Contact Us: 0532-2465524, 25, M.-9335140296    
E-mail : ssgcpl@gmail.com

UPPCS प्रांरभिक परीक्षा-2017 प्रथम प्रश्न पत्र घटनाचक्र प्रकाशन द्वारा जारी उत्तरों का प्रमाण

October 13th, 2017
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

10.निम्नलिखित में से समन्वित बाल विकास सेवा (आई.सी.डी.एस.) योजना के अंतर्गत कौन-सी सेवा नहीं प्रदान होती है?
(a) पूरक आहार
(b) रोग प्रतिरक्षण
(c) बच्चों को निःशुल्क पुस्तकों एवं विद्यालय पोशाक का वितरण
(d) 3-6 वर्ष की आयु के बच्चों को स्वास्थ्य एवं पोषण शिक्षा
उत्तर-(*)

समन्वित बाल विकास सेवा (आई.सी.डी.एस.) योजना के अंतर्गत बच्चों को निःशुल्क पुस्तकों एवं विद्यालय पोशाक वितरण का प्रावधान नहीं है, जबकि 3-6 वर्ष के बच्चों हेतु स्कूल पूर्व शिक्षा का प्रावधान है। स्वास्थ्य एवं पोषण शिक्षा का प्रावधान 15-45 वर्ष की महिलाओं के लिए है, न कि 3-6 वर्ष के बच्चों के लिए। जबकि पूरक आहार एवं रोग प्रतिरक्षण सेवाएं ICDS योजना के अंतर्गत सम्मिलित हैं।

47.निम्नलिखित में से किसे वायुमंडल के प्राकृतिक संतुलन के लिए कार्बन डाइऑक्साइड की उपयुक्त सांद्रता मानी जाती है?
(a) 0.02 प्रतिशत
(b) 0.03 प्रतिशत
(c) 0.04 प्रतिशत
(d) 0.05 प्रतिशत
उत्तर-(b)

विश्व मौसम विज्ञान संगठन (WMO) के अनुसार, पूर्व-औद्योगिक (Pre-industrial) युग में कार्बन डाइऑक्साइड की सांद्रता लगभग 278 ppm (0.03%) थी, जिससे वायुमंडल, समुद्र एवं जीवमंडल आदि के बीच संतुलन बना रहता था। हालांकि मानवीय गधिविधियों जैसे जीवाश्म ईंधन के जलने आदि से यह प्राकृतिक संतुलन बिगड़ गया है। वर्तमान में औसत वार्षिक CO2 सांद्रता 400 ppm (.04%) तक पहुंच चुकी है।

77. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए-
1. पश्चिमी गोदावरी जिले के गुन्टुफल्ली में प्रारंभिक चैत्यगृह और विहार चट्टानों को काटकर बनाए गए हैं।
2. पूर्वी दक्कन के चैत्य और विहार साधारणतया चट्टानों को काटकर बनाए गए हैं।
(a) केवल 1 सही है।
(b) केवल 2 सही है।
(c) 1 तथा 2 दोनों सही हैं।
(d) न तो 1 सही है और न ही 2 सही है।
उत्तर-(*)

आंध्र प्रदेश में गुन्टुफल्ली (Guntuphalli) नामक कोई स्थल नहीं है। इस आधार पर दोनों ही कथन सही नहीं हैं। आंध्र प्रदेश में गुन्टूपल्ले (Guntupalle) नामक दो स्थान दो भिन्न-भिन्न जिलों- पश्चिमी गोदावरी तथा कृष्णा जिले में अवस्थित हैं। पश्चिमी गोदावरी जिले में स्थित गुन्टूपल्ले एक गांव है, जबकि कृष्णा जिले में स्थित गुन्टूपल्ले एक कस्बा है। नीलकंठ शास्त्री के अनुसार, कृष्णा जिले में स्थित गुन्टूपल्ले में बौद्ध स्मारक अवस्थित हैं, जबकि पश्चिमी गोदावरी जिले की आधिकारिक वेबसाइट पर गुन्टूपल्ले गांव में बौद्ध स्मारकों चैत्य एवं विहारों का विवरण प्राप्त होता है। यदि नीलकंठ शास्त्री के मत को माना जाए, तो भी दोनों ही कथन असत्य होंगे। यदि पश्चिमी गोदावरी जिले के गुन्टूपल्ले गांव का संदर्भ लिया जाए, तो कथन 1 सत्य होगा और विकल्प (a) सही होगा।
पश्चिमी गोदावरी जिले में कामावारापुकोटा मंडल में स्थित गुन्टूपल्ले गांव में प्रारंभिक चैत्यगृह और विहार चट्टानों को काटकर बनाए गए हैं। यहां पर चौथी से दूसरी सदी ई.पू. से लेकर 5-6 शताब्दी ई. तक चैत्य एवं विहारों के निर्माण के साक्ष्य प्राप्त होते हैं। कालांतर में इनके निर्माण हेतु ईंटों का, तत्पश्चात पत्थरों का प्रयोग होने लगा था। गुन्टूपल्ले को ‘आंध्र अजंता’ भी कहा जाता है। मान्यता है कि यहां महान बौद्ध विचारक दिंगनाग ने कुछ समय तक निवास किया था।
पूर्वी दक्कन की बौद्ध संरचनाएं साधारणतया ईंटों से निर्मित हैं। नागार्जुन कोंडा, बेजवाड़ा, मोली, जग्गेयपेट, भट्टिप्रोलू, घंटशाला, अमरावती तथा चेजाली आदि स्थलों पर ईंटों से निर्मित बौद्ध संरचनाओं के साक्ष्य बड़ी संख्या में मिलते हैं। पूर्वी दक्कन में गुन्टूपल्ले तथा शंकरम दो ऐसे स्थल मिलते हैं, जहां प्रारंभिक चैत्य एवं विहारों का निर्माण चट्टानों को काटकर किया गया।
चट्टानों को काटकर सर्वाधिक संख्या में चैत्यों एवं विहारों का निर्माण पश्चिमी दक्कन क्षेत्र यथा-कार्ले, भाजा, अजंता, एलोरा तथा कन्हेरी आदि स्थलों पर किया गया।

