Contact Us: 0532-2465524, 25, M.-9335140296    
E-mail : ssgcpl@gmail.com

पं. दीन दयाल उपाध्याय विज्ञान ग्राम संकुल परियोजना

October 27th, 2017
Pandit Deendayal Upadhyay gram sankul Project uttarakhand

उत्तराखंड के ग्रामीण क्षेत्रों के उन्नयन और आर्थिक विकास के लिए भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने 22 सितंबर, 2017 को ‘पं. दीन दयाल उपाध्याय विज्ञान ग्राम संकुल परियोजना’ का शुभारंभ किया। परियोजना का उद्देश्य विषम भौगोलिक परिस्थितियों वाले राज्य उत्तराखंड में तकनीकी के बल पर गांवों को आत्मनिर्भर बनाना और रोजगार सृजन है।

  • उत्तराखंड में क्लस्टर दृष्टिकोण के माध्यम से सतत् विकास के लिए आवश्यक वैज्ञानिक विधियों और यंत्रों के प्रयोग पर जोर दिया जाएगा।
  • उल्लेखनीय है कि यह परियोजना केंद्र सरकार की परियोजना है।
  • यह परियोजना उत्तराखंड के गांवों को आत्मनिर्भर बनाने तथा रोजगार की तलाश में हो रहे पलायन को रोकने में मदद करेगी।
  • यह परियोजना उत्तराखंड के चार क्लस्टरों गैंडीखाता, बजीरा, भिगुन, कौसानी के 60 गांवों में कार्यान्वित की जाएगी।
  • इस परियोजना के कार्यान्वयन की जिम्मेदारी ‘उत्तराखंड स्टेट काउंसिल ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी’ की है।
  • इस परियोजना के माध्यम से स्थानीय उत्पाद जैसे-दूध, शहद, मशरूम, हर्बल चाय, वनोत्पाद आदि का प्रसंस्करण करके मूल्य वृद्धि की योजना है।
  • परियोजना को पूर्णतया लागू करने के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा तीन वर्ष का समय दिया जाएगा।
  • परियोजना के लिए केंद्र सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा 6.3 करोड़ रुपये की सहायता दी जाएगी।
  • परियोजना के पायलट चरण का उत्तराखंड में प्रयोग सफल होने पर इसे अन्य पहाड़ी राज्यों में भी लागू करने की योजना है।

लेखक पवन तिवारी

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •