Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

आईसीजीएस सुजय

ICGS Sujay

105 मीटर उन्नत अपतटीय गश्ती पोत (AOPV) गोवा शिपयार्ड लिमिटेड द्वारा निर्मित नवीनतम पोत है। यह पोत समुद्री क्षेत्र में गश्त लगाने, खोज एवं बचाव, प्रदूषण नियंत्रण, बाह्य अग्निशमन आदि कार्यों के लिए डिजाइन किया गया है। भारतीय तट रक्षक बल ने गोवा शिपयार्ड लिमिटेड से ऐसे छः पोतों के डिजाइन एवं निर्माण के लिए अनुबंध किया था। हाल ही में आईसीजीएस सुजय को भारतीय तटरक्षक बल में शामिल किया गया।

  • 21 दिसंबर, 2017 को गोवा में महानिदेशक भारतीय तट रक्षक बल राजेंद्र सिंह ने भारतीय तट रक्षक पोत आईसीजीएस सुजय (Icgs sujay) को भारतीय तट रक्षक बल में शामिल किया।
  • यह छः 105 मीटर अपटतीय गश्ती पोत (OPv : Offshore patrol vessel) की शृंखला में छठां भारतीय तट रक्षक पोत है।
  • यह पोत कमांडर तट रक्षक क्षेत्र (उत्तर-पूर्व) के संचालन और प्रशासनिक नियंत्रण में पारादीप, ओडिशा में आधारित है।
  • 105 मीटर के इस अपतटीय गश्ती पोत का स्वदेशी रूप से डिजाइन एवं निर्माण गोवा शिपयार्ड लिमिटेड द्वारा किया गया है।
  • यह पोत अत्याधुनिक नौवहन एवं संचार उपकरण, सेंसर तथा मशीनरी से युक्त है।
  • पोत की विशेषताओं में 30 एमएम सीआरएन नवलगन, एकीकृत ब्रिज प्रणाली (IBS), एकीकृत मशीनरी नियंत्रण प्रणाली (ImCs) विद्युत प्रबंधन प्रणाली (Pms) और उच्च शक्ति की बाह्य अग्निशमन प्रणाली शामिल हैं।
  • यह पोत एक दोहरे इंजन के हल्के हेलीकॉप्टर और पांच उच्च गति नौकाओं को वहन करने के लिए डिजाइन किया गया है।
  • यह पोत समुद्र में तेल बिखराव को नियंत्रित करने के लिए प्रदूषण अनुक्रिया उपकरण ले जाने में सक्षम है।
  • पोत का भार 2350 टन (GRT) है और इसमें 9100 किलोवॉट के दो डीजल इंजन लगे हैं।
  • पोत की अधिकतम गति 23 नॉट (KNOTS) है और यह सामान्य गति से 6000 नॉटिकल मील (Nm) तक जा सकता है।
  • निरंतरता एवं पहुंच के साथ ही नवीनतम तथा आधुनिक उपकरण और प्रणालियों से लैस यह पोत तट रक्षक के सभी कर्तव्यों को पूरा करने में कमान प्लेटफार्म की भूमिका निभाने में सक्षम है।
  • पारादीप में तट रक्षक बेड़े में शामिल होने के बाद पोत की तैनाती ईईजेड (EEZ) निगरानी और भारत के समुद्री हितों की रक्षा के लिए तट रक्षक चार्टर में दिए गए कर्तव्यों के लिए की जाएगी।
  • वर्तमान समय में भारतीय तट रक्षक के बेड़े में 134 पोत एवं नौकाएं हैं और 66 पोत तथा नौकाएं देश के विभिन्न शिपयार्डों में निर्माण के विभिन्न चरणों में हैं।
  • आईसीजीएस सुजय की कमान डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल योगिंदर ढाका संभाल रहे हैं और इसमें 12 अधिकारी तथा 94 स्टाफ हैं।
  • आईसीजीएस के शामिल किए जाने से विभिन्न समुद्री कार्यों के निष्पादन में भारतीय तट रक्षक की संचालन क्षमता में वृद्धि होगी।
  • अत्याधुनिक अपतटीय निगरानी पोत के शामिल किए जाने से पूर्वी समुद्री क्षेत्र और विशेष रूप से ओडिशा एवं पश्चिम बंगाल की सुरक्षा को प्रोत्साहन मिलेगा।

लेखक-नीरज ओझा