोर्ड सफाई, कोच का अंदरूनी स्वरूप निखारना, शौचालय उन्नयन, बाहरी आकर्षण और पैंट्री सुविधा।
  • जबकि प्रोजेक्ट ‘स्वर्ण’ में उन्नयन योजना को नौ खंडों में विभाजित किया गया है- कोच का अंदरूनी स्वरूप निखारना, शौचालय उन्नयन, ऑन बोर्ड सफाई, कर्मचारी व्यवहार, कैटेरिंग, लिनन (Linen),  समयनिष्ठा, सुरक्षा एवं ऑन-बोर्ड मनोरंजन।