Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]com

इंद्र संयुक्त सैन्य अभ्यास, 2018

Indra joint military exercises in 2018
  • वर्तमान संदर्भ
  • भारत-रूस के मध्य 10वां संयुक्त सैन्य अभ्यास ‘इंद्र, 2018’ का उत्तर प्रदेश में झांसी के निकट बबीना सैन्य क्षेत्र में सफलतापूर्वक आयोजन किया गया।
  • यह संयुक्त प्रशिक्षण 18 नवंबर, 2018 से प्रारंभ होकर 28 नवंबर, 2018 तक चला।
  • उद्देश्य
  • इस सैन्य अभ्यास का मुख्य उद्देश्य दोनों देशों की सेनाओं के द्वारा संयुक्त रूप से योजना बनाना एवं उसका क्रियान्वयन करना है ताकि संयुक्त राष्ट्र के तत्वावधान में चलाए जाने वाले शांति निर्माण कार्यक्रमों में दोनों सेनाओं के मध्य पारस्परिकता में वृद्धि हो सके।
  • इंद्र, 2018
  • इस अभ्यास में रूस की ओर से ‘ईस्टर्न मिलिट्री ड्रिस्ट्रिक्ट’ के ‘मोटराइज्ड राइफल यूनिट’ (Motorized Rifle Unit) से 250 सैनिकों ने भाग लिया।
  • वहीं भारत की ओर से 31वीं ‘आर्म्ड डिवीजन’ (Armored Division) के 250 सैनिकों ने भाग लिया।
  • इस अभ्यास में भारत ने रूसी सेना को अभ्यास हेतु 7 टी-90 टैंक, 18 बीएमपी-2 ‘इन्फैंट्री फाईटिंग व्हीकल’ उपलब्ध कराया।
  • इस अभ्यास के दौरान दोनों देशों के मध्य आतंकवाद पर साझी समझ विकसित करने, संयुक्त राष्ट्रसंघ के तहत कार्यरत एक संयुक्त कमान पोस्ट द्वारा नियंत्रित संयुक्त सामरिक संचालन करने आदि जैसे विषय शामिल किए गए।
  • अभ्यास के तहत आतंकवादियों के छिपने के स्थान की घेराबंदी करने, तलाशी अभियान चलाने के साथ ही छापामारी करने, खुफिया जानकारी प्राप्त कर एक-दूसरे से साझा करने तथा बंधकों को मुक्त कराने जैसे विषयों पर भी प्रशिक्षण दिया गया।
  • विशेष संयुक्त प्रशिक्षण के अलावा ‘समन्वित लाइव फायरिंग’, जिसमें ‘रोड ओपनिंग ड्रिल’, निर्मित क्षेत्रों को खाली कराने और शहरी क्षेत्रों में विद्रोहियों के गढ़ को नष्ट करने जैसे विषय शामिल थे, भी संचालित किए गए।
  • पृष्ठभूमि
  • भारत एवं रूस के मध्य आपसी संबंधों को प्रगाढ़ करने हेतु प्रत्येक वर्ष ‘इंद्र’ सैन्य अभ्यास का आयोजन किया जाता है। ‘अभ्यास इंद्र, 2017’ के तहत पहली बार भारत एवं रूस की तीनों सेनाओं (थल सेना, वायु सेना एवं नौसेना) के द्विपक्षीय अभ्यास का आयोजन रूस के ‘ईस्टर्न मिलिट्री डिस्ट्रिक्ट’ में आयोजित किया गया था। इसी शृंखला में ‘इंद्र, 2018’ का आयोजन भारत में किया गया।

लेखक-ललिन्द्र कुमार