Contact Us: 0532-2465524, 25, M.-9335140296    
E-mail : ssgcpl@gmail.com

क्यूआरएसएएम मिसाइल का सफल परीक्षण

July 27th, 2017
Successful test of QRSAM missile
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

अप्रैल, 2016 में ‘भारत डायनामिक्स लिमिटेड’ (BDL)और ‘रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन’ (DRDO) के मध्य एक समझौते के तहत दोनों संगठनों द्वारा संयुक्त रूप से स्वदेशी ‘त्वरित प्रतिक्रिया सतह से वायु मिसाइल’ (QRSAM : Quick Reaction Surface to Air Missile) का डिजाइन एवं विकास तथा उत्पादन किया जाना प्रस्तावित है। मिसाइल का डिजाइन एवं विकास रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन द्वारा जबकि उत्पादन भारत डायनामिक्स लिमिटेड द्वारा किया जाएगा। DRDO द्वारा हाल ही में क्यूआरएसएएम (QRSAM) मिसाइल का सफल परीक्षण किया गया।

  • 3 जुलाई, 2017 को ‘त्वरित प्रतिक्रिया सतह से वायु मिसाइल’ (QRSAM) का सफल परीक्षण किया गया।
  • मिसाइल का परीक्षण ओडिशा स्थित ‘एकीकृत परीक्षण रेंज’ (ITR), चांदीपुर के कॉम्प्लेक्स-3 से ट्रक पर लगे हुए (Truk-Mounted) कनस्तर (Canister) लांचर से किया गया।
  • क्यूआरएसएएम मिसाइल का यह दूसरा विकासात्मक परीक्षण था।
  • उल्लेखनीय है कि मिसाइल का पहला विकासात्मक परीक्षण 4 जून, 2017 को ओडिशा स्थित ‘एकीकृत परीक्षण रेंज’ (ITR) से किया गया था।
  • क्यूआरएसएएम लघु दूरी की मिसाइल है जो एक साथ कई लक्ष्यों को भेद सकती है।
  • यह कनस्तर आधारित उच्च गति की पहली स्वदेशी मिसाइल है।
  • यह मिसाइल लड़ाकू विमानों, कम दूरी की मिसाइलों और क्रूज मिसाइलों को नष्ट कर सकती है।
  • मिसाइल की मारक क्षमता 30 किमी. है।
  • यह नाभिकीय एवं जैविक हथियार ले जाने में सक्षम है।
  • मिसाइल में संलग्न ‘रात्रि दृष्टि उपकरण’ (Night Vision Devices) और परिष्कृत नेवीगेशन प्रणाली इसकी मारक क्षमता में वृद्धि करते हैं।
  • क्यूआरएसएएम हथियार प्रणाली आसानी से परिवहन योग्य है और इसे कठोर वातावरण में भी तैनात किया जा सकता है।
  • यह एक ट्रक पर संलग्न (Truck-Mounted) मिसाइल प्रणाली है जिसमें 360o घूमने में सक्षम, इलेक्ट्रो-मशीनी (Electro-Mechanically) तौर पर संचालित एवं बुर्ज-आधारित (Turret-Based) प्रक्षेपण यूनिट है।
  • क्यूआरएसएएम त्वरित प्रतिक्रिया, सभी मौसम में कार्य करने में सक्षम और नेटवर्क केंद्रित ‘सर्च-ऑन-द-मूव’ (Search-on-the Move) मिसाइल प्रणाली है

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •