Contact Us: 0532-2465524, 25, M.-9335140296    
E-mail : ssgcpl@gmail.com

प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना

October 30th, 2017
Prime Minister, Sahitya electricity every household power scheme
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

  • शुभारंभ
    25 सितंबर, 2017 को पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जयंती के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नई दिल्ली में ‘प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना’ (सौभाग्य) का शुभारंभ किया।
  • उद्देश्य
    सौभाग्य योजना का उद्देश्य देश के ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रों में सभी घरों का विद्युतीकरण (Electrification) सुनिश्चित करना है।
  • इस योजना के तहत ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में सभी गैर-विद्युतीकृत घरों में विद्युत कनेक्शन सुलभ कराया जाएगा ताकि देश में सभी घरों तक बिजली पहुंचाने के लक्ष्य को हासिल किया जा सके।
  • लाभार्थी
  • इस योजना के तहत गरीब परिवारों को निःशुल्क विद्युत कनेक्शन उपलब्ध कराए जाएंगे।
  • निःशुल्क विद्युत कनेक्शन हेतु लाभार्थियों का चयन वर्ष 2011 की ‘सामाजिक, आर्थिक एवं जाति जनगणना (SECC : Socio Economic & Caste Census) के आंकड़ों के आधार पर किया जाएगा।
  • गरीब परिवारों के अतिरिक्त, अन्य गैर-विद्युतीकृत घरों को इस योजना के तहत 500 रु. के भुगतान पर विद्युत कनेक्शन उपलब्ध कराए जाने का प्रावधान है।
  • इस राशि की वसूली डिस्कॉम/विद्युत विभागों द्वारा विद्युत बिलों के साथ 10 किस्तों मे की जाएगी।
  • इस योजना में किसी भी श्रेणी के उपभोक्ताओं को मुफ्त बिजली मुहैया कराने का कोई प्रावधान नहीं है।
  • खपत की गई बिजली की कीमत का भुगतान संबंधित उपभोक्ताओं को डिस्कॉम/विद्युत विभाग की तात्कालिक शुल्क दरों के अनुसार करना होगा।
  • परिव्यय
  • इस परियोजना के लिए कुल परिव्यय (Total Outlay) 16,320 करोड़ रुपये है, जिसमें से 12,320 करोड़ रुपये सकल बजट सहयोग (GBS) के रूप में प्रदान किया जाएगा।
  • ग्रामीण क्षेत्रों के लिए परिव्यय 14,025 करोड़ रुपये (सकल बजट सहयोग 10,587.50 करोड़ रुपये) है।
  • शहरी क्षेत्रों के लिए परिव्यय 2,295 करोड़ रुपये (सकल बजट सहयोग 1732.50 करोड़ रुपये) है।
  • कवरेज
  • वर्तमान में देश में गैर-विद्युतीकृत घरों की संख्या लगभग 4 करोड़ है।
  • इनमें से ग्रामीण क्षेत्रों में गरीबी रेखा से नीचे स्थित लगभग 1 करोड़ परिवारों को पहले ही दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना (DDUGJY) के अंतर्गत कवर किया जा चुका है।
  • इस प्रकार शेष 3 करोड़ गैर-विद्युतीकृत घरों (ग्रामीण क्षेत्रों में 2.5 करोड़ घर एवं शहरी क्षेत्रों में 50 लाख घर) को इस योजना के अंतर्गत कवर किया जाना प्रस्तावित है।
  • परिचालन
  • भारत सरकार का एक नवरत्न उद्यम ‘रूरल इलेक्ट्रीफिकेशन कॉर्पोरेशन लिमिटेड’ (REC) पूरे देश में इस योजना के परिचालन के लिए नोडल एजेंसी होगी।
  • नई योजना की आवश्यकता
  • उल्लेखनीय है कि विद्युत वितरण हेतु ग्रामीण क्षेत्रों में ‘दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना’ तथा शहरी क्षेत्रों में ‘इंटीग्रेटेड पॉवर डेवलपमेंट स्कीम’ (IPDS) का कार्यान्वयन पहले ही किया जा रहा है।
  • दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना ग्रामीण क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति की गुणवत्ता तथा विश्वसनीयता में सुधार हेतु बुनियादी विद्युत ढांचे के सृजन, मौजूदा ढांचे की मजबूती एवं विस्तार आदि पर केंद्रित है।
  • इसी तरह, शहरी क्षेत्रों में आईपीडीएस के तहत बिजली सुविधा मुहैया कराने के लिए आवश्यक बुनियादी ढांचा स्थापित किया जाता है।
  • हालांकि इसके बावजूद अभी भी बहुत से ऐसे परिवार शेष हैं, जिन्हें विद्युत कनेक्शन नहीं मिल पाए हैं, क्योंकि वे अपनी निम्न आर्थिक स्थिति के कारण आरंभिक कनेक्शन शुल्क अदा करने में सक्षम नहीं हैं।
  • उल्लेखनीय है कि दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के तहत केवल उन बीपीएल परिवारों को मुफ्त बिजली कनेक्शन मुहैया कराए जाते हैं, जिनकी पहचान राज्यों द्वारा अपनी सूची के अनुसार की जाती है।
  • हालांकि कुछ ऐसे अत्यंत गरीब परिवार भी हैं जिनके पास बीपीएल कार्ड नहीं हैं जिसके कारण उन्हें मुफ्त बिजली कनेक्शन सुलभ नहीं है।
  • इन सभी कमियों को दूर करने तथा ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में सभी गैर-विद्युतीकृत परिवारों को बिजली कनेक्शन मुहैया कराने हेतु ‘सौभाग्य’ योजना का शुभारंभ किया गया है।
  • योजना के अपेक्षित परिणाम
  • रोशनी के लिए केरोसिन का प्रयोग न करने से पर्यावरण में सुधार
  • शैक्षणिक गतिविधियों में प्रगति
  • उत्तम स्वास्थ्य सेवाएं
  • रेडियो, टेलीविजन, मोबाइल इत्यादि के माध्यम से बेहतर कनेक्टिविटी
  • आर्थिक गतिविधियों एवं रोजगार में वृद्धि
  • महिलाओं सहित सभी के जीवन स्तर में सुधार।

लेखक-सौरभ मेहरोत्रा


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •