सम-सामयिक घटना चक्र | Railway Solved Paper Books | SSC Constable Solved Paper Books | Civil Services Solved Paper Books
Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

नवीकरणीय ऊर्जा में निवेश की वैश्विक प्रवृत्तियां, 2016

Global trend of investment in renewable energy

नवीकरणीय ऊर्जा, ऊर्जा का वह रूप है जो न तो प्रदूषण कारक है और न ही इसका प्राकृतिक संसाधनों पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। नवीकरणीय ऊर्जा में शामिल हैं- सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा, जल विद्युत ऊर्जा, ज्वारीय ऊर्जा, बायोमास, जैव ईंधन आदि। वैश्विक स्तर पर स्वीकृत ‘17 सतत विकास लक्ष्यों’ में 7वें लक्ष्य के रूप में वर्ष 2030 तक वैश्विक ऊर्जा में नवीकरणीय ऊर्जा की हिस्सेदारी बढ़ाने और सस्ती, विश्वसनीय एवं आधुनिक ऊर्जा सेवाओं तक सार्वभौम पहुंच सुनिश्चित किए जाने की बात कही गई है। साथ ही संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा ‘2014-2024’ के दशक को ‘सभी के लिए सतत ऊर्जा का संयुक्त राष्ट्र दशक’ घोषित किया गया है। भारत सरकार द्वारा वर्ष 2022 तक 175 गीगावॉट का नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता का लक्ष्य निर्धारित किया गया है जिसमें सौर ऊर्जा से 100 गीगावॉट, पवन ऊर्जा से 60 गीगावॉट, बायो-पॉवर (Bio-Power) से 10 गीगावॉट और लघु जल विद्युत परियोजनाओं से 5 गीगावॉट शामिल है।
‘संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम’ (UNEP) द्वारा प्रति वर्ष वैश्विक स्तर पर नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में निवेश पर रिपोर्ट जारी की जाती है। हाल ही में यूएनईपी द्वारा ‘नवीकरणीय ऊर्जा में निवेश की वैश्विक प्रवृत्तियां, 2016’ रिपोर्ट जारी की गई।

  • 24 मार्च, 2016 को ‘संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम’ (UNEP) द्वारा ‘नवीकरणीय ऊर्जा में निवेश की वैश्विक प्रवृत्तियां, 2016’ रिपोर्ट जारी की गई।
  • यह नवीकरणीय ऊर्जा में निवेश की वैश्विक प्रवृत्तियों पर संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम के वार्षिक प्रकाशन का 10वां संस्करण है।
  • यह रिपोर्ट फ्रैंकफर्ट स्कूल – जलवायु एवं सतत ऊर्जा वित्त यूएनईपी सहयोग केंद्र और ब्लूमबर्ग नवीन ऊर्जा वित्त (BNEF) द्वारा तैयार की गई है।
  • रिपोर्ट के अनुसार, बड़ी पनबिजली परियोजनाओं को छोड़कर वर्ष 2015 में नवीकरणीय ऊर्जा में 5 प्रतिशत वृद्धि के साथ 285.9 बिलियन डॉलर का रिकॉर्ड वैश्विक निवेश हुआ जो कि वर्ष 2011 के पिछले रिकॉर्ड 278.5 बिलियन डॉलर से अधिक है।
  • वर्ष 2015 में पवन एवं सौर फोटोवोल्टिक की उत्पादन क्षमता में 110 गीगावॉट की वृद्धि हुई जो कि वर्ष 2014 के 94 गीगावॉट से अधिक है।
  • वर्ष 2015 में बड़ी पनबिजली परियोजनाओं को छोड़कर सभी तकनीकी स्थापित गीगावॉट क्षमता का 56.3 प्रतिशत नवीकरणीय है।
  • नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता में वैश्विक निवेश वर्ष 2015 में 265.8 बिलियन डॉलर था जो कि नवीन कोयला एवं गैस उत्पादन के अनुमानित आवंटन 130 बिलियन डॉलर के दोगुने से अधिक था।
  • नवीन स्वच्छ प्रौद्योगिकी का वर्ष 2015 में वैश्विक ऊर्जा में योगदान केवल 10 प्रतिशत से अधिक था जिससे वर्ष 2015 में 1.5 गीगाटन कार्बन डाईऑक्साइड उत्सर्जन कम हुआ।
  • वर्ष 2015 में पहली बार बड़ी पनबिजली परियोजनाओं को छोड़कर विकासशील देशों में नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में निवेश विकसित देशों से अधिक हुआ।
  • चीन, भारत एवं ब्राजील समेत विकासशील देशों ने वर्ष 2015 में नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में 156 अरब डॉलर का निवेश किया जो कि वर्ष 2014 के निवेश से 19 प्रतिशत अधिक है।
  • विकासशील देशों का उपर्युक्त निवेश वर्ष 2015 के विकसित देशों के 130 बिलियन डॉलर के निवेश से 8 प्रतिशत अधिक है।
  • वर्ष 2015 में नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में चीन का निवेश 17 प्रतिशत बढ़कर 102.9 बिलियन डॉलर था जो कि विश्व के कुल निवेश का 36 प्रतिशत था।
  • भारत का नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में निवेश वर्ष 2015 में 22 प्रतिशत बढ़कर 10.2 बिलियन डॉलर था।
  • वर्ष 2015 में चीन एवं भारत के बाद वर्ष 2015 में नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में निवेश करने वाले 10 देशों में शामिल क्रमशः हैं- अन्य देश ब्राजील (7.1 बिलियन डॉलर), दक्षिण अफ्रीका (4.5 बिलियन डॉलर), मेक्सिको (4 बिलियन डॉलर) एवं चिली (3.4 बिलियन डॉलर)।
  • नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में वर्ष 2015 में 500 मिलियन डॉलर से अधिक का निवेश करने वाले अन्य विकासशील देश हैं- मोरक्को, उरुग्वे, फिलीपींस, पाकिस्तान एवं होन्डुरास।
  • यूरोप में नवीकरणीय ऊर्जा में वर्ष 2015 में निवेश 21 प्रतिशत कम होकर 48.8 बिलियन डॉलर हुआ जबकि वर्ष 2015 में यूरोप में अपतटीय पवन ऊर्जा में निवेश 11 प्रतिशत बढ़कर 17 बिलियन डॉलर था।
  • सं.रा. अमेरिका में वर्ष 2015 में नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में निवेश 19 प्रतिशत बढ़कर 44.1 बिलियन डॉलर था।
  • वर्ष 2015 में जापान में अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में निवेश 36.2 बिलियन डॉलर था।
  • नवीकरणीय ऊर्जा उत्पादन लागत में, विशेष रूप से सौर फोटोवोल्टिक में, गिरावट जारी है।
  • वर्ष 2015 की दूसरी छमाही में क्रिस्टलीय सिलिकॉन पीवी की बिजली की औसत वैश्विक लागत 122 डॉलर प्रति MWh थी जो कि वर्ष 2014 की समान अवधि के 143 डॉलर से कम है।
  • नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में सार्वजनिक बाजार निवेश वर्ष 2015 में 12.8 बिलियन डॉलर था जो कि वर्ष 2014 से 21 प्रतिशत कम है।

लेखक-नीरज ओझा