Contact Us: 0532-2465524, 25, M.-9335140296    
E-mail : ssgcpl@gmail.com

आईएनएस सतपुड़ा और आईएनएस कदमत्त की जापान यात्रा

November 30th, 2017
INS Satpura and INS Kadakt's Japan Tour
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

भारत की ‘ऐक्ट ईस्ट पॉलिसी’ (Act East Policy) के अनुसरण में भारतीय नौसेना के दो युद्धपोत-आईएनएस सतप़ुडा (INS Satpura) और आईएनएस कदमत्त (INS Kadmatt)-8 सितंबर, 2017 को विशाखापत्तनम से पूर्वी एवं दक्षिण-पूर्वी एशिया की यात्रा के लिए रवाना हुए थे। दोनों युद्धपोतों ने सिंगापुर, इंडोनेशिया, मलेशिया, थाईलैंड, वियतनाम, कंबोडिया, फिलीपींस, दक्षिण कोरिया, जापान, ब्रुनेई और रूस के 12 बंदरगाहों की यात्रा की।

  • 12-15 अक्टूबर, 2017 के मध्य भारतीय नौसेना के पूर्वी बेड़े (Eastern Fleet) के दो युद्धपोत आईएनएस सतपुड़ा और आईएनएस कदमत्त ने सासेबो (Sasebo), जापान की यात्रा की।
  • दोनों युद्धपोतों की यह यात्रा हिंद-प्रशांत क्षेत्र (Indo-Pacific Region) में शांति एवं स्थायित्व के प्रति भारत की प्रतिबद्धता के प्रदर्शन और भारत की ‘ऐक्ट ईस्ट पॉलिसी’ के अनुसरण में की गई।
  • भारतीय युद्धपोतों की जापान यात्रा भारत एवं जापान के मध्य दीर्घकाल से स्थायी, परस्पर सहायक और सुदृढ़ संबंधों को मजबूत करने के लिए भारत सरकार की पहल का हिस्सा है।
  • भारत एवं जापान के मध्य ऐतिहासिक संबंध सांस्कृतिक, आध्यात्मिक, आर्थिक एवं सुरक्षा के क्षेत्र में विस्तृत हैं।
  • यात्रा के दौरान भारतीय युद्धपोत ‘जापान मेरीटाइम सेल्फ डिफेंस’ (JMSDF-Japan Maritime Self Defence Force) के साथ औपचारिक, पेशेवर, सामाजिक और खेल अभ्यास में शामिल हुए।
  • बंदरगाह चरण के पूरा होने के पश्चात भारतीय युद्धपोत जापान के मुरुसामे (Murusame) श्रेणी के विध्वंसक युद्धपोत जेएस किरिसामे (JS Kirisame) के साथ ‘पैसेज एक्सरसाइज (PASSEX : Passage Exercise) में शामिल हुए।
  • नवंबर, 2008 में भारत एवं जापान के मध्य पहली ‘नेवी टू नेवी स्टाफ टाक्स’ (Navy to Navy Staff Talks) के बाद से नौसैन्य संबंध द्विपक्षीय और बहुपक्षीय अभ्यासों के साथ नई ऊंचाइयों पर पहुंच गए हैं।
  • दोनों देशों की नौसेनाओं के मध्य सूचना आदान-प्रदान, मौसम विज्ञान एवं समुद्री विज्ञान, आपदा प्रबंधन और सैन्य प्रशिक्षण के क्षेत्र में सहयोग में वृद्धि हुई है।
  • नियमित द्विपक्षीय और बहुपक्षीय समुद्री अभ्यास मजबूत नौसैन्य संबंधों का मजबूत आधार रहा है।
  • जापान-भारत समुद्री अभ्यास (JIMEX : Japan India Maritime Exercise) ने वर्ष 2014 से मालाबार अभ्यास (भारत, अमेरिका एवं जापान का त्रिपक्षीय अभ्यास) में जापान की भागीदारी को आधार प्रदान किया।
  • जुलाई, 2017 में चेन्नई में आयोजित अभ्यास मालाबार, 2017 में जापान मेरीटाइम सेल्फ डिफेंस फोर्स (JMSDF) के युद्धपोत इजुमो (Izumo) और सजनामी (Sazanami) शामिल हुए।
  • फरवरी, 2016 में विशाखापत्तनम में आयोजित ‘अंतरराष्ट्रीय बेड़ा समीक्षा’ (IFR) में जापानी युद्धपोत जेएस मात्सुयुकी (JS Matsuyuki) ने भागीदारी की थी, जबकि भारतीय युद्धपोत आईएनएस सह्याद्रि (INS Sahyadri) अक्टूबर, 2015 में योकोसुका (Yokosuka) में आयोजित अंतरराष्ट्रीय बेड़ा समीक्षा में शामिल हुआ था।
  • गौरतलब है कि अपनी यात्रा के दौरान भारतीय युद्धपोत आईएनएस सतपुड़ा और आईएनएस कदमत्त आसियान (ASEAN : Association of South East Asian Nations) द्वारा थाईलैंड में आयोजित ‘अंतरराष्ट्रीय बेड़ा समीक्षा’ (IFR) में शामिल हुए।
  • दोनों भारतीय युद्धपोत मलेशिया में आयोजित ‘मानवीय सहायता एवं आपदा राहत’ (HADR : Humanitarian Assistance and Disaster Relief) अभ्यास और रूस में आयोजित भारत-रूस द्विपक्षीय अभ्यास ‘इंद्र’ में शामिल हुए।
  • दोनों युद्धपोतों ने भारत-आसियान वार्ता की 25वीं वर्षगांठ की स्मृति में सिंगापुर, वियतनाम, फिलीपींस, कंबोडिया और ब्रुनेई की यात्रा की।

लेखक-नीरज ओझा


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •