Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

दक्षिण कोरिया में अमेरिकी मिसाइल योजना

In South Korea, the US missile plan

हाल ही में संपन्न चौथे परमाणु सुरक्षा शिखर सम्मेलन में परमाणु हथियारों का प्रसार व आतंकी गुटों का परमाणु सामग्री तक पहुंच वैश्विक समुदाय के समक्ष सबसे बड़ी चुनौती माना गया है। इस शिखर सम्मेलन में उत्तर कोरिया द्वारा लगातार किया जा रहा मिसाइल परीक्षण एवं इस्लामिक स्टेट का तीव्र प्रसार वैश्विक शांति एवं सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा बताया गया है। इस्लामिक स्टेट का प्रसार अफगानिस्तान व पाकिस्तान तक हो चुका है इसलिए परमाणु सामग्री की सुरक्षा को लेकर चिंता बढ़ गई है। उत्तर कोरिया इस वर्ष के आरंभ से ही लगातार परमाणु व मिसाइल परीक्षण कर रहा है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा उत्तर कोरिया के इस गैर-जिम्मेदार कृत्य के लिए अब तक का सबसे बड़ा आर्थिक प्रतिबंध लगाया गया है। उत्तर कोरिया ने इस प्रतिबंध को नजर अंदाज कर अपनी सेना को परमाणु हमले के लिए तैयार रहने का आदेश दिया है। उत्तर कोरिया के इस आक्रामक रुख के कारण अमेरिका ने दक्षिण कोरिया व जापान की सुरक्षा के लिए दक्षिण कोरिया में मिसाइल रक्षा कवच की स्थापना की घोषणा की है। अमेरिका के इस फैसले का रूस व चीन ने कड़ा विरोध किया है। रूस व चीन इस मिसाइल रक्षा कवच को अपने सामरिक सुरक्षा हितों के खिलाफ मान रहे हैं। पूर्वी एशियाई क्षेत्रों में इन गतिविधियों से तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई है एवं परमाणु अप्रसार नीति पर नकारात्मक असर पड़ने की आशंका है।

  • 6 जनवरी, 2016 को उत्तर कोरिया ने चौथा परमाणु परीक्षण किया और तथाकथित इस परीक्षण को हाडड्रोजन बम का परीक्षण करने का दावा किया।
  • अब तक उत्तर कोरिया द्वारा चार बार परमाणु परीक्षण किया गया है। ये परीक्षण वर्ष 2006, 2009, 2013 व 2016 में किए गए।
  • उत्तर कोरिया द्वारा जनवरी, 2016 के बाद मिसाइलों का लगातार परीक्षण किया जा रहा है।
  • उत्तर कोरिया के इस गैर-जिम्मेदार रवैये के कारण संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद व अमेरिका द्वारा कठोर आर्थिक प्रतिबंध लगाया गया है।
  • उत्तर कोरिया के इस आक्रामक रुख को देखते हुए दक्षिण कोरिया एवं अमेरिका के बीच सुरक्षा को लेकर गहरी चिंता व्यक्त की गई है।
  • अमेरिका ने दक्षिण कोरिया एवं जापान की सुरक्षा के मद्देनजर दक्षिण कोरिया में मिसाइल रक्षा प्रणाली लगाने की घोषणा की है।
  • अमेरिका दक्षिण कोरिया में थाड (THAAD) बैलिस्टिक मिसाइल रक्षा प्रणाली लगाने की तैयारी में है।
  • THAAD (Terminal High Altitude Area Defence) लघु एवं मध्यम दूरी की मिसाइलों से रक्षा करने वाली प्रणाली है।
  • इस रक्षा प्रणाली का विकास सैनिकों, मित्र सेनाओं, नागरिकों एवं आधारभूत ढांचे की सुरक्षा के लिए किया गया है।
  • इस रक्षा प्रणाली का विकास अमेरिका की प्रमुख कंपनी लाकहीड मार्टिन ने किया है।
  • थाड प्रणाली में पांच प्रमुख घटक शामिल हैं लांचर, इंटरसेप्टर, राडार, अग्निशमन इकाई एवं विशिष्ट सपोर्टिंग उपकरण।
  • यह रक्षा प्रणाली दुश्मन मिसाइलों को पृथ्वी के वातावरण एवं उसके बाहर दोनों स्थितियों में नष्ट करने में सक्षम है।
  • इसमें मिसाइलों को नष्ट करने के लिए गतिज ऊर्जा का प्रयोग किया जाता है।
  • थाड भूमि आधारित बैलिस्टिक मिसाइल रक्षा प्रणाली है।
  • उल्लेखनीय है कि उत्तर कोरिया वर्ष 2003 में NPT संधि से अलग हो गया। उत्तर कोरिया CTBT संधि से भी नहीं जुड़ा है। इसीलिए अपने को परमाणु परीक्षण न करने के लिए बाध्य नहीं मान रहा है।

लेखक-आश नारायण मिश्रा