79.अकबर के शासनकाल में दक्कन में निम्न पद्धतियों में से कौन-सा भू-राजस्व वसूली का प्रचलित आधार था?
(a) कनकूट
(b) हल की संख्या
(c) जब्त
(d) गल्लाबख्शी
उत्तर-(b)

जे.एन. सरकार की ‘औरंगजेब का इतिहास’ में पृष्ठ संख्या 190 पर यह उल्लेख किया है कि अकबर के शासनकाल में उत्तर भारत में दीवान टोडरमल द्वारा भू-राजस्व वसूली की व्यवस्थित पद्धति स्थापित की गई थी, लेकिन दक्कन में इस प्रकार की व्यवस्थित पद्धति का अभाव था। इस दौरान दक्कन के किसान प्रति हल (हल की संख्या) के आधार पर राज्य को भू-राजस्व का भुगतान करते थे।




105. निम्न में से कौन-सा विशालतम हिमनद है?
(a) सासाइनी
(b) गंगोत्री
(c) जेमू
(d) सियाचिन
उत्तर-(d)

विकल्प में दिए गए हिमनदों की लंबाई National Snow and Ice Data Center के अनुसार निम्न है।
हिमनद स्थान लंबाई (किमी. में)
सासाइनी
गंगोत्री
जेमू
सियाचिन
काराकोरम
उत्तराखंड
सिक्किम/नेपाल
काराकोरम
17.85
26
5
76
Geological Survey of  India (Vol-63 में पेज नं. 260) के अनुसार,  ध्रुवों के अतिरिक्त दूसरा सबसे बड़ा ग्लेशियर सियाचिन है तथा इसी दृष्टि से विश्व का सबसे बड़ा ग्लेशियर फेड चेन्को ग्लेशियर (Fed Chenko Glaciar) है, जो कि पामीर क्षेत्र में स्थित है। अतः स्पष्ट है कि दिए गए विकल्पों में सियाचिन ग्लेशियर सबसे बड़ा होगा।
UPPCS Solved-2017

131. निम्नलिखित में से किसका मस्तिष्क उसके शरीर के अनुपात में सबसे बड़ा होता है?
(a) चींटी
(b) हाथी
(c) डॉलफिन
(d) मानव
उत्तर-(a)
दिए गए विकल्पों में से चींटी का मस्तिष्क उसके शरीर के अनुपात में सबसे बड़ा होता है।
UPPCS Solved - 2017
Link-1
Link-2
Link-3
Link-4

142. टेलीविजन दर्शक डिश एंटिना प्रयुक्त करते हुए बरसात में उपग्रह सिग्नल नहीं प्राप्त करते क्योंकि-
1. एंटिना छोटे होते हैं।
2. वर्षा की बूंदें रेडियो तरंगों की ऊर्जा अवशोषित करती हैं।
3. वर्षा की बूंदें रेडियो तरंगों की ऊर्जा की मूल दिशा को विचलित करती हैं।
उपरोक्त कथनों में से कौन सही हैं?
(a) केवल 1
(b) केवल 1 और 2
(c) केवल 2 और 3
(d) 1, 2 और 3
उत्तर-(d)

बरसात में रेडियो तरंगें वर्षा की बूंदों से टकराकर आंशिक रूप से या पूर्णत उष्मीय ऊर्जा में परिवर्तित हो जाती हैं और बूंदों द्वारा अवशोषित कर ली जाती हैं। वर्षा की बूंदें रेडियो तरंगों की ऊर्जा की मूल दिशा को विचलित करने में भी सक्षम होती हैं। अतः इन कारणों से बरसात में उपग्रह सिग्नल प्राप्त करने में कठिनाई होती है। वर्षा के समय रेडियो सिग्नल कमजोर (weakened) हो जाते हैं, जिन्हें छोटे डिश एंटीना ग्रहण नहीं कर पाते।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

1 thought on “UPPCS प्रांरभिक परीक्षा-2017 प्रथम प्रश्न पत्र घटनाचक्र प्रकाशन द्वारा जारी उत्तरों का प्रमाण”

Comments are closed.